Fraud-एनआरआई महिला से वाहनों के फिटनेस और टैक्स के नाम पर 20 लाख की धोखाधड़ी

एनआरआई महिला से वाहनों के फिटनेस व टैक्स अदायगी के नाम पर 20 लाख की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। मामले में पुलिस ने दो आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध किया है। पुलिस ने डीजीपी के निर्देश पर मामले में अपराध पंजीबद्ध किया है।

दुर्ग. मामला मोहन नगर थाना क्षेत्र का है। मालवीय नगर की एनआरआई महिला गीता एच पटेल मेसर्स सीबी पटेल फर्म की भागीदार है। उन्हें फर्म के लिए ट्रकों की आवश्यकता थी। इसके लिए उन्होंने अपने पति हितेश भाई पटेल के पूर्व परिचित मरोदा सेक्टर निवासी अमरजीत रेखी से सम्पर्क किया था। अमरजीत के माध्यम से रायपुर के एएम सविर्सेस के संचालक अर्जुन कुमार गुप्ता से परिचय हुआ। अर्जुन गुप्ता गोडवारा, रायपुर में वाहनों की खरीद बिक्री, पंजीयन का कार्य करता है। अर्जुन गुप्ता ने गीता पटेल को बैंक से फायनेंस कराकर वाहनों की खरीदी कराने का आश्वासन दिया। जिसके लिए प्रति ट्रक 9 लाख 10 हजार की दर से भुगतान की बात कही गई थी। यह भी आश्वासन गया कि नादेड (महाराष्ट्र) से पांच ट्रक की खरीदी का कार्य गीता पटेल के नाम पर करवा सकता है। इस पर अर्जुन कुमार गुप्ता के बताए अनुसार गीता एच पटेल ने आईसीआईसीआई बैंक के पक्ष मे एनईएफटी के माध्यम से 30 नवंबर 2018 को ट्रक क्रमांक एमएच 26 एडी 2152, एमएच 26 एडी 2352, एमएच 26 एडी 2452, एमएच 26 एडी 2652, एमएच 26 एडी 2752 के लिए 45 लाख 50 हजार भुगतान किया।


टैक्स नाम ट्रांसफर के लिए 20 लाख
पांचो वाहनो के महाराष्ट्र में बकाया टैक्स एनओसी सहित अन्य कार्य कराने की जवाबदारी अर्जुन गुप्ता ने ली थी। वहीं छत्तीसगढ में इन वाहनों के सभी दस्तावेंजी व नाम ट्रांसफर का कार्य भी अर्जुन गुप्ता ने करवाने का वादा किया था। इन सभी कार्यों के लिए 5 दिसबंर 2018 को 20 लाख अर्जुन कुमार गुप्ता के सेन्ट्रल बैंक की कोटा रायपुर स्थित शाखा के खाते में एनईएफटी के माध्यम से जमा कराए गए थे। साथ ही खरीदें गए ट्रकों को दुर्ग लाने के लिए अमरजीत रेखी को रिलिजिंग आर्डर पर अपने हस्ताक्षर कर प्रदान किया गया। इस कार्य के लिए 7 दिसंबर 2018 को 3 लाख रुपएअमरजीत के खाता में ट्रांसफर की गई। लेकिन वाहनों काे न तो महाराष्ट्र में टैक्स अदा कर लाया गया और गीता पटेल के नाम पर ट्रांसफर कराया गया।


एसपी की अनदेखी, डीजीपी के निर्देश पर कार्रवाई
अर्जुन कुमार गुप्ता से संपर्क नहीं होने पर धोखाधड़ी का अहसास हुआ। जिसके बाद पीडि़त ने इस मामले की शिकायत 11 जून 2019 को एसपी से की। जिस पर कार्रवाई करते हुए 16 दिसंबर 2019 को कार्रवाई के लिए निर्देश दिया गया था, लेकिन कार्रवाई आगे नहीं बढ़ी। इस पर पीडि़त ने पुलिस महानिदेशक से शिकायत की। इस पर अब कार्रवाई आगे बढ़ी और दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। शिकायतकर्ता ने स्वयं को युनाइटेट स्टेट ऑफ अमेरिका की भी नागरिक होने की जानकारी शिकायत में दी है।

Hemant Kapoor Bureau Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned