स्टूडेंट्स के लिए बड़ी खबर, CSVTU ने 14 साल बाद बदला Polytechnic का सिलेबस, अब थ्योरी कम, प्रैक्टिकल ज्यादा

स्टूडेंट्स के लिए बड़ी खबर, CSVTU ने 14 साल बाद बदला Polytechnic का सिलेबस, अब थ्योरी कम, प्रैक्टिकल ज्यादा

Dakshi Sahu | Updated: 11 Jul 2019, 12:38:40 PM (IST) Durg, Durg, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (CSVTU) ने 14 साल बाद आखिरकार पॉलीटेक्निक (Polytechnic) के लिए नया सिलेबस (Syllabus) लागू कर दिया है। (Durg news)

भिलाई. छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (CSVTU) ने 14 साल बाद आखिरकार पॉलीटेक्निक (Polytechnic) के लिए नया सिलेबस (Syllabus) लागू कर दिया है। अब विद्यार्थी प्रथम सेमेस्टर सीएस में कंप्यूटर फंडामेंटल एंड एप्लीकेशन विषय में सौ अंक का थ्योरी पेपर नहीं देंगे, बल्कि अब 50 अंक का थ्योरी और सौ अंकों का प्रैक्टिकल होगा। अभी तक प्रैक्टिकल में सौ अंक के सवाल पूछे जाते थे। (Durg education news)

Read more: आयुष विवि से संबद्ध दो सरकारी फार्मेसी कॉलेज अब सीएसवीटीयू को,सरगुजा विवि का इंजीनियरिंग कॉलेज भी हमारा होगा....

विवि का कहना है कि इस सिलेबस को उद्योगों की जरूरतों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। भोपाल की एक सरकारी संस्था राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान परिषद ने सिलेबस को आकार दिया है। यह सिलेबस फिलहाल पॉलीटेक्निक के पहले व दूसरे सेमेसटर से लागू कर दिया गया है। (Durg education news)

CSVTU

जानिए...आखिरी बार कब हुए थे बदलाव
विवि की स्थापना 2005 में हुई। इस समय मध्यप्रदेश के समय में बना 1995 का सिलेबस ही संचालित हो रहा था। बाद में 2005 दिसंबर में सिलेबस को मामूली बदलाव मिला। इस समय से 2019 यानी 14 साल के बाद सिलेबस में उद्योगों की जरूरत के हिसाब से कंटेंट बदले गए हैं। इस सिलेबस में एनआइटीटीटीआर और सीएसवीटीयू ने मिलकर परिवर्तन किया।

Read more: टीचर वेलफेयर के नाम पर करोड़ों कटौती, फायदा किसी को नहीं....

इस तरह हुए सिलेबस में मेजर बदलाव

मॉर्डन ऑफिस मैनेजमेंट
एमओएम ब्रांच में अब तीन पीरियड सिर्फ एनएसएस, एनसीसी और लाइब्रेरी के लिए होंगे। पहले हफ्ते में 36 पीरियड थे, जिसे घटा कर 30 कर दिया है। 6 पीरियड कॅरिकूलम एक्टिविटी के लिए छोड़ा गया है। इससे विद्यार्थियों को किताब के अलावा प्रैक्टिकल नॉलेज से जोड़ा जाएगा। कोर्स का पैटर्न बदलने के साथ ही अब कम्युनिकेशन स्किल के दो नहीं बल्कि एक ही पेपर होगा।

पर्यावरण
सीएस, आइटी, इंस्टूमेंटेशन और इलेक्ट्रॉनिक्स में से इंजीनियरिंग ड्राइंग को हटा दिया गया है। इसकी जगह पर्यावरण विषय को लाया गया है, जो पहले थर्ड सेमेस्टर में हुआ करता था। एमओएम के पहले और दूसरे सेमेस्टर से पर्यावरण को हटा दिया गया है, इसकी जगह डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम की पढ़ाई करेंगे।

इलेक्ट्रिकल
इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स पहले एक साथ था, जिसे अब सिर्फ बेसिक इलेक्ट्रॉनिक्स किया गया है। पहले तक सीएस व आइटी के विद्यार्थी भी इलेक्ट्रिकल पढ़ते थे, जबकि उन्हें इसकी जरूरत ही नहीं थी।

पहली बार 3 ग्रुप में बांटे विषय
विवि के सिलेबस में ब्रांच को दो विषयों में बांट दिया गया है। सिविल, इलेक्ट्रिकल, माइनिंग और इइइ एक ग्रुप में रखे गए हैं। दूसरे ग्रुप में इलेक्ट्रानिक्स एंड टेलीकम्युनिकेशन, इंस्टूमेंटेशन, कंप्यूटर साइंस और आईटी रहेगा। ऐसे ही तीसरे ग्रुप में मैकेनिकल, मेटलर्जी, माइनिंग, केमिकल इंजीनियरिंग का ग्रुप बनाया गया है। आखिरी ग्रुप से भी एक पेपर कम किया गया है।

पहले सिर्फ एक ही विषय के प्रोफेसर पर पूरा लोड पढ़ता था, अब इसमें संतुलन बना रहेगा। फिजिक्स और केमिस्ट्री को अलग किया गया है, जिससे शिक्षकों का लोड कम होगा। कुलसचिव सीएसवीटीयू डॉ. केके वर्मा ने बताया कि पॉलीटेक्निक का नया सिलेबस लागू कर दिया गया है। अब इसमें थ्योरी कम और प्रैक्टिकल अधिक होगा। अंक भी इसी हिसाब से दिए जाएंगे। कुछ ब्रांच में नया विषय लॉन्च किया गया है। (Durg education news)

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned