छोटी सी नोकझोंक पर बड़ा हंगामा, BIT में उत्पाती छात्रों ने गाड़ी को आग के हवाले कर लहराया हथियार

बीआईटी में सोमवार की दोपहर हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थियों के साथ छोटी सी नोकझोंक बड़े हंगामे में बदल गई।

By: Dakshi Sahu

Published: 22 Aug 2017, 09:57 AM IST

भिलाई. भिलाई इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटी) में सोमवार की दोपहर हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थियों के साथ छोटी सी नोकझोंक बड़े हंगामे में बदल गई। जूनियर विद्यार्थियों के बुलावे पर पहंचे बाहर के हुड़दंगी लड़कों ने हॉस्टल में घुसकर सीनियर विद्यार्थियों से मारपीट की। तोडफ़ोड़ कर उत्पात मचाया। कैंपस में धारदार हथियार लहराए। दस से ज्यादा विद्यार्थियों को चोटें आई हैं। इस बीच गेट के बाहर खड़ी एक कार को भी आग लगा दी गई। जिस समय उत्पाती लड़के मारपीट करके भाग रहे थे तब मुख्य गेट के पास कॉलेज के प्राध्यापक मौजूद थे, उन्होंने तुरंत पुलिस को फोन करके घटना की जानकारी दी।

बीआईटी के बाहर जहां हॉस्टल के विद्यार्थियों और आकाश के साथ बाहर से आए उत्पाती लड़कों के बीच हाथापाई हुई वहां एक कार खड़ी थी। इस झगड़े के बीच बात इतनी आगे बढ़ गई की कार को पलटकर उसमें आग लगा दी गई। सबके सामने कार धु-धुकर जली। अब तक यह साफ नहीं हो पाया है कि आखिर गाड़ी को आग के हवाले किसने किया। आसपास चाय की दुकान चलाने वाला भी मामला बढ़ता देख दुकान बंद करके चलता बना। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक भीड़ ज्यादा बढऩे की वजह से मामला काबू से बाहर हो गया। इसी बीच कार में आग लगाई गई।

मारपीट करने वाले पांचों आरोपी गिरफ्तार
हॉस्टल में घुसकर मारपीट करने वाले पांच आरोपी लड़कों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सभी पर धारा ४५२, २९४, ५०६ बी, ३२३, १४७ और ४२७ के तहत अपराध दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक आकाश पांडेय ने बीआईटी के छात्र कृष्णकांत से बदला लेने के लिए अपने दोस्त अनिल चौहान, रूंगटा कॉलेज का छात्र ईमामुद्दीन, दुर्ग पॉलीटेक्निक के छात्र जमान, और अय्यपा नगर निवासी रमीज के साथ हॉस्टल में मारपीट की। आरोपी छात्र जल्दबाजी में अपनी कार वेगनआर क्रमांक: सीजी ०७ एल ५९३४ को भी मौके पर ही छोड़कर भाग खड़े हुए। जिस पर अज्ञात ने आग लगाई।

अज्ञात छात्रों के खिलाफ भी धारा ४३५ के तहत अपराध दर्ज किया गया है। यही नहीं दोनों पक्षों में मारपीट होने के कारण काउंटर केस पंजीबद्ध किया गया है। प्राचार्य बीआईटी डॉ. अरूण अरोरा ने बताया कि मामले की जांच और दोषी विद्यार्थियों का फैसला करने मंगलवार को जांच समिति बनाएंगे। यह समिति विद्यार्थियों से चर्चा करने के बाद निष्कर्ष पर पहुंचेगी। छात्र आकाश पांडेय के खिलाफ पहले भी कई बार शिकायत आ चुकी है। अगर मामला सिद्ध हुआ तो उसे टीसी थमाएंगे। सिटी कोतवाली दुर्ग टीआई भावेश साव ने बताया कि मामले की सूचना मिलते ही पुलिस बीआईटी पहुंची। घायलों का मुलायजा कराने के बाद उनकी एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपी लड़के गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

इस तरह समझें पूरे मामले को
1. दोपहर २ बजे का वक्तथा। सातवें सेमेस्टर के विद्यार्थी, कृष्णकांत, अभय और अर्श दोस्तों के साथ हॉस्टल विंग के सामने खड़े थे। तभी पांचवें सेमेस्टर का छात्र आकाश पांडे अपनी बाइक पर तेज रफ्तार से आया और उनके सामने गाड़ी लाकर खड़ी कर दी। कृष्णकांत ने गाड़ी हटाने को कहा तो आकाश गाली-गलौच पर उतर आया।
२.कृष्णकांत ने इस बात को गंभीरता से लिया और कॉलेज गेट के बाहर पहुंचा, जहां आकाश के दोस्त चाय की दुकान के पास पहले से खड़े थे। पहले तो इन सभी के बीच कहा-सुनी होती रही, लेकिन कुछ देर बाद आकाश के एक दोस्त ने कृष्णकांत को धक्का दे दिया। देखते ही देखते बात बिगड़ गई। दोनों पक्षों के बीच मारपीट शुरू हो गई।
३.करीब २० मिनट का समय बीता होगा। आकाश अपने बाहरी दोस्तों के साथ कैंपस में पहुंचा। आकाश के साथ बाहर से आए चार और लड़के थे, जो सीधे हॉस्टल में घुस गए। बारी-बारी से सभी कमरों में कृष्णकांत और उसके दोस्तों की तलाशी ली। इस दौरान उनके हाथ में बड़े हथियार भी थे। आकाश और उत्पाती लड़के कमरा नंबर ११६ में पहुंचे, जहां कृष्णकांत और उसके दोस्त धरा गए। चाकू लहराते हुए काटने-मारने की धमकी दी।
४.उत्पाती मारपीट करके बाहर निकल ही रहे थे कि कॉलेज के भारी संख्या में छात्र इकट्ठा हो गए। आकाश और उसके बाहरी दोस्तों को दौड़ाया। लेकिन सभी उत्पाती भाग निकले। थोड़ी देर में कॉलेज प्रशासन भी मौके पर पहुंच गया। हॉस्टल के जख्मी विद्यार्थियों को फस्र्टएड देने के बाद पुलिस में एफआईआर की गई।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned