scriptOnly after worshiping Chandi Mata, they do shopping in Madhai, invite | चंडी माता की पूजा के बाद ही करते हैं मढ़ई में खरीदारी, संबंधितों को पधारने देते हैं निमंत्रण | Patrika News

चंडी माता की पूजा के बाद ही करते हैं मढ़ई में खरीदारी, संबंधितों को पधारने देते हैं निमंत्रण

उत्सव सा दिखा माहौल, झूला झूलने उमड़ी भीड़, वाद्य यंत्रों के साथ मढ़ई पहुंचे ग्वाल

डिंडोरी

Updated: February 21, 2022 12:22:38 pm

डिंडोरी/गोरखपुर. करंजिया विकासखंड अंतर्गत कस्बा गोरखपुर में दो दिवसीय मढ़ई मेले के आयोजन में रविवार को प्रथम दिवस कस्बा में चारों ओर उल्लास छाया रहा। इस बार स्थानीय नागरिकों के बीच मढ़ई को लेकर अधिक उत्साह देखने मिला। रविवार को मेला में घूमने फिरने एवं खरीदारी करने आसपास के गांवों से लोगों की भीड़ उमड़ी। ग्रामीणों ने मढ़ई में सजे दुकानों से विभिन्न प्रकार की सामग्री वस्तु की खरीददारी में खुद को व्यस्त रखा तो भीड़ का आधा हिस्सा झूलों के इर्दगिर्द नजर आया। बिजली के झूले नहीं होने की वजह से झूला प्रेमियों में निराशा भी देखने मिली। मढ़ई के मौके पर स्थानीय नागरिकों ने अपने परिजनों मित्रों सहित सगे संबंधियों के आगमन पर अपने अपने घरों में स्वागत करने के लिए घरों की साफ सफाई व रंग रोगन कर सजावट कर नाना प्रकार के व्यंजन बनाए। रविवार को मढ़ई के आगमन और बाजार परिसर में भ्रमण के बाद पंडा द्वारा चंडी माता की विधिवत पूजा अर्चना कर माता से मनोकामना की पूर्ति की प्रार्थना के बाद लोगों ने खरीदारी की। इस दौरान परम्परागत वेश भूषा में कलाकारों ने अहीर नृत्य कर दर्शकों का मनमोहा। यहां भारतीय संस्कृति एवं ग्रामीण परिवेश की अद्भुत झलक देखने को मिली। ग्रामीण क्षेत्रों में लगने वाले मढ़ई मेले के अवसर पर यह दिन क्षेत्रवासियों के लिए बड़े पर्व की तरह होता हैं क्षेत्र के लोग इस दिन को खास बनाने के लिए तरह तरह के जतन करते हैं। खासकर अपने सगे संबंधियों को सूचित कर मढ़ई में पधारने का निमंत्रण देकर बुलाया जाता हैं। प्रत्येक घरों में विशेष प्रकार के व्यंजन बनाकर मेहमानों के साथ खुशी खुशी मिलकर और भेंट करने के बाद भोजन का आनंद उठाते हैं। रविवार को कस्बा में कुछ इसी तरह के दृश्य देखने मिलें जहां सभी आयु वर्ग के लोग सारी बातों को भुलाकर रविवार से मौज मस्ती के बीच उमंग और उत्साह के साथ मढ़ई के रंग में रंगे रहें। मढ़ई के प्रथम दिवस से कस्बा के अंदर किसी बड़े उत्सव के जैसा माहौल निर्मित है। यहां की मढ़ई स्थानीय नागरिकों के द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। लगभग बुधवार तक इसी तरह का माहौल बना रहेगा दरअसल मढ़ई की परंपरा हमारे लोककला और इतिहास की आत्मा है जबकि इसमें ग्रामीण जीवन व त्योहार का प्रतिबिंब दिखता है। यह रिश्ते जोडऩे का माध्यम भी बनते हैं। साथ ही सामाजिक मेलजोल बढ़ाने का खास अवसर रहता हैं उन्होंने बताया कि इस बार बाहर से आए दुकानदारों को बिना शुल्क के दुकान संचालन करने की सुविधा दी गई हैं।
नाचते गाते मड़ई में पहुंचे अहीर
रविवार को कस्बा में मढ़ई के खास मौके पर आसपास के गांवों के अहीर समाज के लोग दोपहर में परंपरागत वेशभूषा धारण कर ग्वालों के साथ नाचते गाते मडई ब्याहनें पहुंचे। सर्वप्रथम ठाकुर देव बाबा की विधिविधान से पूजा आरती की गई। इसके बाद मडई ब्याहने की परंपरा का निर्वहन कर आर्शीवाद लेने के साथ सुखी जीवन की कामना की। इसके बाद पारंपारिक वेशभूषा, वाद्य यंत्रों, ***** की थाप पर सिर में मोर पंख, हाथ में फरसा लाठी के साथ कौडी, रंगीन फुंदरे व गोठलर से बने वस्त्र धारण कर आकर्षक नृत्य करते हुए मडई स्थल का चक्कर पूरा किया। इस बीच विभिन्न मार्गो से मडई स्थल तक आने वाले अहीरों की टोली का स्वागत ग्रामीणों द्वारा किया गया।

Only after worshiping Chandi Mata, they do shopping in Madhai, invite the concerned to come
Only after worshiping Chandi Mata, they do shopping in Madhai, invite the concerned to come

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी में शिवलिंग के दावे के बीच आज सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई, वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई कोExclusive: ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट मेंGood News: AIIMS दिल्ली में अब 300 रुपए तक के टेस्ट होंगे मुफ्तIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने उठाया आतंकवाद का मुद्दाअफगानिस्तान में तालिबान का नया फरमान- महिला टीवी एंकर चेहरा ढककर पढ़ें खबरअमेरिकी राष्ट्रपति Biden के लिए महाराष्ट्र और आंध्र से गिफ्ट में जाएंगे आमसीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.