मेहमान बनकर बिहार पहुंची पुलिस तब हत्या का फरार आरोपी आया गिरफ्त में

मेहमान बनकर बिहार पहुंची पुलिस तब हत्या का फरार आरोपी आया गिरफ्त में
#Murder, Accused of murder, Absconding accused, Bhilai crime news, Crime branch police, police arrived being guests

Satyanarayan Shukla | Publish: May, 18 2017 11:26:00 PM (IST) Durg

क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम ने हत्या के प्रकरण में फरार आरोपी राजकुमार उर्फ राजू 21 साल को बिहार के सिवान से गिरफ्तार कर लिया है।

भिलाई. क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम ने हत्या के प्रकरण में फरार आरोपी राजकुमार उर्फ राजू 21 साल को बिहार के सिवान से गिरफ्तार कर लिया है। गुरुवार को उसे अदालत में पेश किया गया जहां से उसको न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। एक हफ्ते बाद उसे फिर अदालत में पेश किया जाएगा।

दुर्ग पुलिस को फटकार

हाईकोर्ट ने दुर्ग पुलिस को आरोपी को नहीं पकड़ पाने पर फटकार लगाई थी। आरोपी जमानत के बाद से फरार था। बिहार जिला छपरा थाना मकरस ग्राम बसौही निवासी राजकुमार सिवान में छुपा हुआ था। क्राइम ब्रंाच की टीम बिहार के छपरा और सिवान गई। वहां पुलिस वेष बदलकर इसका पता तलाश करती रही।

रिश्ता तलाशने के बहाना बनाया

गांवों में शादी में मेहमान बनकर गए। शादी-विवाह का सीजन होने से विवाह के लिए रिश्ता तलाशने के बहाना बनाया। गांव-गांव में जाकर आरोपी के संबंध पता तलाश करते रहे। बिहार से एक पेट्रोल पंप से उसे गिरफ्तार किया गया।

लेनदेन के विवाद की थी कबाड़ व्यवसायी की हत्या
क्राइम डीएसपी डी आर पोर्ते ने बताया कि कैंप 1 स्टील नगर जयंती गार्डन के पास निवासी उदय प्रकाश चौधरी 26 साल की आरोपी राजकुमार एवं अच्छेलाल ने 3 सितम्बर 2002 को गंभीर चोट पहुंचा कर हत्या कर दी थी। मृतक कबाड़ का धंधा करता था जिसमें लेनदेन की कारण विवाद हुआ था। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया था।

हाईकोर्ट से गिरफ्तारी वारंट जारी 
द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश दुर्ग ने दोनों आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। इस फैसले के खिलाफ आरोपी ने हाईकोर्ट में अपील की थी। उसे जमानत मिल गई। रिहाई के बाद से वह लापता था। सुनवाई के दौरान लगातार अनुपस्थित रहने पर हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया था।

एक आरोपी भगवान को प्यारा

पुलिस ने बताया कि दूसरा आरोपी अच्छेलाल चौधरी को न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। इसके कुछ दिन बाद गंभीर बीमारी के कारण उसकी मौत हो गई थी।

5 साल से पुलिस को देता रहा चकमा
पुलिस ने बताया कि आरोपी राजकुमार जमानत के बाद करीब 5 साल से फरार था। भिलाई में हरभजन ढाबा नंदिनी रोड के पास उसके पिता रहते थे। वे पीआरडब्ल्यू में सिक्योरिटी गार्ड थे। राजकुमार ने यहीं से मैट्रिक तक पढ़ाई की।

अरूणाचल प्रदेश में मिला लोकेश
आरोपी की तलाश में पुलिस बिहार और अरूणाचल प्रदेश में फैल गई। इसके बाद भी पुलिस के हाथ नहीं आ रहा था। तब पुलिस अधीक्षक अमरेश मिश्रा ने गिरफ्तारी के लिए 10 हजार रुपए इनाम की घोषणा की। मुखबिर की सूचना के आधार पर पता चला कि आरोपी अरूणाचल प्रदेश में छुपकर रहता है। जब पुलिस पहुंची तो वो वहां से निकल गया था।


MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned