नर्मदा उफान पर, बढ़ा जलस्तर, तटों में पहुंचे लोग

जिले में लगातार हो रही बारिश

By: ayazuddin siddiqui

Published: 24 Jun 2020, 06:03 PM IST

डिंडोरी. जिला मुख्यालय सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों सहित पहाडी इलाको में पिछले दिनों से लगातार बारिश हो रही है। जिसके कारण पूरा नगर तर बतर हो गया हैं वहीं नदी नाले उफान पर हैं। साथ ही नर्मदा का जलस्तर भी तेजी से बढ़ा है।
मंगलवार की दोपहर अचानक नर्मदा में बाढ़ के आसार दिखने लगे और देखते ही देखते जल स्तर बढ़ गया। बरसात में पहली बार नर्मदा में आई बाढ़ को देखने बड़ी संख्या में लोगों का हुजूम घाटों पर लग गया। छोट-छोटे बच्चे भी घाटों में आए जल के साथ अठखेलियां करते नजर आए।
तीन कर्मचारी तैनात
अचानक बढ़े जलस्तर और आई हुई बाढ़ को देखने के लिए जहां घाटों में लोगों का जमावड़ा लग गया। वहीं सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन के द्वारा गठित आपदा प्रबंधन दल के कोई भी कर्मचारी डेम घाट में नजर नहीं आए। शहर के बीच बने नर्मदा पुल पर भी लोगों का जमावड़ा देखा गया। जहां बचाव दल का एक कर्मचारी ड्यूटी पर दिखाई दिया। बात करने पर पता चला कि कुल 3 लोगों की ड्यूटी लगाई गई है। खास बात यह है कि नर्मदा के दोनों तटों में दर्जनों ऐसे घाट हैं, जहां पर लोगों का एकत्रित होना आम बात है। महज 3 लोगों के सहारे घाटों की सुरक्षा कैसे संभव हो सकती है। बहरहाल पहली बार आई बाढ़ का लोगो ने जमकर लुत्फ उठाया।
सोनतीर्थ के आस-पास के क्षेत्र जलमग्न
गोपालपुर के आस पास लगातार हो रही बरसात से पहाड़ों का पानी नदी नालों में भरने लगा है। छोटी नदी नालों में बाढ़ जैसे हाल बन रहे है। खेतों में पानी भर चुका है, भारी बरसात से नये बने खेतों की मेड़ टूट रही है। सोमवार रात से शुरू हुई बरसात मंगलवार सुबह तक जारी रही और पूरा जंगलों से भरा क्षेत्र जलमग्न दिखाई दे रहा है। सामान्य जनजीवन और रोज़मर्रा की आवाजाही थमी सी रही। सोनतीर्थ नदी जो कि छत्तीसगढ़ मध्यप्रदेश की सीमा पर स्थित बगलादादर से निकलती है। पहाड़ों का पानी समेटे आसपास के क्षेत्रों में बाढ़ का नजारा दिखा रही है। जंगलों के बीच से गुजरती सोनतीर्थ नदी से बरसात मे लोगो को आवाजाही में परेशानी होती हैं। आसपास के जंगलों से पूरा पानी समेट कर चलने वाली इस नदी में बरसात होते ही बाढ़ की स्थिति बन जाती है। सोनतीर्थ नदी के तरवर टोला, खारीडीह में इसी नदी के पुल पर दोनो तरफ रिटर्नवाल की आवश्यकता है। जिसका अभी तक निर्माण नहीं हुआ। रिटर्नवाल के निर्माण न होने की वजह से बरसात में पुल को क्षति पहुंचने की संभावना बढ़ गई है। जिससे पुल टूट भी सकता है। जिससे आने वाले समय में इस क्षेत्र के कई ग्रामों के लोगो को आवाजाही में परेशानी उठानी पड़ेगी।

Show More
ayazuddin siddiqui
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned