scriptRelief to farmers: 268 metric tons of DAP consignment reached this dis | किसानों को राहत: इस जिले में पहुंची 268 मैट्रिक टन डीएपी की खेप | Patrika News

किसानों को राहत: इस जिले में पहुंची 268 मैट्रिक टन डीएपी की खेप

खरीफ फसल की बोवनी में जुटे जिले के किसान

डिंडोरी

Updated: June 27, 2022 02:08:23 pm

डिंडोरी. मानसूनी बारिश के बाद एक सप्ताह से किसान खेतों की तैयारी के साथ ही खरीफ फसलों की बोवनी में लगे हैं। खाद बीज लेने सोसायटियों में किसानों की भीड़ उमड़ रही है। बोवनी के लिए किसानों को समुचित खाद बीज मिल सके इसके लिए प्रशानिक स्तर पर निर्देश दिए गए थे। इसके बाद भी पिछले दो दिन से सोसायटियों में डीएपी की कमी आ गई थी और किसान डीएपी के लिए भटक रहे थे। जिसके बाद जिले में 268 मैट्रिक टन डीएपी की खेप पहुंची है। नई खेप में से 218 मैट्रिक टन डीएपी जिलेभर की 44 सोसायटियों में पहुंचा दिया गया है। डीएपी का भंडारण हो जाने से अब किल्लत खत्म हो गई है। जबकि जिले में यूरिया का पहले से ही पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है।
प्रति हेक्टेयर 1 बोरी डीएपी, 5 बोरी यूरिया
कृषि विभाग जिले में मौजूद 44 सोसायटियों में खाद बीज की पूर्ति में जुटा है। जिले के 1 लाख 40 हजार किसानों को धान, कोदों कुटकी का बीज नगद में दिया जा रहा है। खाद की कमी न हो इसलिए किसानों को प्रति हेक्टेयर 5 बोरी यूरिया और 1 बोरी डीएपी दिया जाएगा। इसका वितरण जिले के सातों ब्लाकों में मौजूद 44 सोसायटियों से किया जा रहा है। इसके अलावा डिंडोरी और समनापुर में मौजूद 2 खाद गोदामों में भी खाद का भंडारण है।
कोदो-कुटकी का रकबा बढ़ा
जिले में खरीफ बोनी का लक्ष्य कृषि विभाग ने पूर्व में ही निर्धारित कर लिया है। जिसमें धान 126 हजार हेक्टेयर, मक्का 52.2 हेक्टेयर, कोदो-कुटकी 39 हेक्टेयर, उडद 3.6 हेक्टेयर, मूंग 0.4 हेक्टेयर, अरहल 6.7 हेक्टेयर, तिल 0.7 हेक्टेयर, रामतिल 26.5 हेक्टेयर, सोयाबीन 7.5 हेक्टेयर और सन 0.1 हजार हेक्टेयर है। इनमें से धान का रकबा 5 हजार हेक्टेयर और मक्का का 2 हजार हेक्टेयर रकवा घटाया गया है। जबकि रामतिल का 10 व कोदों-कुटकी का 12 और अरहर का रकबा 19 प्रतिशत बढाया गया है।
जिले में खाद की स्थिति
- 2684 मीट्रिक टन यूरिया का भंडारण था जिसमें से 1294 एमटी बंट गया, 1391 एमटी उपलब्ध है। विगत् वर्ष की खपत 4285 एमटी थी।
- 588 एमटी डीएपी भंडारित था, 428 एमटी बंट गया, 160 एमटी बचा था। 268 एमटी की नई खेप आ गई। विगत वर्ष की खपत 3562 एमटी थी।
- 45 किलो के यूरिया बोरी की कीमत 266 रूपये है। वहीं 50 किलो डीएपी बोरी की कीमत 1350 रुपये है।
- एसएसपी, पोटाश, एनपीके का भी भंडारण। एसएसपी 50 किलो बोरी की कीमत 425 रुपए, पोटाश की बोरी 1700 और एनपीके के बोरी की कीमत 1470 रुपए है।
- खरीफ फसल 2022 के लिए खाद का लक्ष्य तय। जिसमें यूरिया 6100 एमटी, सुपर फास्फेट 510 एमटी, पोटाश 100 एमटी, डीएपी 5500 मेट्रिक टन शामिल हैं।
इनका कहना है
डीएपी की खेप जिले में आ गई है। किसानों के लिए खाद बीज की कमी नही है। जिले में किसान खरीफ फसलों की बोवनी में जुटे हैं।
अश्वनी झरिया, उपसंचालक कृषि

Relief to farmers: 268 metric tons of DAP consignment reached this district
Relief to farmers: 268 metric tons of DAP consignment reached this district

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.