यदि ऐसा हुआ तो 90 हजार परिवार आगामी चुनाव का करेंगे बहिष्कार

पेंशनर्स का कहना है कि पूर्व में 32 माह का एरियर्स सरकार ने दबा लिया, अब 27 माह का एरियर्स दबाने की तैयारी की जा रही है।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 24 Jul 2018, 09:25 PM IST

दुर्ग. सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों के बाद अब पेंशनर्स ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है। इसकी शुरुआत करते हुए मंगलवार को पेंशनर्स ने संभाग मुख्यालय में धरना दिया। पेंशनर्स 27 माह के एरियर्स और 7 प्रतिशत महंगाई राहत की मांग कर रहे हैं। पेंशनर्स का कहना है कि पूर्व में 32 माह का एरियर्स सरकार ने दबा लिया, अब 27 माह का एरियर्स दबाने की तैयारी की जा रही है। पेंशनर्स ने कहा कि इस बार ऐसा किया गया तो आगामी विधानसभा चुनाव में सरकार के खिलाफ मुहिम चलाया जाएगा।

प्रदेशस्तर आंदोलन और सत्ताधारी दल के बहिष्कार का ऐलान

संभागीय पेंशनर समाज की ओर से एरियर्स और 7 फीसदी महंगाई राहत की मांग को लेकर पुराना बस स्टैंड में धरना प्रदर्शन किया गया। इसमें संभाग के 5 जिले दुर्ग, बालोद, बेमेतरा, राजनांदगांव, कवर्धा के अलावा धमतरी, रायपुर, कांकेर के भी प्रतिनिधि शामिल हुए। धरना प्रदर्शन के दौरान पेंशनर्स ने सभा भी की। जिसे समाज के संभागीय अध्यक्ष आरएस मक्कड़, एचएल दिल्लीवार, डीपी सोनी, गोवर्धन दुबे, एके पांडेय, केजी नायर सहित सभी जिले के पदाधिकारियों ने संबोधित किया। पदाधिकारियों ने मांग पूरी नहीं होने पर प्रदेशस्तर पर आंदोलन और चुनाव में 90 हजार पेंशनधारी परिवारों द्वारा सत्ताधारी दल के बहिष्कार का ऐलान किया।

पेंशनर्स की नाराजगी इसलिए
पेंशनर समाज के संभाग अध्यक्ष आरएस मक्कड़ ने बताया कि शासन द्वारा सातवें वेतनमान के अनुसार पुनरीक्षित पेंशन अप्रैल 2018 से लागू करने का ऐलान किया है, जबकि यह जनवरी 2016 से लागू किया जाना था। इस तरह 27 माह के एरियर्स से पेंशनर्स को वंचित किया जा रहा है। इसी तरह केंद्र सरकार के पेंशनर्स को महंगाई राहत राशि सात फीसदी दी जा रही है, लेकिन राज्य शासन के पेंशनर्स को केवल पांच फीसदी महंगाई राहत देने का ऐलान किया है।

 

Durg patrika

90 हजार पेंशनर परिवार एकजुट
संभाग अध्यक्ष ने बताया कि प्रदेश में इस समय 90 हजार पेंशनर है। सभी एरियर्स और महंगाई राहत की मांग को लेकर एकजुट हैं। उन्होंने बताया कि इसकी मांग को लेकर आंदोलन की शुरूआत दुर्ग से की जा रही है। जल्द ही इसका विस्तार पूरे प्रदेश में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पेंशनर्स के परिवार मांग पूरी नहीं होने पर सरकार के खिलाफ मुहिम को लेकर भी सहमत है।

वोरा-मध्यानी ने दिया समर्थन
पेंशनधारियों के मांगों और आंदोलन को कांग्रेस विधायक अरुण वोरा और जोगी कांग्रेस के नेता प्रताप मध्यानी ने भी समर्थन दिया। दोनों नेता पेंशनर्स के धरना पंडाल में पहुंचे और आंदोलन को समर्थन की घोषणा की। नेताओं ने इस दौरान पेंशनर्स को संबोधित भी किया। नेताओं ने कहा कि जिन्होंने अपने जीवन का अधिकतर समय शासकीय सेवाओं में लगाया उन्हें अब संघर्ष के लिए मजबूर करना अन्याय है।

Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned