लो जी, अब रेलवे Train टिकट पर भी GST और सर्विस चार्ज की मार, मुसाफिरों को देना पड़ रहा अतिरिक्त 27 रुपए

लो जी, अब रेलवे Train टिकट पर भी GST और सर्विस चार्ज की मार, मुसाफिरों को देना पड़ रहा अतिरिक्त 27 रुपए
लो जी, अब रेलवे टिकट पर भी GST और सर्विस चार्ज की मार, मुसाफिरों को देना पड़ रहा अतिरिक्त 27 रुपए

Dakshi Sahu | Publish: Sep, 23 2019 03:29:39 PM (IST) Durg, Durg, Chhattisgarh, India

ई-टिकट (train e ticket) से यात्रा करने वालों को अब प्रति टिकट 27 रूपए अतिरिक्त शुल्क देना पड़ेगा। टिकट उपलब्ध कराने के एवज में आइआरसीटीसी (IRCTC) 10 रुपए सेवा शुल्क ले रही है।

दुर्ग. ई-टिकट (Railway E ticket )से यात्रा करने वालों को अब प्रति टिकट 27 रूपए अतिरिक्त शुल्क देना पड़ेगा। टिकट उपलब्ध कराने के एवज में आइआरसीटीसी (IRCTC)10 रुपए सेवा शुल्क (Railway ticket Service charge) ले रही है। वहीं 1 सितंबर से प्रति टिकट 17 रुपए जीएसटी (GST) लेना शुरू कर दिया है। हालांकि बहुत कम लोगों को इस बात की जानकारी है कि जो यात्री ई-टिकट (E Ticket) ले रहे हैं। वे प्रति टिकट 27 रुपए अतिरिक्त भुगतान कर रहे हैं। खास बात यह है कि इसके बाद भी लोगों को यात्री सुविधा के नाम पर छले जा रहे हैं।

भीड़-भाड़ और दलालों के चुंगल से बचने आम तौर पर लोग स्मार्ट फोन (Smart phone)से ही ई-टिकट बुक कर सफर कर रहे हैं। इसके लिए 1 सिंतबर को आइआरसीटी द्वारा जारी नए गाइड लाइन का पालन भी कर रहे है, इसके बाद भी लोगों को यात्रा आराम दायक नहीं रहता। इसक ी मुख्य वजह एक से अधिक संख्या में सफर करने के दौरान बर्थ अलग अलग कोच में मिलना है।

टिकट बनाते समय सारी जानकारी एक साथ भरने के बाद भी साफ्टवेयर बर्थ आवंटित करते समय अलग-अलग कोच में बर्थ दे रहा है। यात्रियों को उस समय भारी परेशानियों का सामना करता पड़ता है जब उनके साथ बच्चा या फिर बुजुर्ग सफर कर रहे है। अलग-अलग कोच में बर्थ होने पर टीसी परिस्थितियों को समझ गया तो ठीक अन्यथा पूरा सफ र रतजगा कर गुजराना पड़ता है।

बुजुर्गों का ऑप्शन देने पर भी उपर का बर्थ
आइआरसीटीसी (railway e ticket app)का दावा है कि साइड बर्थ को आरएसी कोटे, नीचे के साइड बर्थ को सिनियर सिटिजन के लिए आरक्षित रखा गया है। इसके बाद भी ई-टिकट लेने पर सीनियर सिटिजन को आम तौर पर नीचे नहीं मिडिल या अपर बर्थ मिलता है। इसकी शिकायत करने पर किसी तरह की लाभ नहीं मिलता। आइआरसीटी से के टोल फ्री नंबर पर शिकायत करने पर व्यवस्था में सुधार के बजाय केवल सीधा जवाब होता है सीनियर सिटिजन का टिकट अलग से बनाएं।

प्रीमियम टिकट तीन गुना हुआ महंगा
हाल ही में आइआरसीटी (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) से तत्काल प्रीमियम टिकट की सुविधा जारी की है। तत्काल प्रीमियम टिकट लेने पर 100 रुपए की टिकट के एवज में 400 रुपए भुगतान करना पड़ता है। हालांकि भीड़ के समय यात्रियों को प्रीमियम टिकट मजबूरी में खरीदना पड़ रहा है।

यात्रियों को झेलनी पड़ रही इस तरह की परेशानी
केस 1
हाल ही सफर कर आए कैलाश नगर निवासी ए दीपक राव ने बताया कि उन्होंने 16 तारीख को संपर्क क्रांति में दिल्ली से ई टिकट खरीदा था। ई-टिकट बनाते समय एक साथ परिवार के चार सदस्यों का नाम टाइप किया था। टिकट जब बना तो सभी सीटे कन्फर्म थी, लेकिन बर्थ अलग अलग था। एस वन में 1 बर्थ और एस थ्री में तीन बर्थ मिला था। टीसी से निवेदन करने पर उन्होंने हाथ खड़ा कर दिया। पूरी रात परिवार से अलग होकर सफर करना पड़ा। दो बेटियां व पत्नी को एक कोच के अलग अलग बर्थ में सुलाने के बाद उन्होंने अपने बर्थ में सारी रात जाग कर सफर की।

केस 2
दीपक नगर निवासी कृष्ण कुमार सिंह ने बताया कि उन्होंने साउथ बिहार एक्सप्रेस में सफर करने के लिए 29 सितंबर का ई टिकट बुक किया है। पांच सदस्यों के नाम से बर्थ लिया है। सभी में इसी तरह की स्थिति है। दो कोच में चार लोगों का और एक कोच में सिंगल बर्थ मिला है। यही कारण है कि उन्होंने एक साथ बर्थ के लिए दोबार अधिकृत एजेंट से संपर्ककिया है। अगर एक ही कोच में बर्थ मिलेगा तो वे ई-टिकट को कैंसल कर देंगे।

इस तरह से दलाल हो रहे मालामाल
आमतौर पर दलाल भी पर्सनल आईडी से टिकट बनाते है। टिकट बनाने आइआरसीटीसी के पोर्टल में बारीक अक्षरों में आप्शन दिया हुआ है। जिसे किल्क करने पर ही सीनियर सिटिजन और एक साथ बर्थ के लिए एप्लाई की सुविधा दी गई है। अधिकारियों का कहना है कि आम लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती, इसलिए आप्शन नहीं देने से लोगों को बर्थ अलग-अलग या फिर सीनियर सिटिजन का बर्थ मिडिल या अपर में मिलता है। इसकी जानकारी दलालों को रहती है। वे कई तरीके से सीधे साफ्वेयर में प्रवेश कर एक साथ टिकट बनाते है। कई बार वे ऐसे तकनीक अपनाते हैं कि अलग कम्यूटर सेट से टिकट बुक करते है और प्रिंट एक साथ निकालते हैं। आमतौर पर ऐसी टिकटों को टीसी भी पकड़ नहीं पाते।

दो दिनों से नहीं खुल रही साइड
पिछले कई दिनों से स्मार्ट फोन पर आइआरसीटीस का साइड नहीं खुल रहा है। या खुलता भी है तो हैंग हो रहा। जानकारों का कहना है कि आइआरसीटी ने प्रति पीएनआर (एक टिकट में 6 बर्थ) पर 17 रुपए जीएसटी लेना शुरू किया है। इसलिए साफ्टवेयर को अपग्रेड किया जा रहा है। इसी वजह से स्मार्टफोन पर ई-टिकट बनाने का साइड नहीं खुल रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned