30 की उम्र में महिला ने प्यार के लिए पति को छोड़ा, 25 साल बाद अकेली पड़ीं तो पति ने दिया सहारा, जानिएं पूरा मामला

25 साल पहले पति को छोड़कर प्रेमी के साथ जाने वाली महिला वापस घर लौट आई हैं (55 Year Old Woman Returned In Husband's Family After 25 Year In Garhwa Jharkhand) (Jharkhand News) (Dumka News) (Garhwa News)...

 

By: Prateek

Published: 23 Sep 2020, 09:13 PM IST

(दुमका,गढ़वा): जिंदगी में अक्सर ऐसे वाक्ये होते है जिन पर विश्वास कर पाना असभंव सा लगता है। लेकिन समय में सब कुछ संभव करने की ताकत है। यहां भी ऐसा ही एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है जिस पर विश्वास कर पाना मुश्किल है। 25 साल पहले पति को छोड़कर प्रेमी के साथ जाने वाली महिला वापस घर लौट आई हैं। जवानी में घर छोड़कर जाने वाली महिला जब बुढ़ापे की दहलीज पर कदम रखने के बाद घर वापस आईं तो उसके साथ क्या हुआ यह जानना बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ें: Donald Trump ने UN पर डाला दबाव, कहा-कोरोना फैलाने में चीन की करतूतों के लिए उसे जिम्मेदार ठहराएं

यह मामला झारखंड के गढ़वा जिले का है। मिली जानकारी के अनुसार यशोदा देवी 25 साल पहले अपने पति नरेश साह के साथ केतार थाना क्षेत्र के जोगियाबीर गांव में रहती थीं। उस समय उनकी उम्र 30 वर्ष थी। यशोदा के छह लड़के थे। इसी बीच उसकी मुलाकात छाताकुंड निवासी विश्वनाथ साह से हुई। दोनों प्रेम के बंधन में बंध गए। प्यार के भंवर में फंसी यशोदा अपनी परिवार को छोड़ प्रेमी विश्वनाथ के साथ चली गईं। दोनों छत्तीसगढ़ के सीतापुर में रहने लगे।

यह भी पढ़ें: टाइम मैगजीन ने 100 प्रभावशाली लोगों में किया PM Modi को शामिल, ऐसे साधा निशाना

इस घटना के 25 साल बाद यशोदा और विश्वनाथ के जीवन में ऐसा मोड़ आया जिसने सब कुछ बदलकर रख दिया। 15 दिन पहले विश्वनाथ की मौत हो गई। इसके बाद यशोदा अकेली पड़ गईं। विश्वनाथ के परिजनों ने भी उसका साथ नहीं दिया और अपनाने से ही इंकार कर दिया। थक हार कर यशोदा ने दोबारा अपने पति के घर लौटने का मन बनाया।

यह भी पढ़ें: ड्रग्स मामले में NCB की बड़ी कार्रवाई, दीपिका पादुकोण समेत रकुलप्रीत सिंह, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर को भेजा समन

रविवार रात वह जोगियाबीर पहुंची। घर के सभी सदस्य उसे देखकर भौंचक्के रह गए। क्योंकि इन 30 सालों में सब कुछ बदल चुका था। यशोदा के लड़कों की शादी हो चुकी थीं, पोते—पोतियों से भरा पूरा परिवार था। किसी को उसके वापस आने की आशा नहीं थी। सभी ने उसे अपनाने से मना कर दिया। यशोदा यहीं रहने की जिद पर अड़ी रहीं। उसे रात घर के बाहर गुजारनी पड़ी। सुबह होने पर गांव वालों ने मामले में हस्तक्षेप किया। इस पर यशोदा ने दूर रहकर भी अपने बच्चों की आर्थिक मदद करने की बात का हवाला दिया जिसे उसके बच्चों ने स्वीकार भी किया। गांव वालों की समझाइश के बाद परिजनों का दिल पसीज गया। उन्होंने यशोदा को अपना लिया। पति नरेश साह ने भी सभी गलतियों को नजरअंदाज कर उसका घर में स्वागत किया। यशोदा जब घर में घुसी तो भरा पूरा परिवार देखकर भाव विभोर हो गई। जिसने भी यह दृश्य देखा वह अपने आंसू रोक नहीं पाया।

ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned