जरा सी बारिश में थम जातें हैं वाहनों के पहिए, कीचड़ से लथपथ हैं मार्ग

सिवनी नर्मदा संगम स्थल से गोपालपुर तक बनाई जा रही सड़क
कीचड़ में लथपथ होकर स्कूल पहुंचते हैं छात्र

By: Rajkumar yadav

Published: 06 Jan 2020, 05:34 PM IST

डिंडोरी/गोरखपुर. करंजिया विखं के अंतर्गत कस्बा गोरखपुर से सिवनी संगम तट तक निर्माणाधीन मार्ग कच्चा और कीचड़ से लथपथ होने के कारण पैदल चलने वाल वे वाहन चालक के लिए परेशानी का कारण बन रहा हैं। फिलहाल सड़क की ऐसी स्थिति हैं कि कीचड़ के कारण कई स्थानों पर दलदल जैसी नौबत बन गई हैं। आलम यह हैं कि जरा सी बारिश में वाहनों के पहिए थम जातें हैं कीचड़ में वाहनों का फंसना, फिसलना और गिरना जारी हैं। जानकारी के मुताबिक सिवनी नर्मदा संगम तट पर बने पुल के पास से गोपालपुर तक लगभग 28 किमी पक्का मार्ग बनाने का काम चल रहा हैं। लेकिन यहां पर ठेकेदार ने कार्य के नाम पर अब तक मार्ग को कुछ दूरी तक समतल ही किया हैं ना तो ठोस पटाई की गई हैं और ना ही बारिश के दौरान होने वाली परेशानी से बचाव का उपाय किया गया हैं। यही कारण कि समस्या बरकरार हैं कच्ची सड़क में वाहनों के पहिए थम जातें हैं। जाम जैसी स्थिति निर्मित होती हैं। ग्रामीणों ने बताया कि आजादी के बाद पहली बार इस मार्ग का पक्कीकरण करने का कार्य शुरू किया गया हैं। जब कार्य शुरू किया गया था लोगो ने राहत की सांस ली थी कि अब बारिश के दिनों में कीचड़ की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा लेकिन वहीं वर्षो पुरानी वाली कच्ची सड़क हैं, और लोग ऐसे में ही आवागमन करने मजबूर हैं।
कट जाता हैं संपर्क
क्षेत्रीय लोगों ने जानकारी देते हुए बताया कि कच्चा मार्ग होने के कारण जरा सी बारिश के बाद शहडोल अनूपपुर जिला से पूरी तरह से संपर्क टूट हैं। वैसे भी बरसात के दिनों में आवागमन अवरूद्ध हो गया था। इससे ग्रामीणों को आवागमन के साथ साथ कई तरह की परेशानियां उठानी पड़ती हैं। मार्ग की स्थिति पैदल चलने के लायक नहीं बचती। सबसे ज्यादा परेशानी रात्रि के समय होती हैं। ग्रामीणों ने इस विषय में बताया कि ठेकेदार के लोगों से अनेकों बार कहा गया हैं कि इस मार्ग पर यातायात बाधित ना हो ऐसा इंतजाम कर दिया जाए। लेकिन उनके कान में जूं नहीं रेंग रही हैं। इस समस्या से कई बार अवगत कराया गया हैं लेकिन समाधान नहीं हो पा रहा हैं। ऐसे में क्षेत्रवासियों ने इस मामले में जिला प्रशासन से दखल करने की मांग करते हुए शीघ्र व्यवस्था बनाए जाने की बात कही हैं ।
स्कूली विद्यार्थियों को हो रही परेशानी
सरकारी स्कूलों में पढने वाले विद्यार्थियों की स्कूल पहुंचने वाली राह आसान नहीं है। बारिश के दिनों में जहां गांवों में कई रास्ते बंद हो जाते हैं तो वहीं कीचड भरे मार्ग से होकर स्कूल पहुंचने के लिए विद्यार्थी मजबूर हैं। कीचड़ से भरी शिक्षा की इस डगर में विद्यार्थियों की रेलमपेल होती है। कुछ यही स्थिति गोरखपुर के हाईस्कूल में देखने को मिल रही है। जहां स्कूल पहुंचने के लिए विद्यार्थियों को कीचड़ से लथ.पथ होकर पहुंचना पड़ रहा है। एक दिन नहीं, बल्कि पूरी बारिश विद्यार्थियों को इसी तरह से स्कूल पहुंचते हैं। जिससे विद्यार्थियों की यूनीफार्म खराब हो जाती हैं तो कुछ विद्यार्थी रास्ता पार करने में गिर जाते हैं, जो वापस घर पहुंच जाते हैं। जो विद्यार्थी जैसे तैसे स्कूल पहुंचते हैं वे पानी से कीचड़ साफ करने के बाद शिक्षा ग्रहण करते हैं। स्कूल के शिक्षकों ने बताया कि हर वर्ष बारिश के मौसम में इस क्षेत्र से आने वाले छात्रों की उपस्थिति कम रहती हैं।
क्षेत्रीय लोगों ने बताया कि ठेकेदार ने निर्माणाधीन मार्ग समतलीकरण करके ऐसे ही छोड़ दिया हैं कुछ स्थानों पर तो काली व चिकनी मिट्टी डाल दी गई हैं। जहां बारिश के समय अधिक कीचड़ होती हैं। इस समस्या के बारे में ठेकेदार के प्रतिनिधि को अवगत कराया गया था लेकिन अभी तक मार्ग का निर्माण नहीं हुआ है। इससे कीचड़ से सने मार्ग से ही रहवासियों और विद्यार्थियों को आना जाना पड़ता हैं।

Patrika
Rajkumar yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned