रूसा शेल्टर होम से लड़के हुए फरार तहसीलदार की टीम ने दबोचा

नशे की गिरफ्त में आया पलायन करता युवा

By: Rajkumar yadav

Published: 05 May 2020, 09:57 AM IST

डिंडौरी. गोरखपुर. करंजिया विखं अंतर्गत ग्रापं रूसा में बने शेल्टर होम से नशे की तेज तलब में युवाओं के भागने का ताजा मामला सामने आया है। घटना के संबन्ध में बताया गया है कि रूसा के शासकीय कस्तूरबा छात्रावास जो शेल्टर होम बनाया गया है, 27 मार्च को तीन लड़के कोरोना संक्रमण के रेड जोन भोपाल से होकर डिंडोरी आए थे जिन्हें शेल्टर होम रूसा में रखा गया था। इन लड़कों ने दिनांक 0३ मई को हॉस्टल वार्डन को चकमा देकर फरार हो गए और घटना के बाद अफ रातफ री मच गई जब इसकी सूचना बजाग तहसीलदार चंद्रशेखर मिश्रा को मिली तो उन्होंने तत्काल मौके पर पहुंचकर मामले को गंभीरता से लेते हुए राजस्व विभाग के पटवारी दिलीप बरयो, कोटवार स्वास्थ्य कर्मचारियों एवं ग्रामीणों के द्वारा टीम का गठित कर घेराबंदी करते हुए फरार युवाओं को धर दबोचा और वापस लाकर पुन: शेल्टर होम में भर्ती कराया। इसके बाद यहां पदस्थ डॉक्टर मुकेश द्वारा उनका स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। बताया गया है किपूर्व में इन युवाओं का सैंपल कराया गया था। तहसीलदार ने भागे युवाओं से इस तरह भागने का कारण पूंछा तो लड़कों ने बताया कि उन्हें गुटखा, गुड़ाखू और बीड़ी के बंडल की सख्त जरूरत है और वो यहां रहते हुए नहीं मिलेगी इसलिए हम लोगों ने यह कदम उठाया है। बाद में लड़कों ने उक्त सामग्री की डिमांड सूची तहसीलदार को दी। इस दौरान शेल्टरहोम में तहसीलदार ने सभी पहलुओं को गंभीरता से देखा और अधीक्षक को आवश्यक निर्देश दिए और उन पर धारा १८८ के तहत मामला दर्ज कराया। इस कार्रवाई में पटवारी दिलीप बरया, डॉ मुकेश एवं उनकी टीम तथा कोटवार की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Patrika
Rajkumar yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned