अच्छी खबर: सरकार ने बदला फैसला, अब राज्य के साथ केंद्र के कोटे का भी मिलेगा अलग से मुफ्त चावल

अब राज्य सरकार मई और जून के कोटे साथ केंद्र सरकार द्वारा घोषित कोरोना (Coronavirus in chhattisgarh) राहत का मुफ्त चावल भी अलग से हितग्राहियों को देगी।

By: Dakshi Sahu

Published: 08 May 2021, 12:01 PM IST

दुर्ग. दुर्ग जिले के 2 लाख 90 हजार अंत्योदय व प्राथमिकता वाले राशन कार्डधारियों के लिए अच्छी खबर है। अब राज्य सरकार मई और जून के कोटे साथ केंद्र सरकार द्वारा घोषित कोरोना राहत का मुफ्त चावल भी अलग से हितग्राहियों को देगी। इससे पहले राज्य सरकार ने खुद के द्वारा घोषित दो माह के मुफ्त चावल के साथ केंद्र के कोटे को भी समाहित करने का फैसला किया था। इसे बदलकर अब दोनों कोटे का चावल देने का फैसला किया गया है। इससे हितग्राहियों को 10 से 50 किलो तक अतिरिक्त चावल मिलेगा।

की थी मुफ्त चावल देने की घोषणा
कोरोना संक्रमण के कारण सामान्य गतिविधियां बंद होने से गरीब परिवारों को आर्थिक व खाद्यान्न संकट जैसी स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। इसे देखते हुए केंद्र व राज्य सरकार ने सहायता के रूप में गरीब परिवारों को मई और जून में मुफ्त चावल देने की घोषणा की है। राज्य सरकार की घोषणा से जिले के 2 लाख 90 हजार से अधिक अंत्योदय व प्राथमिकता वाले राशनकार्डधारी परिवार लाभांवित होंगे। वहीं केंद्र सरकार ने भी राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत पात्र परिवारों के प्रत्येक सदस्य को 5 किलो प्रतिमाह के हिसाब से मई और जून में मुफ्त चावल देने की घोषणा की है। इससे करीब 2 लाख 68 परिवार लाभांवित होंगे। सीपी दीपांकर खाद्य नियंत्रक दुर्ग ने बताया कि शासन द्वारा चावल वितरण को लेकर निर्देश जारी किया गया है। राज्य और केंद्र दोनों के कोटे के चावल हितग्राहियों को दिया जाएगा। इसके लिए आवंटन भी जारी कर दिया गया है।

पिछली बार भी मिला था अलग-अलग कोटा
पिछले साल भी इसी तरह कोरोना संकट के दौरान केंद्र व राज्य सरकार इसी तरह मुफ्त चावल की घोषणा की गई थी। इसके तहत राज्य शासन द्वारा 2 माह का नियमित राशन के साथ केंद्र सरकार द्वारा घोषित 3 माह का प्रति सदस्य 3 से 4 किलो चावल हितग्राहियों को दिया गया था। इससे हितग्राहियों के हिस्से में 15 से 75 किलो तक एक्स्ट्रा चावल आया था।

एपीएल को केंद्र का लाभ नहीं
एपीएल परिवारों के 2 लाख 21 हजार परिवारों को केंद्र के मुफ्त चावल का लाभ नहीं मिलेगा। लिहाजा उन्हें मई का राज्य सरकार की नियमित कोटे का चावल दिया जाएगा। इसके लिए उन्हें शासन द्वारा निर्धारित कीमत भी चुकानी पड़ेगी। इसी तरह राज्य अन्नपूर्णा, एकल निराश्रित और नि:शक्तजन को भी केंद्र के चावल का लाभ नहीं मिलेगा। लेकिन राज्य के कोटे का चावल उन्हें मुफ्त दिया जाएगा।

पत्रिका ने उठाया था मुद्दा
पत्रिका ने पिछली बार की तरह राज्य व केंद्र का कोटा अलग अलग देने की बजाय दोनों कोटे को समाहित कर हितग्राहियों को चावल देने का मुद्दा उठाया था। इससे हितग्राहियों को होने वाले नुकसान की विस्तृत जानकारी देकर समाचार प्रकाशित किया गया था। इसका अब सकारात्मक नतीजा सामने आया है, सरकार ने अब दोनों कोटे के चावल हितग्राहियों को देने का फीस5 किया है।

अब हितग्राहियों को इस तरह मिलेगा चावल
अंत्योदय राशन कार्ड
सदस्य संख्या - राज्य का - केंद्र का - टोटल
1 सदस्य - 70 किलो - 10 किलो - 80 किलो
2 सदस्य - 70 किलो - 20 किलो - 90 किलो
3 सदस्य - 70 किलो - 30 किलो - 100 किलो
4 सदस्य - 70 किलो - 40 किलो - 110 किलो
5 सदस्य - 70 किलो - 50 किलो - 100 किलो

प्राथमिकता वाले
सदस्य संख्या - राज्य का - केंद्र का - टोटल
1 सदस्य - 20 किलो - 00 - 20 किलो
2 सदस्य - 40 किलो - 00 - 40 किलो
3 सदस्य - 70 किलो - 00 - 70 किलो
4 सदस्य - 70 किलो - 10 किलो - 80 किलो
5 सदस्य - 70 किलो - 30 किलो - 100 किलो
6 सदस्य - 84 किलो - 36 किलो - 12 किलो
(नोट - 5 से अधिक सदस्य वाले परिवार को 2 माह का 6 किलो प्रति सदस्य के हिसाब से चावल दिया जाएगा।)

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned