दशहरा: पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स ने किया शस्त्र पूजन, SP ने दी रखिया की प्रतीकात्मक बलि, देवी जया और विजया को अर्पित किए पुष्प

रामायण और महाभारत काल से इस पूजा का चलन चल रहा है। पुलिस, भारतीय सेना और पैरामिलिट्री फोर्स आज भी इस परंपरा को निभाती है और दशहरे के दिन अस्त्र-शस्त्र की पूजा करती है।

By: Dakshi Sahu

Published: 25 Oct 2020, 03:04 PM IST

दुर्ग. आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को विजयादशमी का पर्व मनाया जाता है। नवमी और दशमी एक साथ होने की वजह से आज ही विजयादशमी का पर्व मनाया जा रहा है। ज्योतिषों के अनुसार, सुबह 7 बजकर 41 मिनट के बाद दशमी तिथि लग गई। इस दिन देवी अपराजिता की पूजा की जाती है और इस पूजा में मां रणचंडी के साथ रहने वाली योगनियों जया और विजया को पूजा जाता है। रामायण और महाभारत काल से इस पूजा का चलन चल रहा है। पुलिस, भारतीय सेना और पैरामिलिट्री फोर्स आज भी इस परंपरा को निभाती है और दशहरे के दिन अस्त्र-शस्त्र की पूजा करती है। दुर्ग पुलिस और बीएसएफ भिलाई मुख्यालय में जवानों ने शस्त्र पूजन किया। दुर्ग एसपी प्रशांत ठाकुर ने शस्त्र पूजन के बाद रखिया की प्रतीकात्मक बलि भी दी।

दशहरा: पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स ने किया शस्त्र पूजन, SP ने दी रखिया की प्रतीकात्मक बलि, देवी जया और विजया को अर्पित किए पुष्प

आइए जानते हैं क्यों किया जाता हैै शस्त्र पूजन
दशहरे के दिन शस्त्र पूजन का विधान प्राचीन काल से ही चला रहा है। प्राचीन समय में राजा अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने के लिए शस्त्र पूजन करते थे और शत्रुओं से लडऩे के लिए शस्त्रों का भी चुनाव करते थे। दशहरा मूल रूप से शक्ति का उत्सव है और आज के दौर में शक्ति के प्रतीक भारतीय सैनिकों के हथियार हैं, जो जनता की रक्षा करते हैं। इसलिए इनकी पूजा की जाती है।

पुलिस और सेना हर साल दशहरा के दिन शस्त्र पूजन करती है। इस पूजन में भगवान राम के साथ जया और विजया देवियों की पूजा की जाती है। जया और विजया देवियों की पूजा के बाद अस्त्र-शस्त्रों की पूजा की जाती है। बताया जाता है कि भगवान राम इन्हीं दोनों देवियों की पूजा की थी, फिर अपने अस्त्र-शस्त्र की पूजन करने के बाद युद्ध के लिए निकले थे और लंका पर विजय प्राप्त की थी।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned