देश का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण कल से

देश का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण कल से
डूंगरपुर ने सर्वेक्षण में ठोकी ताल
डूंगरपुर. देश का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण 4 जनवरी से शुरू हो रहा है। डूंगरपुर नगरपरिषद ने तैयारी पूर्ण कर ली है। सभापति के.के.गुप्ता ने सर्वेक्षण 2019 में डूंगरपुर के प्रथम आने का दावा किया है।

By: Harmesh Tailor

Published: 03 Jan 2019, 04:59 PM IST

देश का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण कल से
डूंगरपुर ने सर्वेक्षण में ठोकी ताल
डूंगरपुर. देश का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण 4 जनवरी से शुरू हो रहा है। डूंगरपुर नगरपरिषद ने तैयारी पूर्ण कर ली है। सभापति के.के.गुप्ता ने सर्वेक्षण 2019 में डूंगरपुर के प्रथम आने का दावा किया है।
बुधवार को सभापति ने नगरपरिषद के सभी कर्मचारी की बैठक लेकर तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि टीम की मेहनत से आज डूंगरपुर का नाम देश विदेश में वियात है। सभी ने शहरी स्वच्छता को लेकर गंभीरता से काम किया है अब हमारी असली परीक्षा शुरू हो रही है और इस परीक्षा में सिर्फ पास नहीं होना है बल्कि इस परीक्षा में सबसे अव्वल आना है। 2018 के स्वच्छता सर्वेक्षण में काफी मेहनत की थी और इसका ही परिणाम है कि हमारे शहर के स्वच्छता की प्रशंसा देश के प्रधानमंत्री कर रहे हैं।
2019 में डूंगरपुर बनेगा नंबर 1
सभापति ने बताया कि डूंगरपुर को सर्वेक्षण में प्रथम बनाने की जिमेदारी शहरवासियों की है क्योंकि इस बार 1250 अंकों की सीधी जिमेदारी शहरवासियों के फीडबैक पर होगी। शहरवासियों के मोबाइल नंबर सीधे शहरी मंत्रालय ने एकत्रित करना शुरू कर दिया और वह शहरवासियों से सीधे अपने शहर की स्वच्छता का फीडबैक लेंगे। वही इस बार स्वच्छता सर्वेक्षण 2019 का सर्वेक्षण 5000 अंको का होना है जिसमें चार आधार पर सर्वेक्षण होगा। शहरवासियों ने अब तक जो स्वच्छता को लेकर जागरूकता दिखाई है वही जागरूकता अब और दिखाने की आवयश्कता है हमारे शहर को देश का प्रथम शहर बनाना है तो स्वच्छता के सभी घटकों पर गंभीरता दिखाते हुए शहर के सर्वेक्षण में एकजुट होकर शहर को नंबर 1 बनाने में लग जाना है।
ऐसे होगा सर्वेक्षण
निकाय के अधिकारी और कर्मचारी ने सर्वेक्षण को लेकर स्वच्छता संबंधित सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज केंद्र के स्वच्छता कार्यालय में अपलोड कर दिए हैं। सभापति ने बताया कि सर्वे में देश की 426 1 निकाय भाग ले रही हैं जिसमें चार श्रेणियों में सर्वे होना है। सर्वेक्षण में नागरिक सहभागिता के भी अंक हैं। शहरी मंत्रालय का प्रतिनिधि शहर के किसी भी वार्ड में जाकर सर्वे कर करता है।
यह है अंक भार
सर्वेक्षण कुल ५००० अंकों का है। इसमें घर-घर कचरा संग्रहण एवं कचरे के परिवहन व सफल निष्पादन के 1250 अंक, स्वच्छता को लेकर शहर के किए जा रहे कार्यो के 1250 अंक, स्वच्छता को लेकर शहरवासियों की सकारत्मक प्रतिक्रिया के 1250 अंक और ओडीएफ और स्वच्छता के सर्टिफिकेशन को लेकर 1250 अंक निकाय को प्राप्त होंगे। वहीं इस भी बार नकारात्मक प्रतिक्रिया पर माइनस मार्किंग होगी।
होंगी प्रतियोगिता
सभापति ने बताया कि 4 जनवरी से शुरू होने वाले सर्वेक्षण के लिए शहर की सभी स्कूल में स्वच्छता संबंधित बैठक कराई जाएगी। वार्डो में भी स्वच्छता संबंधित प्रतियोगिता होगी। वार्डो में प्रतिदिन वार्ड कर्मचारी वार्डवासियों को जागरूक करेगा, वहीं शहर की महिलाओं की भी इस सर्वेक्षण में प्रमुख भूमिका रहेगी। इसलिए महिलाओं के लिए भी प्रतियोगिताएं होंगी। सर्वसमाज को इस बार भी स्वच्छता सर्वेक्षण में शामिल किया जाएगा। बच्चों की स्वच्छता रैली भी निकाली जाएगी।

Harmesh Tailor Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned