ऐसी क्या नाराजगी कि विधायक बैठ गए कलक्टोरेट के पोर्च पर, आप भी जानिए सच

ऐसी क्या नाराजगी कि विधायक बैठ गए कलक्टोरेट के पोर्च पर, आप भी जानिए सच

Hemant Kapoor | Publish: Apr, 17 2018 10:18:01 PM (IST) Durg, Chhattisgarh, India

पीएम आवास के नाम पर जोगी नगर के 100 परिवारों को बेदखली का नोटिस दिए जाने से नाराज विधायक अरुण वोरा कलक्टोरेट के पोर्च पर धरने पर बैठ गए।

दुर्ग . पीएम आवास के नाम पर जोगी नगर के 100 परिवारों को बेदखली का नोटिस दिए जाने से नाराज विधायक अरुण वोरा कलक्टोरेट के पोर्च पर धरने पर बैठ गए। विधायक मंगलवार को महिलाओं के साथ मोर्चा लेकर कलक्टोरेट पहुंचे, लेकिन जनदर्शन में आवेदन देने के बजाए पोर्च पर ही बैठ गए। इससे हड़बड़ाए अफसरों ने विधायक को मनाने का प्रयास किया, लेकिन विधायक मामले पर जवाब के लिए निगम कमिश्नर को बुलाने पर अड़े रहे। करीब आधे घंटे बाद कमिश्नर एसके सुन्दरानी ने मौके पर पहुंचकर किसी को भी जबरिया बेदखल नहीं किए जाने का भरोसा दिलाया तब विधायक पोर्च से हटे।

डिप्टी कलक्टर और एडीएम को लौटाया
वोरा की धरने की सूचना पर डिप्टी कलक्टर एसपी वैद्य मौके पर पहुंचे, लेकिन वोरा ने उन्हें ज्ञापन देने से इंकार कर लौटा दिया। इसके बाद एडीएम एसएन मोटवारी विधायक को मनाने पहुंचे। वोरा ने उनसे भी बात से इंकार करते हुए निगम कमिश्नर सुन्दरानी बुलवाने की बात कही। करीब 20 मिनट बाद सुन्दरानी मौके पर पहुंचे और मामले में पक्ष रखा।

सबके सामने कमिश्नर से जवाब-तलब
मौके पर पहुंचे कमिश्नर से वोरा ने सबके सामने मामले को लेकर सवाल-जवाब किए। वोरा ने कहा कि जोगी नगर की बस्ती निगम की नहीं बल्कि रेलवे और सिंचाई विभाग की जमीन पर है। ऐसे में निगम प्रशासन द्वारा किस अधिकार से बेदखली की नोटिस जारी की गई है। उन्होंने नोटिस के शब्दों को लेकर भी आपत्ति दर्ज कराई।

कमिश्नर बोले मर्जी नहीं तो बेदखली नहीं
कमिश्नर सुन्दरानी ने वोरा के सवालों पर बताया कि शहर को स्लम मुक्त बनाने व गरीबों को पक्का मकान देने की योजना के लाभ के लिए शिफ्टिंग की योजना बनाई गई है, लेकिन इसमें किसी तरह की बाध्यता नहीं है। उन्होंने कहा कि जो स्वेच्छा से पीएम आवास में जाना चाहते हैं, उन्हें ही शिफ्ट किया जाएगा। इच्छा के विरूद्ध किसी को भी बदखल नहीं किया जाएगा।

Ad Block is Banned