scriptbrick kilns and sand mines are spoiling Surat | संकट में सदानीरा - गंदगी के कारण पानी प्रदूषित, ईंट भट्ठे व रेत खदान बिगाड़ रहे सूरत | Patrika News

संकट में सदानीरा - गंदगी के कारण पानी प्रदूषित, ईंट भट्ठे व रेत खदान बिगाड़ रहे सूरत

दुर्ग-भिलाई सहित जिले की बड़ी आबादी की प्यास बुझाने वाली शिवनाथ संकट में है। नदी में डाले जाने वाले कचरे और नालों की गंदगी के कारण जहां पानी लगातार प्रदूषित हो रहा है, वहीं तटीय गांवों में चल रहे ईंट भट्ठों के लिए तट से मिट्टी के कटाव और मनमानी रेत निकासी के कारण नदी का स्वरूप लगातार बिगड़ता जा रहा है।

दुर्ग

Published: May 28, 2022 08:00:27 pm

शिवनाथ से दुर्ग-भिलाई के शहरी आबादी के साथ करीब 100 गांवों के 10 लाख से ज्यादा आबादी की प्यास बुझती है। इसके अलावा दुर्ग से लेकर धमधा तक तटीय गांवों के लोग निस्तारी के लिए भी इसका उपयोग करते हैं। इस तरह शिवनाथ जिले के लिए जीवनदायिनी से कम नहीं है, लेकिन अनदेखी और लोगों की लापरवाही के कारण शिवनाथ लगातार प्रदूषित हो रही है। हालात यह है कि शिवनाथ देश के 109 नदियों के साथ प्रदूषित नदियों की सूची में भी पहुंच गई है।
संकट में सदानीरा - गंदगी के कारण पानी प्रदूषित, ईंट भट्ठे व रेत खदान बिगाड़ रहे सूरत
नदी में डाले जाने वाले कचरे और नालों की गंदगी के कारण जहां पानी लगातार प्रदूषित हो रहा है

ऐसे समझे हालात को

महमरा में मानक से ज्यादा कॉलीफार्म
दुर्ग के दो दर्जन से ज्यादा कालोनियों के सीवरेज के पानी पुलगांव नाला के माध्यम से सीधे शिवनाथ में पहुंचता है। पुलगांव नाला दुर्ग-भिलाई को पेयजल सप्लाई के लिए बनाए गए महमरा एनीकट के ठीक ऊपर मिलता है। कुछ साल पहले किए गए एक परीक्षण में एनीकेट के आसपास ह्यूमन सीवरेज व खतरनाक कॉलीफार्म जीवाणु की मात्रा मानकों से कहीं अधिक पाया गया था।
बेलौदी का पानी नहाने लायक नहीं
शहर के बांकी हिस्से का पानी शंकरनाला सेे होकर बेलौदी के पास शिवनाथ में मिलता है। यहां सर्वाधिक प्रदूषण की स्थिति है। सीवरेज के पानी के कारण बेलौदी का एनीकट बारिश को छोड़कर शेष समय गंदगी से अटा रहता है। गर्मी में पानी नहाने के लायक भी नहीं होता और कीड़े-मकोड़ों से भरा रहता है। यह इलाका जलकुंभियों से अट गया है।
भिलाई-राजनांदगांव की भी गंदगी
दुर्ग के अलावा भिलाई से निकलने वाला कोसानाला झेंझरी के पास नदी में मिलता है। इसी तरह राजनांदगांव में भी दो बड़े नालों से ह्यूमन सीवरेज का पानी नदी में पहुंचता है। इस बीच छोटे नालों व तटीय गांवों से भी गंदगी नदी में पहुंचता है। इनसे से भी प्रदूषण बड़ रहा है। झेंझरी के पास शिवनाथ का पानी बीएसपी के पानी के कारण काला दिखने लगा है।

तटीय गांवों में 100 से ज्यादा ईंट-भट्ठे
जिले में राजनांदगांव से लेकर बेमेतरा की सरहद तक 77 रेत खदानें चलती रही हैं। इसके अलावा तटों पर 100 से अधिक ईंट -भट्ठे चल रहे हैं। नदी को सर्वाधिक नुकसान इन्हीं से हो रहा है। ईंटों के लिए मिट्टी निकाले जाने से तटों का स्वरूप बिगड़ रहा है। वहीं अव्यवस्थित रेत निकासी के कारण नदीं की धार बदल रही है।

जिले में इसलिए स्थिति ज्यादा खराब

0 सालों से नदी और नाले की सफाई नहीं
पुलगांव नाला शिवनाथ के मुहाने से लेकर शहर के अंतिम छोर तक जलकुंभियों से अटा है। यह स्थिति कई सालों से है। सफाई नहीं होने के कारण जलकुंभियों की परत लगातार मोटी हो रही है। इनके साथ सीवरेट का पानी नाले को और भी प्रदूषित कर रहा है। इसके अलावा शिवनाथ में ऊपरी क्षेत्र से गाद पहुंचता रहता है।
0 एनीकट में धूल रहे वाहन, डाल रहे कचरा
एनीकट का उपयोग वाहनों की धुलाई के लिए भी किया जाता है। पूरे दिन एनीकट के ऊपर छोटे-बड़े वाहनों की धुलाई के लिए कतार लगी रहती है। वाहनों की धुलाई के दौरान धूल-मिट्टी व गंदगी से साथ आइल व कार्बन भी एनीकट के पानी में धूलता है। इससे भी पानी काला हो रहा है। वहीं लोग कचरा भी नदी में फेंक रहे हैं।
0 पंडों ने बना लिया अस्थि विसर्जन स्पॉट
एनीकट पर स्थानीय मुक्तिधाम में पूजा पाठ और शव दाह के दौरान धार्मिक क्रिया कराने वाले पंडों ने मनचाहे ढंग से अस्थि विसर्जन का स्थल बना लिया है। पंडों ने बकायदा इसके लिए एनीकट में बोर्ड भी लगा रखा है। अस्थियों के अलावा पूजा-पाठ के बाद बचने वाले अवशेष भी शिवनाथ में डाला जा रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

नकवी के इस्तीफे के बाद स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला स्टील मंत्रालयVideo: 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर बोले Farooq Abdullah, 'वो अपने घर में रखना', भड़के यूजर्सMalaysia Masters: पीवी सिंधू, साई प्रणीत और परूपल्ली कश्यप पहुंचे दूसरे दौर में, साइना नेहवाल हुई बाहरMaharashtra Politics: शिवसेना के संसदीय दल में भी बगावत? उद्धव ठाकरे ने भावना गवली को चीफ व्हिप के पद से हटायाMukhtar Abbas Naqvi ने मोदी कैबिनेट से दिया इस्तीफा, बनेंगे देश के नए उपराष्ट्रपति?काली पोस्टर विवाद में घिरीं महुआ मोइत्रा के समर्थन में आए थरूर, कहा- 'हर हिन्दू जानता है देवी के बारे में'Good News: राजस्थान में अग्निपथ योजना के आवेदन शुरू, सबसे पहले इन जिलों में है भर्तीयूपी को बड़ी सौगात, काशी को 1800 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात देंगे पीएम Modi, बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का करेंगे लोकार्पण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.