भाजपा मंडलाध्यक्ष विवाद पर संगठन ने चलाया अनुशासन का डंडा, टिकट काटने की चेतावनी से नेताओं के बीच मचा हड़कंप

भाजपा (CG BJP) में मंडल अध्यक्षों के चुनाव में विवाद पर पार्टी अलाकमान का सख्त रूख सामने आया है। भविष्य में टिकट व दूसरे अवसरों से वंचित किए जाने की चेतावनी भी दी गई है। (Durg news)

By: Dakshi Sahu

Published: 20 Nov 2019, 12:47 PM IST

दुर्ग. भाजपा (Bhartiya janta party CG) में मंडल अध्यक्षों के चुनाव में विवाद पर पार्टी अलाकमान का सख्त रूख सामने आया है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी आलाकमान ने निर्वाचन की प्रक्रिया और मंडल अध्यक्षों की नियुक्ति पर सवाल खड़ा करने वाले नेताओं को टो टूक संयम बरतने की चेतावनी के साथ सार्वजनिक रूप से प्रतिरोध के बजाए पार्टी फोरम ने बात रखने की नसीहत दी है। भविष्य में टिकट व दूसरे अवसरों से वंचित किए जाने की चेतावनी भी दी गई है। मंडल अध्यक्षों के चुनाव को लेकर तीव्र असंतोष के बाद सप्ताहभर से विरोधी खेमे की चुप्पी को इसी चेतावनी का असर माना जा रहा है।

मचा था जमकर बवाल
पखवाड़ेभर पहले मंडल अध्यक्षों के चुनाव में मौजूदा पदाधिकारियों की कथित मनमानी और कार्यकर्ताओं की पसंद को दरकिनार कर चहेतों को निर्वाचित घोषित कर दिए जाने को लेकर जमकर बवाल मचा था। आक्रोश के बाद सांसद विजय बघेल ने दुर्ग व भिलाई दोनों जिले के नेताओं और कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाकर बात प्रदेश व राष्ट्रीय आलाकमान तक भी पहुंचाई थी। इसके बाद दोनों जिलों में मंडल अध्यक्ष के चुनाव को यथास्थिति रखते हुए जिला अध्यक्षों के चुनाव की प्रक्रिया पर रोक भी लगा दी गई है।

नहीं दिख रहा विरोध
चुनाव से असंतुष्ट नेताओं के मुताबिक प्रदेश आलाकमान ने मामले की जांच और कार्रवाई का भरोसा भी दिलाया है, लेकिन अब यह मामला आगे बढ़ता नहीं दिख रहा है। निकाय चुनाव इन्हीं परिस्थितियों में होगी। चुनाव प्रभारी जगदलपुर के पूर्व विधायक संतोष बाफना के सामने पूर्व मंडल अध्यक्ष काशीनाथ शर्मा और जिला भाजपा अध्यक्ष उषा टावरी के बीच जमकर विवाद हुआ था। जिले के बाद जहां विवाद थे उन मंडलों में भी बैठकें शुरू हो गई हंै, लेकिन अब विरोध नहीं दिख रहा है।

जांच दल का पता नहीं बूथ कमेटियां भी चुप
विवाद के बाद पार्टी आलाकमान ने चुनाव पर सवाल खड़ा कर रहे नेताओं को जांच दल भेजकर मामले का पड़ताल कराने का भरोसा दिलाया था। अब तक न तो जांच कमेटी पहुंची, न बूथ कमेटियों के पदाधिकारी समर्थन पत्र जमा करा रहे हैं।

पुरानी कमेटियों को एक्टिव कर दिया झटका
पार्टी आलाकमान ने विवाद के बाद निर्वाचित मंडल अध्यक्षों को यथास्थिति रखते हुए कार्यकारिणी गठन पर रोक लगा दी है। अब नगरीय निकाय चुनाव के टिकट के चयन में पुरानी कमेटियों को एक्टिव रखकर विरोध करने वालों को झटका दे दिया है। संभागीय प्रवक्ता भाजपा सतीश समर्थ ने बताया कि पार्टी परिवार की तरह है। बड़े

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned