कोरोना से ज्यादा लॉकडाउन का खौफ, सब्जी बाजारों में भीड़, पेट्रोल पंपों में लगी एक किमी. लंबी कतार

मंगलवार और बुधवार को टोटल लॉकडाउन के फेर में छह नगरीय निकायों का लॉक डाउन तार-तार हो गया। शहरी क्षेत्रों में लॉकडाउन का उल्लंघन कर लोग बड़ी संख्या में घरों से निकले। (coronavirus lockdown in chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Published: 23 Sep 2020, 11:40 AM IST

दुर्ग. जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने 24 से 30 सितंबर तक टोटल लॉकडाउन का ऐलान किया है। इससे पहले दुर्ग-भिलाई सहित 6 नगरीय निकायों में 20 सितंबर से ही लॉक डाउन प्रभावशील कर दिया गया है, लेकिन मंगलवार और बुधवार को टोटल लॉकडाउन के फेर में छह नगरीय निकायों का लॉक डाउन तार-तार हो गया। टोटल लॉकडाउन पिछले सभी लॉकडाउन से सख्त होगा।

हफ्तेभर के लॉकडाउन में न ही राशन दुकानें खुलेगी और न ही फल-सब्जियां मिलेगी। यहां तक लोगों को पेट्रोल पंपों से पेट्रोल व डीजल भी नहीं मिलेगी। इस घोषणा का असर मंगलवार को बाजारों में दिखा। शहरी क्षेत्रों में लॉकडाउन का उल्लंघन कर लोग बड़ी संख्या में घरों से निकले। इस दौरान बाजार भी सजी और लोगों ने तमाम बंदिशों की अनदेखी कर फल-सब्जी और दूसरी सामग्रियां भी खरीदी। वहीं पेट्रोल पम्पों में भी लंबी कतारें लगी।

कोरोना से ज्यादा लॉकडाउन का खौफ, सब्जी बाजारों में भीड़, पेट्रोल पंपों में लगी एक किमी. लंबी कतारें

सब्जी बाजार में होड़, डिस्टेंसिंग गायब
शहर के सभी सब्जी बाजार पहले के ही तरह खुले, लेकिन सर्वाधिक खराब स्थिति सिविल लाइन महिला समृद्धि बाजार की रही। यहां सब्जी खरीदी के लिए होड़ लगी रही।
सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना भी लोग भूल गए। भीड़ से गौरव पथ सिविल लाइन मार्ग में यातायात भी प्रभावित हुई। लोगों की भीड़ का व्यापारियों ने जमकर फायदा उठाया। हर सब्जी मंगलवार को 20 से 30 रुपए महंगे दाम पर बिकी।

पेट्रोल-डीजल लेने कतार, कहासुनी भी
लॉकडाउन में पेट्रोल और डीजल भी आम लोगों को नहीं मिलेगा। इस कारण मंगलवार को पेट्रोल पम्पों लोगों की लंबी कतारें लगी रही। पेट्रोल व डीजल भरवाने कुछ पेट्रोल पंपों में लोगों के बीच कहासुनी भी होते रही है। दुर्ग के पोटिया स्थित पेट्रोल पंप में मारपीट की घटना भी सामने आई है। लोग 100 या 200 रुपए की जगह 400 से 500 रुपए का पेट्रोल लेते दिखे।

बुधवार को भी भीड़
टोटल लॉक डाउन 24 सितंबर से होगा। इस अब बुधवार केवल एक दिन का समय ही शेष रह गया है। मंगलवार की तरह बुधवार को भी सब्जी बाजारों व पेट्रोल पंपों में भीड़ सुबह से नजर आई। इस दौरान लोग पहले ही तरह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भूल गए।

न कार्रवाई और न ही जुर्माना
निगम प्रशासन द्वारा गाइड लाइन का पालन कराने बकायदा टीम बनाई गई है। सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं करने, मास्क नहीं होने अथवा नियम तोडऩे पर कार्रवाई भी की जा रही थी, लेकिन पखवाड़ेभर से न तो कार्रवाई हो रही है और न ही टीम का पता है।

पुलिस की सख्ती भी नहीं दिखी
लॉकडाउन के दौरान पुलिस की सख्त पहरेदारी की घोषणा की गई थी, लेकिन मंगलवार को यह व्यवस्था भी नहीं दिखी। चौक-चौराहोंं में पुलिस के जवान तैनात नजर आए, लेकिन किसी ने भी आवाजाही पर ध्यान नहीं दिया। बाजार क्षेत्रों में भीड़ को नियंत्रित करने का भी कोई उपाय नहीं किया गया।

इस तरह समझे हालात की गंभीरता को
शुरूआत में जिले में कोरोना के गिनती के ही मामले थे। तीसरे चरण के लॉकडाउन के बाद औसत 250 से 300 मरीज आ रहे हैं। कोरोना से हर दिन 10 से 12 मौतों की खबर भी आ रही है। इसे देखते हुए फिर से सख्त लॉकडाउन किया गया है। लेकिन इसके प्रावधानों का पालन के बजाए लोग खुलेआम बाजार में निकल रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क के नियम का भी पालन नहीं हो रहा है। ऐसे में लॉकडाउन का फायदा कम ही दिख रहा है।

coronavirus
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned