गैंगस्टर के 6 गुर्गों को पेश किया पुलिस ने, न्यायालय से पांच को मिली जमानत

गैंगस्टर तपन सरकार के गुर्गो के पकडऩे के लिए पुलिस ने विशेष अभियान चलाया है। भिलाई नगर, दुर्ग, मोहन नगर, खुर्सीपार थाना क्षेत्र से 6 मददगारों को गिरफ्तार किया गया।

By: Bhuwan Sahu

Published: 20 Jul 2018, 06:45 PM IST

दुर्ग. गैंगस्टर तपन सरकार के गुर्गो के पकडऩे के लिए आईजी जीपी सिंह के निर्देश पर पुलिस ने विशेष अभियान चलाया है। बुधवार की देर रात भिलाई नगर, दुर्ग, मोहन नगर, खुर्सीपार थाना क्षेत्र से तपन सरकार के 6 मददगारों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपी में हुडको भिलाई निवासी आशीष नंदी, सेक्टर-10 निवासी एस सैन्थिल,खुर्सीपार के राजन विश्वकर्मा, मोहन नगर क्षेत्र के संदीप मानपुरे, दुर्ग के राजेश साहू व इमरान खान शामिल है।
यह वे आरोपी हैं जो जेल में तपन की बाहर से मदद करते थे। पुलिस की तलाश में आरोपियों के पास से हथियार भी मिला है। पुलिस ने धारा २५ आम्र्स एक्ट के तहत जुर्म दर्ज किया है। खास बात यह है कि आशीष नंदी को तपन सरकार गुरु कहकर संबोधित करता है। आशीष ने ही तपन को बाक्सिंग का प्रशिक्षण दिया था। वहीं राजन विश्वकर्मा को पुलिस ने सप्ताह भर के भीतर दूसरी बार गिरफ्तार किया। पुलिस ने गुरुवार को इन्हें न्यायालय में पेश किया। गिरफ्तार आरोपियों में से पांच को न्यायालय ने जमानत पर रिहा किया।

तपन सरकार के पैसे से ब्याज कारोबार चलाने वाले फ रार

तपन ने जेल के अंदर से ही अपनी गैंग तैयार कर रखा है। उन्हें आर्थिक मदद करता। उस पैसे से उसके गुर्गें लोगों से अधिक ब्याज दर पर पैसा देकर वसूली कर रहे हैं। पुलिस ने उनकी भी एक लंबी लिस्ट तैयार की है। पुलिस की इस कार्रवाई से कई लोग अब शहर छोड़ कर फ रार हैं।

६० लोगों को पकड़ेगी पुलिस

तपन के नेटवर्क में ५०० लोगों की लिस्ट पुलिस को मिली है। इसमें करीब ६० लोग ऐसे हैं जो तपन के साथ मिलकर अवैध कारोबार में लिप्त हैं। पुलिस ने उनके खिलाफ जुर्म दर्ज कर धरपकड़ शुरू कर दी है।

जेल में जिस मोबाइल नंबर से बात कर रहा था तपन वह सोहन जैन के मुनीम के नाम

पुलिस की जांच में पता चला है कि तपन जेल के अंदर से जिस मोबाइल सिम से बाहर अपनी सरकार चला रहा था वह फरार आरोपी सोहन जैन के मुनीम हेमंत के नाम से था। सोहन जैन वहीं है जो तपन सरकार के साथ मिलकर अवैध वसूली कर रहा था। सोहन फरार है। वह आरोपी ज्ञानचंद का बेटा है। मोहन नगर थाना पुलिस ने मॉडल टाउन वंदेमातरम् अपार्टमेंट निवासी गल्ला व्यापारी नीरज अग्रवाल की शिकायत पर खंडेलवाल कॉलोनी निवासी ज्ञानचंद जैन और उसके दो बेटे सोहन जैन व अंकुश जैन के खिलाफ जुर्म दर्ज किया। आरोपी ज्ञानचंद और अंकुश जेल मेंहैं।

तपन का पार्टनर हनुमान यादव को जमानत

गैंगस्टर तपन सराकर के साथ मिलकर जमीन कारोबार करने की धमकी देने और आदिवासी की जमीन क ो खाली बताकर रजिस्ट्री करने के मामले में पुलिस ने शहर जिला कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष हनुमान यादव को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। विशेष लोक अभियोजक आदित्य ताम्रकार ने बताया कि विशेष न्यायाधीश मंसूर अहमद ने आरोपी को २५००० हजार के जमानत मुचलके पर रिहाई का आदेेेश दिया है।

तपन गैंग के अनुराग दुबे ने किया सरेंडर आज न्यायालय में किया जाएगा पेश

गैंगस्टर तपन सरकार को हाईकोर्ट से जमानत दिलाने के नाम पर उगाही करने के आरोपी अनुराग दुबे उर्फ अन्नू ने गुरुवार को पुलिस के सामने सरेडर कर दिया। सिटी कोतवाली में एफआइआर दर्ज होने के बाद वह ३ जुलाई से फरार था। पुलिस के दबाव बनाने पर उसने खुद को पुलिस के हवाले कर दिया। अन्नू दोपहर लगभग १ बजे सीधे आइजी कार्यालय पहुंचा। जहां से उसे दुर्ग सीएसपी ऑफिस लाया गया। सीएसपी कार्यालय में पूछताछ के बाद उसे सिटी कोतवाली के हवाले किया गया। पुलिस उसे शुक्रवार को न्यायालय में पेश कर न्यायिक रिमांड पर लेने के लिए आवेदन पेश करेगी।

इस मामले में है आरोपी

पद्मनाभपुर निवासी सतीश चंद्राकर ने पुलिस को जानकारी दी थी कि जमीन कारोबार के सिलसिले में उसकी मुलाकात पहले अन्नू दुबे उर्फ अनुराग व शैलेष तिवारी से हुई। उसके माध्यम से ही तपन सरकार से परिचय हुआ। अन्नू व शैलेष ने जेल में कैद तपन सरकार से मोबाइल पर बात कराकर यह कहते हुए उगाही की कि तपन सरकार का हाईकोर्ट से जमानत कराना है। अगर वह २५ लाख की व्यवस्था नहीं करेगा तो उसका पूरा कारोबार चौपट कर देंगे। धमकी के बाद वह अन्नू के बैंक एकाउंट आईसीआई बैंक,ग्रामीण बैंक, बैंक ऑफ इंडिया में चेक व आरआइसीजीएस के माध्यम से २० लाख से अधिक राशि जमा कर चुका है।

अपराध में आरोपियों की भूमिका

एस.सेंथिल - महादेव महार हत्याकांड में आरोपी तपन के साथ जेल में था। तबसे वह लगातार संपर्क में था। आरोपी का एक भाई अन्य प्रकरण में धारा 306 के तहत जेल में था। तब तपन सरकार उसके माध्यम से जेल में खाने पीने का सामान व सत्यम बेकरी से केक आदि मंगाता था।

राजन विस्वकर्मा - राजन गैंगस्टर गोविन्द विस्वकर्मा का पुत्र है। राजन बीई कर रहा था। उसका खर्च तपन ही देता था। खुर्सीपार में गुर्निया मर्डर केस में जेल पहुंचने के बाद तपन के साथ मेल मुलाकात बढ़ा। जेल से छुटने के बाद राजन को तपन के इशारे पर नौकरी मिल गई थी। वह तपन के इशारे पर काम कर रहा था।

संदीप मानपुरे - रेल्वे स्टेशन के पास ट्रेकलिंग एजेन्सी संचालक है। एजेसी की आड़ में संदीप रेल्वे टिकट का कालाबाजारी करता है। तपन के कहने पर संदीप ने जेल के अंदर से फोन कर वैल्लूर के लिये टिकट बुक कराया गया था।

राजेश साहू - तपन के लिए वसूली, जमीन दलाली का काम करता है। तपन का धौंस दिखाकर जमीन सस्ते दामों में खरीदने के बाद उसे ऊंची दाम में बेचता है। राजेश के खिलाफ हत्या का प्रयास,हत्या,मारपीट व धोखाधड़ी का अपराध दर्ज है।

इमरान खान - रोज तपन से मिलने जेल जाता था। गोपाल टकला के साथ पैसा, शराब गांजा, जेल के अंदर भेजवाने का काम करता था। इमरान के खिलाफ मारपीट के मामलें भी दर्ज हैं।

Bhuwan Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned