प्रदूषित हवा से डायबिटीज का खतरा!

प्रदूषित हवा से डायबिटीज का खतरा!

वायु प्रदूषण से शरीर में इंफ्लेमेशन की मात्रा बढ़ जाती है जो शुगर के स्तर को गड़बड़ाकर डायबिटीज का कारण बनती है। फिलहाल इस संबंध में शोध जारी हैं।

अप्रत्यक्ष रूप से करता है प्रभावित
अमरीका के कैलिफोर्निया में लगभग एक हजार से अधिक लोगों पर किए गए शोध में पाया गया कि प्रदूषित हवा से डायबिटीज और हाई कोलेस्ट्रॉल का खतरा बढ़ सकता है। शोधकर्ताओं के अनुसार वायु प्रदूषण से शरीर में इंफ्लेमेशन की मात्रा बढ़ जाती है जो शुगर के स्तर को गड़बड़ाकर डायबिटीज का कारण बनती है। फिलहाल इस संबंध में शोध जारी हैं। वायु प्रदूषण प्रत्यक्ष नहीं बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करता है, जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है।
रक्तहोता प्रदूषित
चूल्हे, फैक्ट्री, कारखानों और गाडिय़ों आदि से निकलने वाले धुएं में मौजूद कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड आदि कैमिकल्स का समूह सांसनली से होते हुए सबसे पहले फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। इनमें बेहद सूक्ष्म कण भी होते हैं जो फेफड़ों के अलावा रक्तवाहिकाओं में प्रवेश करके उन्हें भी प्रभावित करने लगते हैं जिससे शरीर के अन्य अंगों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती। यह स्थिति शारीरिक प्रक्रियाओं के लिए एक आसामान्य व तनावयुक्त स्थिति बन जाती है। ऐसे में कार्टिसोल, एड्रीनलिन व नॉर एड्रीनलिन जैसे स्ट्रेस हार्मोंस जरूरत से ज्यादा स्त्रावित होने लगते हैं। इससे ग्लूकोज का मेटाबॉलिज्म बिगड़ जाता है व डायबिटीज की शुरुआत होती है।
हाई कोलेस्ट्रॉल
सामान्यत: हमारे शरीर को कोलेस्ट्रॉल की सीमित मात्रा मेें जरूरत होती है ताकि यह कोशिकाओं, हार्मोन व पाचकरस का निर्माण कर सके। इसका निर्माण लिवर करता है। लेकिन जब सांस के साथ प्रदूषित वायु अंदर जाती है तो यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा देती है।
इन्हें ज्यादा खतरा
जो लोग ज्यादा देर तक प्रदूषित हवा में रहते हैं, उनमें इंसुलिन बनने व कार्य करने की क्षमता कम होने लगती है। इससे रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ती है व कोलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक हो जाता है। इसके अलावा जिनका वजन अधिक हो, फैमिली हिस्ट्री या तनाव में रहने वाले लोगों को भी डायबिटीज हो सकती है।
ध्यान रखें
व्यायाम, वॉक व जॉगिंग आदि के लिए सुबह का समय चुनें क्योंकि इस दौरान हवा में प्रदूषण की मात्रा कम होती है।
डॉ. प्रकाश केसवानी, डायबिटोलॉजिस्ट

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned