त्वचा और अनिद्रा की समस्या होने पर ये खाएं

त्वचा और अनिद्रा की समस्या होने पर ये खाएं

मधुमेह के रोगी को शरबत की बजाय जोशांदा लेना चाहिए। त्वचा पर निशान और झुर्रियां कम होती है।

फल, रस व औषधि के रूप में किया जाता है प्रयोग
उन्नाब को जोजोबा फ्रूट भी कहते हैं। चीन में बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए खूब देते हैं। इसका प्रयोग फल, रस व औषधि के रूप में किया जाता है। यह रक्त शुद्धिकरण व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ मोटापा, कैंसर, सूजन, तनाव, त्वचा, लिवर और हड्डियों संबंधी समस्या में रोगी को दी जाती है। बच्चों को याद्दाश्त, एकाग्रता के लिए देते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन, फॉस्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, विटामिन सी व विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। उन्नाब फल लेने से अनिद्रा या बेचैनी में काफी राहत मिलती है।
इस्तेमाल
उन्नाब जोशांदा रात को गरम पानी में भिगोकर, सुबह हाथ से मसलकर छानकर लेने से स्किन संबंधी एग्जिमा, मुंहासे, सूजन संबंधी रोग में लाभ मिलता है। इससे त्वचा पर निशान और झुर्रियां कम होती है।
प्रयोग से पहले जानें
उन्नाब में कार्बोहाइड्रेट होने से रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकता है। मधुमेह रोगी को शरबत की बजाय जोशांदा लेना चाहिए। डॉक्टर की सलाह से प्रयोग करें।
डॉ. मो. आसिफ खान, यूनानी विशेषज्ञ

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned