भाजपा के नए जिला अध्यक्ष की ताजपोशी की तैयारी, चुनाव की बजाय सीधे पार्टी आलाकमान कर सकती है नियुक्ति

भाजपा के दुर्ग व भिलाई संगठन जिले में नए अध्यक्षों की जल्द नियुक्ति हो सकती है। चुनाव के बजाए दोनों अध्यक्षों की नियुक्ति सीधे पार्टी आलाकमान द्वारा किया जाएगा।

By: Dakshi Sahu

Published: 30 Sep 2020, 01:26 PM IST

दुर्ग. भाजपा के दुर्ग व भिलाई संगठन जिले में नए अध्यक्षों की जल्द नियुक्ति हो सकती है। चुनाव के बजाए दोनों अध्यक्षों की नियुक्ति सीधे पार्टी आलाकमान द्वारा किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक सांसद डॉ. सरोज पांडेय की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से छुट्टी के बाद उनके विरोधियों की उम्मीद बढ़ गई हैं और उन्होंने पार्टी आलाकमान के सामने जल्द नियुक्ति के लिए लामबंदी शुरू कर दी है। अध्यक्षों के साथ महामंत्रियों का मनोनयन भी प्रदेश स्तर पर किया जाएगा। अक्टूबर में मंडलों के चुनाव के दौरान विवाद के कारण दोनों जिले के अध्यक्षों का चुनाव अटक गया था। दुर्ग व भिलाई दोनों जिले में अध्यक्ष पद के आधा दर्जन से ज्यादा दावेदार बताए जा रहे हैं। इधर सरोज खेमा भी भिलाई व दुर्ग में अपने वर्चस्व को कायम रखने के लिए पूरा जोर लगा रहा है।

भाजपा के सांगठनिक व्यवस्था के तहत जिला अध्यक्षों का चुनाव मंडल अध्यक्षों व महामंत्रियों के माध्यम से सर्वानुमति से कराए जाने के प्रावधान है, लेकिन मंडल अध्यक्ष के चुनाव के दौरान दुर्ग व भिलाई में खेमे में बंटे भाजपाइयों के बीच सामंजस्य नहीं बना। चुनाव की प्रक्रिया को लेकर विवाद हो गया था। कई मंडलों में बड़े नेताओं व चुनाव प्रभारियों के खिलाफ नारेबाजी और धक्का मुक्की तक की नौबत आ गई थी। मामला प्रदेश आलाकमान के पास भी पहुंचा था। इसके बाद विवाद वाले मंडलों के मौजूदा व नवनियुक्त अध्यक्षों को यथावत रखते हुए जिला अध्यक्षों के चुनाव पर रोक लगा दी गई थी। इसके बाद नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों के कारण मामला आगे नहीं बढ़ पाया।

राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बाद बदला समीकरण
पार्टी सूत्रों के मुताबिक अब प्रदेश के अध्यक्ष विष्णुदेव साय जिला अध्यक्ष व उनके महामंत्रियों की तदर्थ नियुक्ति करेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष जगतप्रकाश नड्डा की नई कार्यकारिणी की घोषणा के बाद प्रदेश अध्यक्ष पर इसका दवाब बढ़ गया है। बताया जा रहा है कि सांसद सरोज के राष्ट्रीय नेतृत्व से नजदीकी के कारण अब तक प्रदेश के आला नेता उनकी पसंद को नजरअंदाज करने का साहस नहीं कर पा रहे थे, लेकिन राष्ट्रीय कार्यकारिणी से छुट्टी के बाद समीकरण बदल गया है। राष्ट्रीय महासचिव के पद से हटाए जाने को राष्ट्रीय नेतृत्व के नाराजगी के रूप में देखा जा रहा है।

प्रदेश कार्यकारिणी के साथ घोषणा की तैयारी
पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश आलाकमान द्वारा जल्द ही कार्यकारिणी की घोषणा की तैयारी की जा रही है। इसके लिए नामों की सूची भी तैयार कर ली गई है। इसी के साथ दुर्ग, भिलाई व रायपुर ग्रामीण के जिला अध्यक्ष के नाम की भी घोषणा की तैयारी है। बताया जा रहा है कि प्रदेश कार्यकारिणी में भी सांसद सरोज पांडेय के नजदीकियों को जगह मिलना मुश्किल है।

एक दर्जन से ज्यादा नेता दावेदार
दुर्ग जिला भाजपा के अध्यक्ष पद पर मौजूदा जिला संगठन के महामंत्री और मंडल, नगरीय निकायों व पंचायत के चुनाव में प्रभारी की जिम्मेदारी निभा रहे नेता दावेदार है। इनमें सांसद सरोज के खेमे के शिव चंद्राकर, रत्नेश चंद्राकर, कांतिलाल बोथरा, महामंत्री डोमार सिंह वर्मा व देवेंद्र सिंह चंदेल प्रमुख दावेदार बताए जा रहे हैं। शिव चंद्राकर व रत्नेश चंद्राकर नगर निगम के चुनाव में पराजित हो चुके हैं, ऐसे में उनके नेतृत्व पर सवाल स्वाभाविक है। बालोद व बेमेतरा में महामंत्रियों को अध्यक्ष बनाया गया है ऐसे में जिले के महामंत्रियों को जिम्मेदारी की संभावना अधिक है।

फिर दी जा सकती है महिला को जिम्मेदारी
मंडल चुनाव की तरह जिला अध्यक्ष व महामंत्री के चुनाव में भी खेमेबंदी सामने आ सकती है। अब तक जिला संगठन में सांसद सरोज पांडेय के समर्थकों का वर्चस्व रहा है। अब भी वे जोर लगा सकती है। वहीं सांसद विजय बघेल भी इस बार अपने समर्थकों की नियुक्ति को लेकर गंभीर हैं। सूत्रों का कहना है कि सांसद सरोज पांडेय मौजूदा अध्यक्ष की तरह एक बार फिर महिला कार्ड आगे बढ़ा सकती हैं। ऐसा हुआ तो पूर्व महापौर चंद्रिका चंद्राकर दौड़ में आगे निकल सकती हैं।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned