अमृत मिशन पर कोरोना का ग्रहण, कर्मचारी के पॉजिटिव पाए जाने के बाद पाइप लाइन विस्तार का काम बंद

पहले से ही लेटलतीफ चल रहे अमृत मिशन के काम में अब कोरोना का ग्रहण लग गया है। मिशन के तहत पाइप लाइन बिछाने के काम में लगा सुपरवाइजर के कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। इसके बाद निगम प्रशासन ने पाइप लाइन बिछाने का काम बंद करा दिया है। वहीं सुपरवाइजर से संपर्क में आए 24 अन्य कर्मचारियों को भी क्वारंटाइन किया गया है।

By: Hemant Kapoor

Updated: 10 May 2020, 11:01 PM IST

दुर्ग. अमृत मिशन के तहत शहर में नया वाटर सप्लाई सिस्टम तैयार किया जा रहा है। इसके लिए 152 करोड़ 10 लाख के प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है। इस राशि से वाटर सप्लाई सिस्टम के स्ट्रक्चर के साथ पुरानी पाइप लाइनों को बदलना है। इसके अलावा आउटर इलाकों में नई पाइप लाइन पहुंचाया जाना है। हर इलाके में पानी पहुंचाई जा सके इसके लिए नई टंकियां बनाने के साथ पुरानी टंकियों की मरम्मत किया जाना है, लेकिन इसका काम संतोषजनक नहीं है।


इस महीने पूरा होना था काम
प्रोजेक्ट का काम इस माह यानि मई 2020 तक पूरा हो जाना था, लेकिन अब तक 75 फीसदी भी काम नहीं हो पाया है। इसे देखते हुए राज्य शासन द्वारा ठेका कंपनी को एक साल का एक्सटेंशन भी दे दिया गया है, लेकिन अब काम में गंभीरता नहीं दिखाई गई तो इस अवधि में भी काम पूरा होना मुश्किल है।


महीनेभर बाद शुरू हुआ था काम
देश में कोरोना के संक्रमण के चलते लॉक डाउन की घोषणा के साथ ही 23 मई को अमृत मिशन का भी काम बंद कर दिया गया था। महीनेभर बाद 23 अप्रैल को काम शुरू कराया गया था। इस दौरान पाइप लाइन बिछाने का काम शुरू किया गया था, लेकिन इसके 10 दिन बाद ही सुपरवाइजर के कोरोना पॉजिटिव होने का खुलासा हो गया।


इस तरह समझे काम में देरी को
0 2 साल में 275 किमी पाइप बिछाई गई है। अभी भी 171 किमी पाइप लाइन बिछाना है।
0 शहर में 28 हजार ४७ नल कनेक्शन है। इसके अलावा 9 हजार 10 भागीरथी नल कनेक्शन है। सभी में वाटर मीटर लगाया जाना है, लेकिन अब तक केवल गिनती के इलाकों मीटर लगाए जा सके हैं।
0 नगर निगम के मुताबिक 49 हजार 564 घर है। इस हिसाब से करीब 21 हजार 567 नए नल कनेक्शन दिया जाना है। इसकी अब तक शुरूआत नहीं हो पाई है।
0 प्रोजेक्ट के तहत 7 गार्डन बनाया जाना है। 3 गार्डन का काम पूरा हुआ है। 4 उद्यानों के काम में अब भी अटके हुए हैं।
0 प्रोजेक्ट के तहत 6 नई टंकियां भी बनाया जाना है। इनमें से ट्रांसपोर्ट नगर, हनुमान नगर और पुलगांव में टंकी का काम पूरा हो गया है। लेकिन टेस्टिंग का काम नहीं हो पाया है।
0 नया बस स्टैंड के सामने स्थित 11 एमएलडी के फिल्टर प्लांट का रेनोवेशन किया जाना है। इस पर काम शुरू नहीं हुआ है।
0 सेप्टेज मैनेजमेंट और वेस्ट वाटर रिसाइकिलिंग का काम भी प्रोजेक्ट में शामिल हैं, लेकिन इस पर भी काम शुरु नहीं हो पाया है।

Hemant Kapoor Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned