scriptजेल में दोस्ती, बना ली गैंग, रेकी के बाद चोरी और फिर होती थी पार्टी | Friendship in jail, formed a gang, after recce there was theft and then a party | Patrika News
डूंगरपुर

जेल में दोस्ती, बना ली गैंग, रेकी के बाद चोरी और फिर होती थी पार्टी

पुलिस ने बताया कि आरोपी विपिन की बहन को जीवा ने मुंह बोला भाई बना रखा था, जिससे वो आरोपी राखी बांधती थी। ऐसे में विपिन व जीवा साथ में रहते थे और दोनों में गहरी दोस्ती थी।

डूंगरपुरMay 25, 2024 / 03:45 pm

Akshita Deora

डूंगरपुर के कुंआ गांव में आठ दिन पहले दो आभूषण की दुकान में चोरी के मामले में पुलिस ने शुक्रवार को खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया और उनसे सोने व चांदी के आभूषण व नकदी बरामद की है। आरोपियों को पकडऩे के लिए पांच थानाधिकारी, साइबर सेल, हैडकांस्टेबल व कांस्टेबल सहित 26 जनों की टीम लगी हुई थी। इसके बाद पुलिस को यह सफलता हाथ लगी। पुलिस अधीक्षक मोनिका सेन ने बताया कि कुंआ बस स्टैण्ड पर दो आभूषणों की दुकान में 18 मई 2024 को चोरी होने के मामले में पुलिस टीम ने झरनी के जंगलों से आरोपी पाड़वा दरियाटी निवासी जीवा उर्फ जीवतराम पुत्र मनजी डेण्डोर, गोरादा निवासी संजय पुत्र गटू बरण्ड़ा व विपिन पुत्र कन्हैयालाल नाई को गिरफ्तार किया। पुलिस ने आरोपियों से 15 किलोग्राम चांदी व सोने के आभूषण व 54500 रुपए नकद जब्त किए।

जेल में हुई दोस्ती

पुलिस ने बताया कि आरोपी विपिन की बहन को जीवा ने मुंह बोला भाई बना रखा था, जिससे वो आरोपी राखी बांधती थी। ऐसे में विपिन व जीवा साथ में रहते थे और दोनों में गहरी दोस्ती थी। जीवा को बलात्कार के मामले में जेल भी हो चुकी होने से जेल में उसकी मुलाकात संजय बरण्ड़ा से हुई। दोनों के बाहर निकलने के बाद विपिन के साथ लेकर एक गैंग बनाई। तीनों आरोपी शाम को रैकी करते थे और रात को एक ही मोटर साइकिल से अंदरुनी रास्तों से वारदात स्थल पर पहुंचते थे। यहां पर एक जना मोटर साइकिल से उतर जाता था और बाहर रैकी करता था। वहीं, दो अन्य साथी मकान व दुकान में जाकर चोरी की वारदात को अंजाम देते थे। इस दौरान पुलिस व अन्य लोगों की ओर से आरोपी से पूछताछ करने पर वह अपने साथियों को सचेत करता था और वह लोगों व पुलिस को गुजरात से उसकी मां व दोस्त के आने का बहाना बना देता था।

चोरी के बाद करते थे पार्टी

पुलिस ने बताया कि तीनों आरोपियों ने चोरी के लिए डूंगरपुर व सीमलवाड़ा में एक कमरा ले रखा था। तीनों जहां चोरी करनी होती थी। वहीं पर कुछ दिन पहले पहुंच जाते थे और किराये के कमरे में रात गुजारते थे। फिर चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद आस पास गांवों में छुप जाते व दूसरे दिन कमरे पर आते थे। इसके बाद तीनों पार्टी करते और नई योजना बनाते थे। पुलिस की पूछताछ जारी है।

इन वारदातों का हुआ खुलासा

1 दरियाटी गांव में दो दुकानों में चोरी।

2. धंबोला में दो मकानों व मंदिर में चोरी

3. करावाड़ा बस स्टैण्ड पर किराणा व नाई की दुकान में चोरी।
4. गैंजी बस स्टैण्ड पर मोटर साइकिल चोरी।

5. पाड़ली गांव में साडिय़ों की दुकान में चोरी।

6. बडग़ी गांव में दो दुकानों में चोरी।

7. डूंगरपुर शहर में दो मकानों में चोरी।
8 वीरपुर गुजरात में एक मकान में चोरी की वारदात को अंजाम दिया।

खेड़ा कच्छवासा में दुकान को बनाया निशाना

सदर थाना क्षेत्र के खेड़ा कच्छवासा गांव में बदमाशों ने गुरुवार रात को जनरल सामान की दुकान में चोरी की वारदात की। दुकानदार ने थाने में रिपोर्ट दी। प्रार्थी शैलेष पुत्र डायालाल सेवक की गांव के बस स्टैण्ड पर जनरल सामान, मोबाइल व बैक वीसी की दुकान है। शैलेष ने गुरुवार को पूर्णिमा होने के कारण दुकान को नही खोला और शुक्रवार सुबह वह दुकान पर गया तो भीतर सामान बिखरा पड़ा था। दुकान से मोबाइल, लेपटॉप, सीसीटीवी कैमरे, 167000 रुपए व किराणा का सामान गायब था। दुकानदार ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर सदर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जानकारी लेने के बाद बदमाशों की छानबीन शुरू कर दी। दुकानदार शैलेष ने बताया कि पूर्णिमा के दिन दुकान बंद होने पर उसने रात करीब साढ़े दस बजे अपने मोबाइल में दुकान के फुटेज देखे थे। इस दौरान दुकान में काई हलचल नही थी और दुकान का सामान बिखरा हुआ नही था।
शहर के शास्त्री कॉलोनी स्थित हनुमान मंदिर का बदमाशों ने गेट चोरी करने का प्रयास किया। शुक्रवार दोपहर को एक ऑटो रिक्शा से तीन युवक मंदिर पर आए। बदमाशों ने मंदिर में प्रवेश किया व पड़ा चैनल गेट को बाहर फैंका और ऑटो रिक्शा में डालकर ले जाने लगे। इस दौरान कुछ युवक उस मार्ग से गुजर रहे थे। उन्होंने ऑटो रिक्शा का पीछा किया तो ऑटो चालक गेट को ऑटो रिक्शा से गिराकर भाग गया। युवाओं ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बदमाशों की छानबीन शुरू कर दी।

इस टीम को मिली सफलता

कार्रवाई में धंबोला थानाधिकारी तेजसिंह, कुंआ थानाधिकारी सुनील चावला, रामसागड़ा थानाधिकारी गोपालनाथ, चौरासी थानाधिकारी रिजवान खान, चितरी थानाधिकारी परमेश्वर पाटीदार, हैडकांस्टेबल गणेशलाल, राजाराम, राजकुमार, सोहनलाल, कांस्टेबल जीतमल , जयेश, श्रीनिवास, शंभुलाल, हेमेंद्र, राहुल, प्रभुलाल, राकेश, दीपक, आशिक, देवी सिंह, लोकेश, भरत, मुकुल सिंह, अक्षय सिंह रामसागड़ा, अक्षयराज सिंह कुंआ शामिल थे।

Hindi News/ Dungarpur / जेल में दोस्ती, बना ली गैंग, रेकी के बाद चोरी और फिर होती थी पार्टी

ट्रेंडिंग वीडियो