कंटेनर से बाहर छलक रहा कचरा, सफाई कामगार दूसरे दिन भी हड़ताल पर 

कंटेनर से बाहर छलक रहा कचरा, सफाई कामगार दूसरे दिन भी हड़ताल पर 
Spilled out of the container dirt, cleaning workers strike for second day

Satyanarayan Shukla | Publish: Feb, 28 2017 06:44:00 PM (IST) Durg, Chhattisgarh, India

शहर में लगातार दूसरे दिन भी सफाई कामगारों की हड़ताल जारी रही। 10 सुपरवाइजरों को हटाने का आदेश जारी होने पर कामगार भड़क गए।

दुर्ग. शहर में लगातार दूसरे दिन भी सफाई कामगारों की हड़ताल जारी रही। कामगारों के अकाउंट में जमा होने वाली ईपीएफ राशि का विवरण और मेडिकल कार्ड की सुविधा न मिलने जैसी अन्य मांगों के विरोध में सफाई कामगारों ने सोमवार को एक दिवसीय हड़ताल की। शाम को 10 सुपरवाइजरों को हटाने का आदेश जारी होने पर कामगार भड़क गए। इसके विरोध में मंगलवार को भी हड़ताल जारी रही।

नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन
सुबह सभी कामगार इंदिरा मार्केट पार्किंग स्थल के पास एकत्र हुए। यहां कामगारों से विधायक अरूण वोरा ने समस्याएं सुनने के बाद कलक्टर से फोन पर बातचीत की। वोरा ने शहर की सफाई व्यवस्था चौपट होने का हवाला देकर कामगारों की मांगे पूरी करने और हड़ताल समाप्त कराने उचित कार्रवाई करने कहा। बाद में सभी कामगार निगम मुख्यालय पहुंचे और नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

प्रतिनिधिमंडल महापौर से मिला

कमिश्नर की अनुपस्थिति में कामगारों का प्रतिनिधिमंडल महापौर चंद्रिका चंद्राकर से मिला और हटाए गए सुपरवाइजरों को बहाल करने की मांग की। महापौर ने कमिश्नर से चर्चा कर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया। इधर लगातार दूसरे दिन हड़ताल के कारण शहर की सफाई व्यवस्था पूरी तरह चौपट रही। सड़क-नाली की सफाई, घर घर से कचरा एकत्र करने और कंटेनरों में जमा कचरा उठाकर ट्रेंचिंग ग्राउंड में डंप करने का काम बंद रहा।

इसलिए हुई हड़ताल

सफाई कामगार मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष बाल्मीकि सिंह ने बताया कि पिछले कई महीने से सफाई कामगारों को नियमित रूप से वेतन भुगतान नहीं हो रहा है। कई बार कामगारों की समस्या से अवगत कराने के बावजूद समस्या का निराकरण नहीं किया गया। कामगारों को मेडिकल कार्ड नहीं मिला और अवकाश के दिनों में कार्य कराने के बावजूद उस दिन का वेतन या एवज में अतिरिक्त अवकाश नहीं मिलता।

दूसरे दिन भी कामगार हड़ताल पर बैठ गए
इसके अलावा नियम विरुद्ध ठेका शर्त तय कर सफाई कार्य का टेंडर जारी किया जा रहा है। श्रमिकों को परेशान करने के कई मामले हो चुके हैं। सफाई  सुपरवाइजरों से सफाई व्यवस्था की मानिटरिंग कराने के साथ ही अन्य अन्य कार्य भी कराए जा रहे है। इसके विरोध में सोमवार को सफाई बंद रही। देर शाम को 10 वार्डों में नियुक्त सफाई सुपरवाइजरों के स्थान पर दूसरे सुपरवाइजर नियुक्त करने पर कामगार भड़क गए। विरोध में दूसरे दिन भी कामगार हड़ताल पर बैठ गए।   

तीन दिनों से नहीं हुई सफाई
 
रविवार को नगर निगम की सफाई व्यवस्था बंद रहती है। सोमवार को कामगारों की हड़ताल से शहर की सफाई व्यवस्था दूसरे दिन भी ठप रही। आज तीसरे दिन भी शहर की सफाई नहीं हुई। नगर निगम के गिने चुने सफाई कामगारों ने मेन मार्केट सहित अन्य सार्वजनिक स्थानों पर सफाई की। कंटेनर भरने के कारण आसपास भी कचरा फैल गया। घरों से कचरा एकत्र करने वाले रिक्शा किसी भी वार्ड में नहीं चले।  

कामगारों से चर्चा करने नहीं आए कमिश्नर

कामगारों की हड़ताल लगातार दूसरे दिन भी जारी रहने की सूचना मिलने पर स्वास्थ्य अधिकारी बीएल केशरवानी हड़ताली कामगारों से बातचीत करने पहुंचे। उन्होंने कामगारों से कहा कि 10 वार्डों में नए सुपरवाइजर नियुक्त किया गया है लेकिन किसी को हटाने का आदेश जारी नहीं हुआ है।

दोनों पक्षों के बीच समझौता नहीं

इस पर कामगारों ने कहा कि कमिश्नर एसके सुंदरानी खुद स्थिति स्पष्ट करें तभी सफाई का काम शुरू होगा। इसके बाद कामगार संघ के पदाधिकारियों के नेतृत्व में कामगार निगम कार्यालय पहुंचे लेकिन कमिश्नर बोरसी के सुराज शिविर में बैठकर आवेदन लेेते रहे। दोपहर तक दोनों पक्षों के बीच समझौता नहीं हो पाया।  

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned