पैतृक जमीन पर दबंगों का कब्जा, प्रशासन ने नहीं ली सुध, परेशान शिक्षक व उसकी पत्नी ने मांगी इचछामृत्यु की इजाजत

निजी भूमि को कब्जे से छुड़ाने कई बार की लिखित शिकायत
प्रशासन ने 2003 से आज तक नहीं की कार्यवाही

By: Ramashankar mishra

Updated: 01 Aug 2020, 12:49 PM IST

डिंडोरी. जिले के करंजिया ब्लॉक के पिपरखुट्टा निवासी शिक्षक राधेलाल यादव व उसकी पत्नी ज्योति यादव ने कलेक्टर बी. कार्तिकेयन से लिखित रूप में इच्छा मृत्यु की मांग की है। शिक्षक ने बताया कि गांव में उनकी पैतृक जमीन है, जिस पर स्थानीय दबंगों ने 2003 से कब्जा कर रखा है। वह कई बार प्रशासन को अपनी समस्या से अवगत कराकर कार्यवाही की मांग कर चुके हैं, लेकिन 17 साल में कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसके चलते वह व उनका परिवार परेशान है। शिक्षक गुरुवार को अपनी पत्नी के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचकर इच्छा मृत्यु की इजाजत मांगी है।
विरोध करने पर जान से मारने की धमकी
कोई कार्रवाई न होने व दबंगों से परेशान शिक्षक की पत्नी ने भी कलेक्टर से इच्छा मृत्यु की मांग की है। दोनों ने इच्छा मृत्यु के लिए कलेक्टर के नाम आवेदन दिया है। शिक्षक राधेलाल ने बताया कि जिन दबंगों ने उनकी जमीन पर कब्जा किया है, वह गांव का संपन्न और बड़ा परिवार है। विरोध करने पर सभी लोग एकजुट होकर मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। अपशब्दों का प्रयोग करते हुए जान से मारने की धमकी देते हैं। शिक्षक ने जमीन पर अवैध कब्जेे की शिकायत स्थानीय स्तर से लेकर जिला प्रशासन स्तर तक कई बार की है, लेकिन हर बार नतीजा सिफर रहा। आवेदन में शिक्षक ने जिक्र किया कि दबंगों की वजह से वह मानसिक रूप से टूट चुके हैं। 17 साल गुजर जाने के बाद भी सुनवाई नहीं होने पर उन्हें यह कदम उठाना पड़ रहा है।

Show More
Ramashankar mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned