नशे में बेटा दे रहा पूरे परिवार को मारने की धमकी

परिजनों ने जन सुनवाई में दर्ज कराई शिकायत

By: shivmangal singh

Published: 16 May 2018, 05:23 PM IST

डिंडोरी. नशे में धुत्त होकर परिवार के सदस्यों के साथ मारपीट करने व जान से मारने की धमकी देने वाले बेटे से परेशान परिजन मंगलवार को जनसुनवाई में पहुंचकर जान की सुरक्षा की गुहार लगाई है। गुलाब सिंह पिता पुनुवा जाति धुलिया निवासी धरवासी ने अपने बेटे देवेंद्र कुमार से तंग आकर पुलिस समेत जनसुनवाई में शिकायत दर्ज कराई है कि पूरे परिवार को शराब के नशे में धुत रहने वाला बेटा जान से मारने के लिये आमादा है। जिससे डरकर वह धनवासी गांव छोड़ दूसरे गांव में रहने को मजबूर हो गये हैं।
गुलाब सिंह ने बतलाया कि उसके 3 पुत्रों में देवेंद्र सबसे बड़ा बेटा है। देवेंद्र को शराब की लत लग गई और वह हर वक्त शराब के नशे में धुत्त रहने लगा। हालात यह बन गये कि गांव में किसी भी से बेवजह झगड़ा फसाद शुरू कर मारपीट पर उतारू हो जाता अनेकों बार उसकी शिकायत पुलिस में की जा चुकी है। साथ ही मारपीट के ही एक मामले में उसे जेल भी जाना पड़ा और गुलाब ने ही उसे जमानत पर रिहा कराया था कि वह अब जेल जाने के बाद सुधर गया होगा। लेकिन जेल से बाहर आने के बाद उसके द्वारा गांव में मारपीट करने लगा। जिसका पिता और भाईयों ने विरोध किया तो उन्ही के साथ मारपीट करते हुये घर से बाहर कर दिया। मजबूरी बस परिवार के सभी सदस्य अपनी जान बचा दूसरे गांव देवरी में शरण लिये हुये हैं। लेकिन देवेंद्र अपनी हरकतों से बाज नहीं आया और गांव में लोगों से लड़ाई झगड़ा चालू रखा है। इस संबंध में पुलिस में भी शिकायत दर्ज है। लेकिन पुलिस के द्वारा ठोस कार्रवाई न होने से देवेंद्र अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है।
गबन मामले में ठेकेदार गिरफ्तार
डिंडोरी . जनपद पंचायत मेहंदवानी अंतर्गत पडरीटोला में 11 हितग्राहियों के आवास की राशि डकारने वाले ठेकेदार रामा सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ठेकेदार ने हितग्राहियों से आवास निर्माण के नाम पर पांच लाख से अधिक की राशि का गबन किया है। बार-बार कहने के बाद भी राशि वापिस नही करने पर पुलिस ने धारा 420 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर गिरफ्तार किया है। थाना प्रभारी मनोज त्रिपाठी ने बताया कि इस संबंध में जनपद पंचायत से भी पत्र प्राप्त हुआ है जबकि जिला पंचायत के सूत्रों की माने तो ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक की भी भूमिका पूरे मामले में संदिग्ध है। पूरे जिले में आवास योजना के नाम पर ग्राम पंचायतों के अमले द्वारा बढ़ी लापरवाही की गई है, लेकिन अब ग्राम पंचायत के अमले पर किसी तरह की कार्रवाई नही हो रही है। जिससे कार्रवाई पर सवालिया निशान लग रहे हैं।

Patrika
shivmangal singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned