BJP प्रदेश अध्यक्ष और निकाय चुनाव प्रभारी के सामने कार्यकर्ताओं ने जमकर साधा वरिष्ठों पर निशाना, सांसद ने कर दी खिंचाई

BJP प्रदेश अध्यक्ष और निकाय चुनाव प्रभारी के सामने कार्यकर्ताओं ने जमकर साधा वरिष्ठों पर निशाना, सांसद ने कर दी खिंचाई
BJP प्रदेश अध्यक्ष और निकाय चुनाव प्रभारी के सामने कार्यकर्ताओं ने जमकर साधा वरिष्ठों पर निशाना, सांसद ने कर दी खिंचाई

Dakshi Sahu | Updated: 12 Oct 2019, 04:00:44 PM (IST) Durg, Durg, Chhattisgarh, India

संभाग स्तरीय बैठक में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी और पूर्व मंत्री एवं निकाय चुनाव के लिए प्रदेश प्रभारी अमर अग्रवाल के सामने दिखी। दोनों नेता नगरीय निकाय चुनाव के तहत संभाग के नेताओं से रायशुमारी के लिए आए थे।

दुर्ग. विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर असंतोष और पराजय का शूल भाजपा नेताओं को अब भी सता रहा है। इसकी बानगी शुक्रवार को संभाग स्तरीय बैठक में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी और पूर्व मंत्री एवं निकाय चुनाव के लिए प्रदेश प्रभारी अमर अग्रवाल के सामने दिखी। दोनों नेता नगरीय निकाय चुनाव के तहत संभाग के नेताओं से रायशुमारी के लिए आए थे।

बैठक जिला भाजपा कार्यालय में हुई। बैठक में प्रदेश अध्यक्ष व प्रभारी के सामने नेताओं ने टिकट के बंटवारे और प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया पर खुलकर सवाल खड़े किए। करीब तीन घंटे चली बैठक में प्रदेश अध्यक्ष व प्रभारी ने सभी सुझाव डायरी में नोट किए और प्रदेश स्तर पर आलाकमान के सामने रखने का भरोसा दिलाया।

Read more:

कार्यकर्ताओं की पसंद का ही हो प्रत्याशी
सांसद विजय बघेल ने प्रत्याशी थोपने के बजाए कार्यकर्ताओं की पसंद पर ध्यान देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि बाहरी प्रत्याशियों जैसे सवाल दुर्ग से ही ज्यादा उठते रहे हैं और यहां के कार्यकर्ताओं की पीड़ा भी है। इसलिए इस चुनाव में इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

छह संगठनात्मक जिले के पदाधिकारी हुए शामिल
बैठक में सभी नेताओं को सुझाव रखने का अवसर दिया गया। पूर्व विधायक कैलाश शर्मा, सुरेंद्र पाटनी, राजेश ताम्रकार, ईश्वर शर्मा, संतोष अग्रवाल, कांशीनाथ शर्मा व रमन यादव सहित एक दर्जन से ज्यादा नेताओं ने सुझाव रखे। लगभग सभी ने टिकट वितरण में भेदभाव का मामला उठाया।

सांसद ने दिया लोकसभा चुनाव का उदाहरण
कार्यकर्ताओं की ओर से सांसद विजय बघेल ने भी बातें रखी। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय नेतृत्व ने 11 सांसदों का टिकट काटकर मैदानी कार्यकर्ताओं को उतारा। इसका सकारात्मक नतीजा सामने आया। इसलिए पुराने पैटर्न से हटकर नए कार्यकर्ताओं को मौका दिया जाना चाहिए।

बिना नाम लिए वरिष्ठों पर साधा निशाना
बैठक में सुझावों के दौरान भेदभाव, भाई-भतीजावाद, परिवारवाद, बड़े नेताओं के एकाधिकार जैसे कई आरोप लगाए गए। इस दौरान नेताओं व कार्यकर्ताओं ने सीधे तौर पर किसी का भी नाम नहीं लिया, लेकिन अपरोक्ष रूप से उनका निशाना जिले में इससे पहले प्रभावी रहे नेताओं पर रहा।

संगठन चुनाव के लिए नियुक्तियों पर नाराजगी
सांसद बघेल ने संगठन चुनाव के मद्देनजर की गई नियुक्तियों पर भी जिले के नेताओं की खिंचाई की। सांसद होने के नाते नाम मांगे गए थे, लेकिन उनके नामों को दरकिनार कर राज्यसभा सांसद सरोज पांडेय के समर्थकों की नियुक्ति कर दी गई। ऐसी प्रवृत्ति रही तो पार्टी के लिए विपरीत स्थिति बनती रहेगी।

महापौर व पार्षद टिकट पुराने पैटर्न पर तय होगा
चुनाव प्रदेश प्रभारी अग्रवाल ने कहा टिकट चयन का पैटर्न भी इस बार पिछली बार की तरह होगा। पार्षद व निचले स्तर के टिकट जिला स्तर पर तय किए जाएंगे। महापौर व अध्यक्षों के टिकट प्रदेश स्तर पर तय होगा। जिन टिकटों के फैसले में परेशानी होगी उन्हें अपील समिति के पास भेज दिया जाएगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned