scriptExtra class will start improving results in government schools | ऑनलाइन पढ़ाई से बिगड़ा रिजल्ट, अब 80% से ज्यादा सरकारी स्कूलों में लगाई जाएगी आरोहण क्लास, टीचर्स लेंगे एस्ट्रा क्लास | Patrika News

ऑनलाइन पढ़ाई से बिगड़ा रिजल्ट, अब 80% से ज्यादा सरकारी स्कूलों में लगाई जाएगी आरोहण क्लास, टीचर्स लेंगे एस्ट्रा क्लास

9 वीं से लेकर 12 वीं तक के तिमाही परीक्षा के आंकड़ों पर गौर करें तो मुश्किल से 20 प्रतिशत स्कूलों में ही रिजल्ट 60 फीसदी से ज्यादा है।

दुर्ग

Published: November 08, 2021 05:09:25 pm

भिलाई. दुर्ग जिले में तिमाही का रिजल्ट आने के बाद 80 फीसदी से अधिक स्कूलों में शिक्षा विभाग की ओर से आरोहण की कक्षाएं लागई जाएगी। यह स्कूल तय करेगा कि क्लास स्कूल लगने के एक घंटे पहले लगेगी या फिर एक घंटे बाद। खासकर बोर्ड और वार्षिक परीक्षा को ध्यान में रख सिलेबस तैयार किया जाएगा, ताकि बच्चे वार्षिक परीक्षा में उर्तीण हो सकें। पिछले दिनों कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने जिले के शासकीय स्कूलों के प्राचार्यो की बैठक लेकर उन्हें आने वाले 6 महीने में बेहतर परफार्मेस देने और बच्चों पर विशेष फोकस करने की बात कही थी। 9 वीं से लेकर 12 वीं तक के तिमाही परीक्षा के आंकड़ों पर गौर करें तो मुश्किल से 20 प्रतिशत स्कूलों में ही रिजल्ट 60 फीसदी से ज्यादा है। बाकि 80 फीसदी स्कूलों में परीक्षाफल काफी खराब है।
ऑनलाइन पढ़ाई से बिगड़ा रिजल्ट, अब 80% से ज्यादा सरकारी स्कूलों में लगाई जाएगी आरोहण क्लास, टीचर्स लेंगे एस्ट्रा क्लास
ऑनलाइन पढ़ाई से बिगड़ा रिजल्ट, अब 80% से ज्यादा सरकारी स्कूलों में लगाई जाएगी आरोहण क्लास, टीचर्स लेंगे एस्ट्रा क्लास
रिजल्ट को देखने के बाद शिक्षा विभाग ने दीपावली की छुट्टियों के बाद विशेष कक्षाएं लगाने की प्लानिंग की है। साथ ही इसके लिए अलग से कोर्स भी डिजाइन किया है। जिसमें बच्चों को कुछ इस तरह पढ़ाया जाएगा कि उन्हें कम से कम 33 फीसदी अंक मिल सकें और वे उर्तीण हो सकें। जिला शिक्षा अधिकारी प्रवास सिंह बघेल ने बताया कि हर साल कमजोर बच्चों के लिए अलग से एस्ट्रा क्लास ली जाती थी,लेकिन इस बार कमजोर बच्चों की संख्या हर साल के मुकाबले कई गुना ज्यादा है, इसलिए आरोहण क्लास के कोर्स को भी विशेष रूप से डिजाइन किया जाएगा।
9 वीं-11 वीं का बुरा हाल
इस वर्ष 9 वीं में जो बच्चे पहुंचे है, उनका शिक्षा का स्तर 7 वीं तक का भी नहीं है। शिक्षकों के मुताबिक सातवीं और आठवीं कक्षा में वे कोविड प्रमोशन से पास हो गए। वही आरटीई के तहत 8 वीं तक सभी बच्चों को पास करना अनिवार्य है। ऐसे में बच्चों के गणित और अंग्रेजी का लेवल काफी खराब है। उन्हें 9 वीं के कोर्स से पहले सातवीं और आठवीं की पढ़ाई करानी होगी। ऐसा ही हाल 11 वीं का है। जिसमें इन बच्चों ने भी 9 वीं और 10 वीं प्रमोशन में घर बैठे परीक्षा देकर पास कर ली,लेकिन 11 में विषय चुनने के बाद उन्हें अब कुछ समझ नहीं आ रहा और ऑफलाइन एग्जाम में वे आंसरशीट कोरी तक छोड़ आए।
बोर्ड क्लास में ज्यादा मेहनत
विभाग के मुताबिक बोर्ड कक्षाओं में शिक्षकों और बच्चों दोनों को ही ज्यादा मेहनत करनी होगी। हालांकि कोर्स कुछ कम हुआ है,उसके बावजूद भी जिले के पुराने रिजल्ट को मेंटेन करना आसान नहीं होगा। इसके लिए स्कूलों के पास मात्र तीन महीने का समय है। जिसमें उन्हें वार्षिक परीक्षा की तैयारी के साथ-साथ कोर्स भी पूरा कराना है। प्रवास सिंह बघेल, जिला शिक्षा अधिकारी दुर्ग ने बताया कि कोविड की वजह स्कूल लंबे समय तक बंद रहे। इस वजह से बच्चों की पढ़ाई का स्तर काफी नीचे चला गया है। अब स्कूल शुरू होने के बाद ऐसे कमजोर बच्चे जिनका तिमाही में अच्छा परफार्मेस नहीं है, उनके लिए आरोहण की विशेष कक्षाएं चलाई जाएंगी।
ऐसा है कक्षाओं का रिजल्ट
9 वीं का परिणाम स्कूल प्रतिशत
6 स्कूल 70 से 100 फीसदी
10 स्कूल 50 से 69 फीसदी
21 स्कूल 40 से 49 फीसदी
32 स्कूल 30 से 39 फीसदी
44 स्कूल 20 से 29 फीसदी
40 स्कूल 10 से 19 फीसदी
8 स्कूल 0 से 9 फीसदी
10 वीं का परिणाम
स्कूल प्रतिशत
6 स्कूल 70 से 100 फीसदी
18 स्कूल 50 से 69 फीसदी

25 स्कूल 40 से 49 फीसदी
29 स्कूल 30 से 39 फीसदी
44 स्कूल 20 से 29 फीसदी
37 स्कूल 10 से 19फीसदी
4 स्कूल 0 से 9 फीसदी 11 वीं का परिणाम
स्कूल प्रतिशत
3 स्कूल 70 से 100 फीसदी
9 स्कूल 50 से 69 फीसदी
14 स्कूल 40 से 49 फीसदी
35 स्कूल 30 से 39 फीसदी
15 स्कूल 20 से 29 फीसदी
31 स्कूल 10 से 19 फीसदी
8 स्कूल 0 से 9 फीसदी
12 वीं का रिजल्ट
स्कूल प्रतिशत
9 स्कूल 70 से 100 फीसदी
33 स्कूल 50 से 69 फीसदी
28 स्कूल 40 से 49 फीसदी
27 स्कूल 30 से 39 फीसदी
18 स्कूल 20 से 29 फीसदी
3 स्कूल 10 से 19 फीसदी
एक भी नहीं 0 से 9 फीसदी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.