गरीबों के चावल की लॉकडाउन में खुलेआम तस्करी, पुलिस ने पकड़ा तो फिर आड़े आए खाद्य विभाग के अधिकारी

लॉकडाउन ( Lockdown in Durg) के बीच जेवरा चौकी पुलिस ने एक राइस मिल के पास दो मालवाहक को पकड़ा। दोनों गाडिय़ों में सफेद बोरी में चावल लोड (PDS Rice) था।

By: Dakshi Sahu

Published: 09 May 2021, 02:36 PM IST

भिलाई. छत्तीसगढ़ सरकार कोरोना (Coronavirus in Chhattisgarh) संकट में गरीबों को दो माह का राशन एक साथ में दे रही है, जिससे कोई भी गरीब भूखा न रहे। इधर मुनाफा के लालच में गरीबों के हक के चावल की तस्करी की जा रही है। लॉकडाउन के बीच जेवरा चौकी पुलिस ने एक राइस मिल के पास दो मालवाहक को पकड़ा। दोनों गाडिय़ों में सफेद बोरी में चावल लोड था। पीडीएस (PDS RICE) के चावल के संदेह के आधार पर धारा 102 के तहत कार्रवाई कर चावल जब्त किया गया। मामला खाद्य विभाग को सौंप दिया लेकिन खाद्य विभाग ने क्लीनचिट दे दिया। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उचित मूल्य की दुकान से पकड़ाएगा तभी उसको पीडीएस का चावल मान सकते हैं।

जेवरा चौकी प्रभारी बीपी शर्मा ने बताया कि शुक्रवार की रात करीब 8 बजे दो मालवाहक सीजी-07 बीएफ 7949 और दूसरी सीजी- 07 बीजेड 8468 को परिवहन करते हुए राइस मिल के समीप धर्मकांटा के पास पकड़ा गया। गाड़ी को जब्त कर खुर्सीपार निवासी गाड़ी चालक अरविंद यादव और राजीव साव से पूछताछ की। दोनों के पास चावल से संबंधित दस्तावेज नहीं था। दोनों ड्राइवरों ने बताया कि पीडीएस चावल कैंप-2 बैकुंठधाम निवासी डबलू यादव का है। उसने अपनी गाडिय़ों में लोड कराया और इसे राइस मिल में छोडऩे जा रहे थे।

खाद्य विभाग की भूमिका पर संदेह
लॉकडाउन में बेधड़क उचित मूल्य की दुकान से मिलने वाले चावल की तस्करी की जा रही है। खाद्य विभाग कार्रवाई करना तो दूर बिना जंाचे ही पीडीएस के चावल को पहचानने से इनकार कर रहा। पुलिस पीडीएस चावल संदेह कर पकड़ती है। खाद्या विभाग लीपापोती कर कह देता है पीडीएस के समतुल्य नहीं है।

पूर्व में भी पुलिस ने पकड़ा था पीडीएस चावल
दुर्ग सीएसपी विवेक शुक्ला के नेतृत्व में पूर्व में चावल तस्करों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। 10 जनवरी को 2021 को 250 क्विंटल पीडीएस चावल पकड़ा था। अग्रवाल फर्म नीरज ट्रेडर्स धमधा रोड के संचालक नीरज अग्रवाल की ट्रक को पकड़ा था। खाद्य विभाग ने उसे पीडीएस चावल माना और आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3, 7 के तहत उसे खिलाफ कार्रवाई की थी। आखिर 20 क्विंटल चावल पकड़ाया पीडीएस का मानने सा इनकार कर रहा है। अधिकारी कह रहे हैं दुकान में नहीं पकड़ाया है। पिछला एक ट्रक चावल भी दुकान में नहीं पकड़ाया था फिर उसमें कार्रवाई किस आधार पर की गई।

खाद्य विभाग की रिपोर्ट पर होगा कार्रवाई
विवेक शुक्ला, सीएसपी दुर्ग ने बताया कि संदेह के आधार पर पीडीएस की चावल से भरी दो गाडिय़ों को रात में पुलिस ने पकड़ा था। उसकी जब्ती की गई और खाद्य विभाग को प्रतिवेदन सौपा गया है। आगे की कार्रवाई करना उनका विवेकाधिकार है। खाद्य विभाग रिपोर्ट दे उस आधार पर कार्रवाई होगी। पीडीएस चावल की तस्करी के मामले में अंकुश लगाने पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। पूर्व में कई बार कार्रवाई की जा चुकी है।

आखिर उलटी गंगा क्यों बह रही है
राइस मिल में मिलिंग के लिए धान ले जाया जाता है यह समझ में आता है। क्योंकि वहां धान की मिलिंग होती है। मिलिंग के बाद वहां से चावल गोदामों में पहुंचाया जाता है। यहां उल्टी गंगा बह रही है। बाहर से चावल राइस मिल में पहुंचाया जा रहा है। अब चावल का फिर से धान तो बनेगा नहीं। साफ है कुछ गड़बड़ है पर अधिकारी जांच करने की बजाए हाथ खड़ कर रहे हैं।

ऐसे चलता है पूरा खेल
असल में राशन दुकान से मिलने वाला चावल मोटा होता है। सच्चाई यह है कि अधिकांश कार्डधारी राशन दुकान से चावल लेने के बाद 15-16 रुपए में बेच देते हैं। चावल को राशन दुकान वाले भी खरीद लेते हैं। इसमें कुछ पैसे मिलाकर अच्छा चावल खरीद लेते हैं। जो लोग इस चावल को खाते हैं उनमेें से अधिकांश लोग चावल को हालर मिल में ले जाकर एक बार फिर मिलिंग करवाते हैं। थोड़ी पॉलिस होने से चावल की क्वालिटी अच्छी हो जाती है। राशन दुकान से छुड़ा कर बेचा गया चावल राइस मिलों में जाता है। वहीं एक बार फिर मिलिंग कर बाजार में अधिक दाम में बेचा जाता है। अलग मिलिंग नहीं भी हुई तो उसी चावल को मिलर कस्टम मिलिंग के बदले नान को देता है। उसी चावल को नान के अधिकारी फिर राशन दुकानों में पहुंचा देते हैं। इस तरह रिसाइकिलिंग चलते रहता है। बेहतर होता कि सरकार चावल की क्वालिटी सुधार कर राशन कार्डधारियों को दे तो कालाबाजारी काफी हद तक रुकेगा। क्वालिटी ठीक होने से लोग चावल को खाएंगे।

सीधी बात: सीपी दिपांकर, फूड कंट्रोलर खाद्य विभाग, दुर्ग
सवाल- जेवरा में पुलिस ने पीडीएस चावल के संदेह में पकड़कर खाद्य विभाग को सौप दिया। क्या कार्रवाई की जा रही है?
जवाब- हां। पुलिस ने दो गाड़ी को पकड़ा है। एफओ वसुधा गुप्ता और निरीक्षक सुरेश साहू को जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।
सवाल- पुलिस कह रही कि खाद्य विभाग की टीम ने रिपोर्ट दिया है कि पीडीएस चावल के समतुल्य नहीं है। क्या यह सही है?
जवाब- देखिए ऐसा है कि चावल देखने से समझ आ जाता है। नहीं होगा इसलिए रिपोर्ट में दिया होगा।
सवाल-पीडीएस का चावल दूसरे संस्थानों में नहीं मिलता है। बावजूद विभाग ने बड़ी जल्दी क्लीनचिट दे दी।
जवाब- ऐसा है पुलिस पकड़ लेती है। लेकिन हम उसी को पीडीएस मानेंगे जो उचित मूल्य की दुकान के पास पकड़ाएगा।
सवाल- राइस मिल में धान की मिलिंग होती है। फिर वहां चावल क्यों ले जाया जाता है?
जवाब- देखिए यह जांच का विषय है। हमारे पास किसी कार्डधारी ने चावल नहीं मिलने की शिकायत नहीं की है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned