मडिय़ापार के पोला महोत्सव की ख्याति पहुंची गुजरात तक 40 सदस्यों का दल आएगा छत्तीसगढ़ी संस्कृति को समझने

मडिय़ापार के पोला महोत्सव की ख्याति पहुंची गुजरात तक 40 सदस्यों का दल आएगा छत्तीसगढ़ी संस्कृति को समझने

Naresh Verma | Publish: Sep, 07 2018 10:47:50 PM (IST) Durg, Chhattisgarh, India

मडिय़ापार में ८ व ९ सितंबर को पोला महोत्सव होगा। महोत्सव में आसपास के गांवों के करीब 20 हजार लोग जुटेंगे। महोत्सव स्थल पर तैयारियां की जा रही है।

दुर्ग . मडिय़ापार में हर साल होने वाले पोला महोत्सव की ख्याति अब गुजरात तक भी पहुंच गई है। महोत्सव में छत्तीसगढ़ी संस्कृति से जुड़े आयोजन किए जाते हैं। इसे देखने और समझने इस बार गुजरात से 40 सदस्यों का दल मडिय़ापार आएगा। सांस्कृतिक आदान-प्रदान की योजना एक भारत-श्रेष्ठ भारत के तहत यह दल आ रहा है। मडिय़ापार में ८ व ९ सितंबर को पोला महोत्सव होगा। महोत्सव में आसपास के गांवों के करीब 20 हजार लोग जुटेंगे। इनके बीच पारंपरिक खेलों के अलावा गीत-संगीत के मुकाबले कराए जाएंगे। आयोजन को आकर्षक बनाने महोत्सव स्थल पर तैयारियां की जा रही है।
महोत्सव का आयोजन करने वाली संस्था शास्त्री नवयुवक मंडल के अध्यक्ष डॉ. सुनील साहू ने बताया कि यह महोत्सव का 55 वां साल है। महोत्सव का उद्देश्य छत्तीसगढ़ की परंपरा और संस्कृति को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाना है। महोत्सव में बैल सजावट,बैल दौड़, कबड्डी, फुगड़ी, मटका दौड़,धीमी सायकल रेस, गेड़ी दौड़, सुवा नृत्य, नांदिया बैल दौड़, रस्सा खींच प्रतियोगिता आकर्षण का केंद्र रहेगा। इसके अलावा छत्तीसगढ़ के पारंपरिक 36 व्यंजनों के स्टॉल भी लगाए जाएंगे।

ग्रामीणों को मिलेगी मुफ्त चिकित्सा

डॉ.साहू ने बताया कि महोत्सव के पहले दिन मेला स्थल पर स्वास्थ्य शिविर लगाया जाएगा। शिविर में सत्य साईं ट्रस्ट के चिकित्सक सेवा देंगे। इनमें ह्रदय, महिला व शिशु रोग के विशेषज्ञ प्रमुख होंगे। शिविर में मुफ्त इसीजी व अन्य परीक्षण भी किया जाएगा।

बैल दौड़ के विजेता को मिलेगा 21 हजार

उन्होंने बताया कि बैल दौड़ में करीब दो सौ बैल शामिल होंगे। प्रतियोगिता के लिए प्रथम पुरस्कार 21 हजार रुपए, द्वितीय 11 हजार रुपए और तृतीय पुरस्कार 5 हजार रुपए रखा गया है। महोत्सव में कृषि मेला का आयोजन भी किया गया है। मेला के माध्यम से किसानों को उन्नत और जैविक कृषि की जानकारी दी जाएगी।

ये शामिल होंगे महोत्सव में

कार्यक्रम में गृहमंत्री राम सेवक पैकरा, संस्कृति मंत्री दयालदास बघेल, आरएसएस के प्रांत कार्यवाह चंद्रशेखर वर्मा, संसदीय सचिव लाभचंद बाफना, विवेकानंद यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ.एमके वर्मा, विधायक नवीन मारकंडेय, संजय श्रीवास्तव, जेपी शर्मा, केदारनाथ गुप्ता, राजीव श्रीवास्तव, दुर्ग की महापौर चंद्रिका चंद्राकर, महापौर चंद्रकला मांडले, जयसिंह राजपूत, सेवक नेताम, कोमल जंघेल अतिथि होंगे।

Ad Block is Banned