सिरवाबांधा में दूषित पानी पीने से 10 ग्रामीण बीमार

Satya Narayan Shukla

Publish: Sep, 26 2017 12:58:10 (IST)

Disease and Conditions
सिरवाबांधा में दूषित पानी पीने से 10 ग्रामीण बीमार

जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर ग्राम सिरवाबांधा में दूषित पानी पीने से 10 ग्रामीण डायरिया चपेट में आ गए।

बेमेतरा. जिला मुख्यालय से 10 किमी दूर ग्राम सिरवाबांधा में दूषित पानी पीने से 10 ग्रामीण डायरिया चपेट में आ गए। सूचना पर गांव पहुंची मेडिकल टीम ने परीक्षण कर पांच गंभीर लोगों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका उपचार जारी है।

सप्ताह भर से बिगड़ रही तबीयत

सिरवाबांधा के ग्रामीणों के अनुसार दूषित पानी पीने की वजह से डायरिया फैला है। बीते सप्ताह भर से ग्रामीणों की तबीयत बिगडऩा शुरू हुई है, तेजी से गांव में डायरिया पीडि़तों की संख्या बढऩे लगी है। ग्राम सरपंच प्रमिला टंडन के अनुसार, गांव में जलापूर्ति के लिए 4 पावरपंप व एक आरो सिस्टम है। वाटर लेवल डाउन होने की वजह से तीन पावरपंप जवाब दे चुके हैं, वही एक पंप के भरोसे ग्रामीणों की निस्तारी हो रही है।

माहभर से आरो सिस्टम खराब
ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए करीब 8 लाख रुपए की लागत से लगा आरो सिस्टम बीते माह भर से खराब पड़ा है। ऑपरेटर राजेश दुबे द्वारा पीएचई विभाग के अधिकारियों को कई बार अवगत कराने के बावजूद मरम्मत को लेकर गंभीरता नहीं बरती जा रही है। वहीं पावरपंप का पानी पीने लायक नहीं है। माह भर से आरो सिस्टम खराब होने की वजह से ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। परिणाम स्वरूप गांव में डायरिया फैलने लगा है, और ग्रामीण इसकी चपेट मे आ रहे हैं।

डायरिया पीडि़त मरीज
वर्तमान में गांव के 10 लोग डायरिया से पीडि़त है, जिसमें 4 बच्चे व 6 महिला-पुरुष शामिल है। जिला अस्पताल में गंभीर योगेश यादव (12), राहुल निर्मलकर (5), पायल निर्मलकर (2), करम धु्रव (50) व बसंती धु्रव (45) को उपचार के लिए भर्ती कराया गया हैं। वहीं रामलाल यादव, संतोष निर्मलकर, गीता बाई, दुर्गेश यादव, बासन बाई धु्रव व कांतिबाई का गांव में उपचार किया गया।

डिप्टी कलक्टर ने मरीजों का हालचाल जाना
ग्राम सिरवाबांधा में डायरिया फैलने के बाद गंभीर मरीजों को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया। कलक्टर के निर्देश पर डिप्टी कलक्टर इंदिरा देवहारी डायरिया पीडि़तों का हालचाल जानने जिला अस्पताल पहुंची, जहां उन्होंने ड्यूटीरत चिकित्सक ज्योति जसाठी को मरीजों के उपचार व समय-समय पर परीक्षण के निर्देश दिए। इसके अलावा उन्होंने पोषण पुर्नवास केन्द्र का निरीक्षण कर भर्ती कुपोषण के शिकार बच्चों का हालचाल जानने के साथ व्यवस्था का जायजा लिया।

मेडिकल टीम कर रही है उपचार
सीएमएचओ डॉ. एसके शर्मा ने बताया कि गांव में डायरिया फैलने की सूचना पर मेडिकल टीम को रवाना किया गया है। वहीं गंभीर मरीजों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं पीएचई ईई परीक्षित चौधरी ने बताया कि आरो सिस्टम की मरम्मत के लिए फील्ड कर्मियों को ग्राम सिरवाबांधा रवाना किया जाएगा। मामले में सिरवाबांधा सरपंच प्रमिला टंडन ने बताया कि माह भर से आरो सिस्टम खराब पड़ा हैं, दूषित पानी पीने से ग्रामीणों की तबीयत बिगड़ रही है। पीएचई के अधिकारियों को कई बार अवगत कराने के बावजूद मरम्मत को लेकर गंभीरता नहीं बरती जा रही हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned