इस करोड़पति ने लंगर लगाने के लिए बेच दी सारी संपत्ति

पेट का ऑपरेशन करवाने गए थे अस्पताल, उसी दिन से शुरू किया वहां लंगर और लुटा दी सारी दौलत

By:

Published: 01 Jan 2016, 10:49 AM IST

चंडीगढ़। इस करोड़पति को आज की तारीख में कंगाल कहना मुनासिब नहीं होगा क्योंकि बेशक इसने अपनी करीब करीब सारी संपत्ति बेच दी है और अब जेब में पैसे भी ज्यादा नहीं बचे, लेकिन हजारों लोगों की दुआओं का खजाना इसके पास है। जगदीश लाल आहुजा किसी समय करोड़पति थे, लेकिन 15 सालों से पीजीआई हॉस्पिटल के बार हर रोज लंगर लगा लगा कर अब इनके पास पैसे नहीं बचे, लेकिन जज्बा आज भी कायम है।

आहुजा को यहां लोग बाब और इनकी पत्नी को जय माता दी के नाम से जानते हैं। 80 साल के आहुजा पत्नी के साथ मिलकर रोज एक हजार लोगों का पेट भरते हैं। वे पिछले 15 सालों से पीजीआई अस्पताल के बाह दाल, रोटी, चावल और हलवा बांट रहे हैं। उन्हें जानने वाले लोग कहते हैं कि उन्होंने  करीब डेढ़ हजार लोगों को गोद ले रखा है।

इस नेक काम को करने के लिए आहुजा अब तक एक-एक कर करोड़ों की आधा दर्जन प्रॉपर्टी बेच चुके हैं। एक वक्त था जब वे पीजीआई के अलावा 9 जगहों पर सामान बांटते थे, लेकिन पैसे की कमी के चलते वहां जाना बंद कर दिया। आहुजा कहते हैं कि उन्हें जब भी कोई भूखा नजर आता है तो वे उसमें अपने बच्चे को देखते हैं और वे अपने बच्चे को भूखा कैसे रख सकते हैं।

दो साल पहले तक वे सारा कामकाज खुद देखते थे, लेकिन तबियत खराब रहने से अब वे केवल दो घंटे के लिए पीजीआई जाते हैं। अब उनके लिए यह लंगर चलाना मुश्किल हो रहा है क्योंकि न तो इतने पैसे बचे हैं और न ही सेहत साथ देती है। वे चाहते हैं कि कोई व्यक्ति या सोसायटी इस लंगर को संभालने की जिम्मेदारी ले ले। अगर कोई नहीं लेता है तो उनका कहना है कि जब तक वे जीवित रहेंगे तब तक पीजीआई के बाहर लंगर चलता रहेगा।
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned