कोरोना के ग्रीन जोन जिले में बढ़ा लॉकडाउन में छूट का दायरा, खुली स्टेशनरी व इलेक्ट्रिकल शॉप, कई सेवाओं को अनुमति

कोरोना संक्रमण को लेकर जिले के ग्रीन जोन में आने के बाद प्रशासन ने लॉकडाउन में छूट का दायरा बढ़ाया है। जिला प्रशासन द्वारा दर्जनभर से ज्यादा और सेवाओं को शुरू करने की अनुमति दी गई है। (coronavirus lockdown in chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Updated: 23 Apr 2020, 11:21 AM IST

दुर्ग. कोरोना संक्रमण (Covid-19) को लेकर जिले के ग्रीन जोन में आने के बाद प्रशासन ने लॉकडाउन में छूट का दायरा बढ़ाया है। जिला प्रशासन द्वारा दर्जनभर से ज्यादा और सेवाओं को शुरू करने की अनुमति दी गई है। इसमें विद्यार्थियों की किताबें, बिजली के पंखे, कूलर की बिक्री,मोबाइल रिचार्ज की दुकानें भी शामिल हैं। दूध से बनी मिठाईयों के साथ ही अब पनीर दही की भी बिक्री होगी। इसके अलावा खाद्य सप्लाई की चेन में आटा और दाल मिलों को जोड़ते हुए इनके भी संचालन की छूट दी गई है। कलेक्टर अंकित आनंद ने राज्य शासन द्वारा जारी दिशा निर्देशों का आधार पर इस संबंध में निर्देश जारी किया गया है।इससे पहले 21 अप्रैल को भी जरूरी सेवाओं के समय को छूट को बढ़ाकर शाम 4 बजे किया गया था। इसके अलावा केंद्र सरकार के गाइड लाइन के अनुरूप कई सेवाओं को छूट दी गई थी। बुधवार को इनमें आंशिक संशोधन करते हुए नई सेवाओं को अनुमति दी गई है।

बिजली के पंखे, कूलर के सामान मिलेंगे
पखवाड़ेभर में गर्मी तेजी से बढ़ी है। गर्मी के चलते कई परिवारों को पंखों को लेकर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। पूर्व आदेश में इलेक्ट्रिशियनों को व्यक्तिगत सेवाएं शुरू करने की अनुमति दी गई थी। अब बिजली के पंखे, कूलर की मरम्मत, कूलर इत्यादि के बिजली सामान की बिक्री की छूट दी गई है।

किताब की दुकानें
लॉक डाउन के समय से स्कूल और कॉलेज बंद है। स्कूलों में जनरल प्रमोशन की घोषणा की गई है। इसके बाद से विद्यार्थियों ने नई कक्षाओं की तैयारियां शुरू कर दी है। अब तक विद्यार्थी वर्चूअल प्लेटफार्म का उपयोग कर रहे थे। किताबों की दुकानें खुलने से विद्यार्थियों को सुविधा होगी।

प्रीपेड मोबाइल रिचार्ज
नए आदेश में मोबाइल के प्रीपेड रिचार्ज से संबंधित दुकानों को भी खुलने की अनुमति दी गई है। ऐसे दुकानों में रिचार्ज के अलावा दूसरी गतिविधियों को अंजाम नहीं दिया जा सकेगा। इससे मोबाइल उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिलेगी। उन्हें रिचार्ज कराने में आसानी होगी।

इन्हे भी मिली अनुमति
ई कामर्स में केवल
आवश्यक वस्तु
दूध संग्रहण, प्रसंकरण पैकेजिंग से लेकर खरीदी-बिक्री तक सभी चेन
दूध से बनी सभी सामग्री, पनीर, दही आदि।
कृषि एवं उद्यानिकी से संबंधित आयात निर्यापत पैक हाउस, बीज उद्यानिकी उत्पादन निरीक्षण व ट्रीटमेंट

लॉक डाउन में रियायत के बाद ग्रामीण क्षेत्र में शासकीय निर्माण कार्यों में गति आई है। मनरेगा में 1121 निर्माण कार्य स्वीकृत हैं। इनमें नाला पुनरूत्थान, तालाब गहरीकरण, तालाब निर्माण आदि के जलसंग्रह और वाटर रिचार्ज से संबंधित काम प्रमुख हैं।

दाल व आटा मिल : लॉक डाउन की अवधि में खाद्य सामग्रियों की सप्लाई चेन को बरकरार रखने पर प्राथमिकता से फोकस किया जा रहा है। जिले में चावल और गेहूं का पर्याप्त भंडार है। बाकी दिनों में दाल और आटा जैसी चीजों की सप्लाई में दिक्कत हो सकती है। इसलिए इन्हें भी चालू करने की छूट दी गई है।

coronavirus Coronavirus Cases in India Coronavirus in india
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned