APL श्रेणी की कोरोना वैक्सीन खत्म, आधे से ज्यादा सेंटर्स पर लटके ताले, बोर्ड में लिखकर टांगा नहीं लगेगा टीका

Corona vaccination in chhattisgarh: लोगों ने कहा कि संकट की घड़ी में भी सरकार लोगों को समय पर वैक्सीन उपलब्ध नहीं करा पा रही है। इससे ज्यादा शर्मिंदगी और क्या हो सकती है।

By: Dakshi Sahu

Published: 13 May 2021, 06:16 PM IST

दुर्ग/राजनांदगांव. राजनांदगांव जिले में APL कोटे के कोरोना वैक्सीन के खत्म हो जाने से शहर में बने एपीएल कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर में ताला लगा हुआ है, जिसके चलते बिना टीका लगाए लोग मायूस होकर लौट रहे हैं। कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई में सबसे अहम हथियार के रूप में प्रयोग किया जा रहा कोरोना वैक्सीन के खत्म हो जाने के कारण बुधवार को जिले के एपीएल सेंटरो पर लोगों को कोरोना वैक्सीन नहीं लग सका है। प्रशासन ने कोरोना वैक्सीन के कमी के चलते इन वैक्सीनेशन सेंटर में ताला जड़ दिया है। जिससे लोगों का गुस्सा भी फूट पड़ा है। यही हाल दुर्ग जिले में भी है। दुर्ग जिले के भी कई APL सेंटर्स में ताला लटक रहा है। वैक्सीनेशन सेंटर में एपीएल और सामान्य लोगों की वैक्सीन खत्म होने का बोर्ड लटका दिया है। जिले के रिसाली नगर निगम के रिसाली हाई स्कूल में भी बुधवार को एपीएल श्रेणी की वैक्सीन लगाने आए लोग वैक्सीन नहीं होने का बोर्ड देखकर मायूम से हो गए। लोगों ने कहा कि संकट की घड़ी में भी सरकार लोगों को समय पर वैक्सीन उपलब्ध नहीं करा पा रही है। इससे ज्यादा शर्मिंदगी और क्या हो सकती है।

मिले थे सिर्फ 9 हजार वैक्सीन
राजनांदगांव जिले में बीते 1 मई की देर शाम 9 हजार कोरोना वैक्सीन का डोज जिला प्रशासन को प्राप्त हुआ था लेकिन अब वह खत्म हो गया है जिसके कारण सेंटर्सं में कोरोना वैक्सीनेशन कार्य को बंद कर दिया है। वहीं एपीएल कोटे के कोविड-19 वैक्सीन सेंटर में ताला लगा नजर आने से कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए आए लोग भटकते नजर आए हैं। हितग्राहियों का कहना है कि वैक्सीन खत्म होने की सूचना देनी चाहिए थी, वही सेंटरों मे कर्मचारियों की नियुक्ति करनी चाहिए ताकि सही जानकारी मिल सके।

शासन द्वारा अंत्योदय, बीपीएल और एपीएल अलग-अलग श्रेणी बनाकर कोरोना वैक्सीन लगाया जा रहा है। एपीएल कोटे का वैक्सीन खत्म होने के चलते एपीएल वैक्सीनेशन सेंटर बंद किए गए हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही एपीएल कोटे का वैक्सीन पहुंचने पर एपीएल श्रेणी के लोगों का वैक्सीनेशन दोबारा शुरू किया जा सकेगा, लेकिन वैक्सीनेशन के बंद होने से लोगों के चेहरे मायूस दिखाई दे रहे हैं। वैक्सीनेशन कराने एपीएल श्रेणी के लोग ही सबसे ज्यादा सामने आ रहे थे और उनके कोटे का ही वैक्सीन खत्म होने के चलते एपीएल श्रेणी के लोगों में नाराजगी भी देखी जा रही है।

अब तक साढ़े 3 लाख लोगों ने लगाया वैक्सीन
राजनांदगांव जिले में वैक्सीनेशन का काम व्यवधान के बीच जारी है और अब तक साढ़े तीन लाख लोगों ने वैक्सीन लगा लिया है। कोरोना की रोकथाम के लिए जिले के सभी टीकाकरण केन्द्रों में टीका लगाने का कार्य प्रगति पर है। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने नागरिकों से वैक्सीन लगाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन कोविड-19 का सुरक्षा कवच है। कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए कोविड वैक्सीन जरूर लगाए और कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करें। स्वास्थ्य कार्यकर्ता, फ्रंट लाइन वर्कर, बुजुर्गों एवं 45 वर्ष की आयु के साथ ही युवा भी बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन के लिए आगे आ रहे हैं और लोगों में जागरूकता बढ़ी है। जिले में अब तक 3 लाख 45 हजार 549 लोगों ने वैक्सीन लगा लिया है। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को 15 हजार 278 प्रथम डोज तथा 13 हजार 133 दूसरा डोज लगाए है। फ्रंट लाइन वर्कर को 12 हजार 83 प्रथम डोज, 8 हजार 911 दूसरा डोज, 45 वर्ष एवं उससे अधिक आयु वालो को 2 लाख 66 हजार 423 प्रथम डोज, 14 हजार 598 दूसरा डोज तथा 18 वर्ष से 44 वर्ष वाले नागरिकों को 15 हजार 123 प्रथम डोज लग चुका है।

रैपिड एंटीजन टेस्ट की सुविधा कल से तीन केन्द्रों में
राजनांदगांव जिले में कोरोना जांच के लिए तीन केन्द्रों में दिन एवं रात 24 घंटे एंटीजन टेस्ट की सुविधा कल से दी जाएगी। दिग्विजय स्टेडियम, गांधी सभागृह एवं पद्मश्री गोविंदराम निर्मलकर ऑडिटोरियम गौरव पथ में यह सुविधा कल से रहेगी। नागरिक किसी भी समय दिन या रात में सेम्पल देकर एंटीजन टेस्ट करवा सकते हैं। छत्तीसगढ़ सरकार के महा जांच अभियान के तहत छत्तीसगढ़ के 14 नगर निगम के 49 केन्द्रों में कल से सप्ताह में सात दिन 24 घंटे रैपिड एंजीजन टेस्ट किया जाएगा।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned