दुर्ग जंक्शन में मुंबई-हावड़ा रूट पर बढ़ते ट्रैफिक का दबाव कम करने रेलवे करेगा ये एक्सपैरीमेंट, यात्रियों को मिलेगी बड़ी राहत

ट्रैफिक के बढ़ते दवाब से निबटने के लिए दुर्ग रेलवे स्टेशन पर रेलपांत की चौथी लाइन बिछाई जाएगी। रेलवे ने इसके लिए 8.50 करोड़ रुपए मंजूर किया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 10 Mar 2019, 03:22 PM IST

दुर्ग. ट्रैफिक के बढ़ते दवाब से निबटने के लिए दुर्ग रेलवे स्टेशन पर रेलपांत की चौथी लाइन बिछाई जाएगी। रेलवे ने इसके लिए 8.50 करोड़ रुपए मंजूर किया है। नए ट्रैक बिछाने के लिए जगह भी चयनित कर लिया गया है। रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि नए ट्रैक बिछाने का काम जल्द शुरू किया जाएगा। नए ट्रैक बिछाए जाने के बाद मुंबई-हावड़ा रूट पर ट्रैफिक का दवाब कम होगा। अधिकारियों के मुताबिक यह काम एक साल में पूरा कर लिया जाएगा।

ट्रेन के इंजन बदलने पर भी नहीं होगी परेशानी
अधिकारियों का कहना है कि कई बार गुड्स व लंबी दूरी की ट्रेनों का इंजन बदलना पड़ता है। यात्री ट्रेनों का रैक जोडऩे और कम करने का काम भी किया जाता है। इस कार्य में 15 से 30 मिनट तक लगता है। तब तक कई ट्रेनों को बाहर आउटर पर खड़ी कर रखना पड़ता है। नई ट्रैक बनने से ट्रेनों को आउटर में खड़ी नहीं की जाएगी।

जानिए, क्यों जरूरी है चौथी लाइन
मुबंई- हावड़ा रूट पर रोज सवा सौ से ज्यादा गुड्स और यात्री ट्रेनें चल रहीं है। जिसके कारण दुर्ग स्टेशन में ट्रैक खाली नहीं रहती। ट्रैक के अभाव में अक्सर ट्रेन को आउटर पर खड़ी करनी पड़ती है। आउटर में यात्री ट्रेन को खड़ी करने से यात्रियों को परेशानी होती है। इस समस्या को दूर करने के लिए रेलवे ने स्टेशन में चौथी लाइन बिछाने का निर्णय लिया है। रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि ट्रैफिक समस्या को देखते हुए रायपुर स्टेशन में भी नई लाइन बिछाई गई है। प्रयोग के तौर पर किया गया यह कार्य सफल होने पर इसे दुर्ग रेलवे स्टेशन में शुरू किया जा रहा है।

शीघ्र शुरू होगा चौथी लाइन का काम
अलग से लाइन तैयार होने पर भविष्य में दुर्ग स्टेशन का विस्तार भी किया जा सकता है। आवश्यकता पडऩे पर नई लाइन के दोनों ओर प्लेटफार्म बनाया जा सकता है। अभी स्टेशन में 6 प्लेटफार्म है। इसमें एक प्लेटफार्म का उपयोग दल्लीराजहरा लाइन के लिए और रायपुर की दिशा में चलने वाली प्राइमरी लोकल ट्रेनों के लिए किया जाता है। वहीं ५ नंबर प्लेटफार्म गुड्स और यात्री ट्रेनों के लिए उपयोग किया जाता है। पीआरओ रायपुर रेलवे मंडल तनमय मुखोपध्याय ने बताया कि लाइन बिछाने का कार्य शीघ्र शुरू किया जाएगा। इसके लिए राशि स्वीकृत हो चुकी है। स्थल निरीक्षण का कार्य भी पूर्ण हो चुका है। चौथी लाइन में लगभग 8.50 करोड़ रुपए खर्चहोगा।

Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned