बारिश के बाद 30 हजार क्यूसेक पानी छोडऩे से शिवनाथ में उफान, तटीय गांवों में अलर्ट घोषित

मोगरा बैराज व राजनांदगांव के जलाशयों से पानी छोड़े जाने के बाद शिवनाथ नदी के तटवर्ती गावों में प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। शिवनाथ में 30 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। (shivnath river durg)

By: Dakshi Sahu

Updated: 23 Aug 2020, 12:28 PM IST

दुर्ग. मोगरा बैराज व राजनांदगांव के जलाशयों से पानी छोड़े जाने के बाद शिवनाथ नदी के तटवर्ती गावों में प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। शिवनाथ में 30 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। कैचमेंट में अच्छी बारिश के कारण सहायक नदी-नालों से भरपूर पानी की आवक हो रही है। इससे नदी में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो सकती है। महमरा सहित शिवनाथ के सभी एनीकट के ऊपर 5़ से 6 फीट तक पानी पहुंच जाएगा। इसे देखते हुए शिवनाथ के तटीय गांवों में अलर्ट घोषित कर लोगों को पानी के आसपास नहीं जाने की हिदायत दी गई है।

लगातार बारिश से ज्यादा जलभराव की संभावना को देखते हुए पहले से ही मोंगरा बैराज से शिवनाथ में 10 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था। इसे बढ़ाकर 20 हजार क्यूसेक करना पड़ा। इसी तरह करीब 9 हजार क्यूसेक सूखा, खातू नाला और घूमरिया बैराज से भी पानी छोडा गया है। शनिवार की रात तक पानी महमरा एनीकट पहुंचने की संभावना है।

अलर्ट, एनीकटों के ऊपर नहीं जाने की हिदायत
जल संसाधन विभाग के अफसरों के मुताबिक पानी से फिलहाल बाढ़ जैसी स्थिति नहीं बनेगी, लेकिन नदी लबालब हो जाएगी। लिहाजा एहतियातन जिला प्रशासन द्वारा नदी व एनीकटों के आसपास लोगों को अलर्ट रहने व पानी बहाव वाले हिस्से जाने का निर्देश जारी किया गया है।

महमरा पहले ही लबालब
महमरा एनीकट पहले ही लबालब है। राजनांदगांव से पानी छोड़े जाने के बाद शनिवार की शाम तक एनीकट के ऊपर करीब 4 फीट पानी हो चुका था। देर रात तक इसके इसके बढ़कर 5 से 6 फीट तक पहुंचने की संभावना जताई जा रही है।

और भी छोडऩा पड़ सकता है पानी
अफसरों के मुताबिक मोंगरा के कैचमेंट में लगातार बारिश हो रही है। इससे अभी एक दो दिन लगातार पानी छोड़ा जा सकता है। राजनांदगांव अथवा कैचमेंट के जिले में अनवरत बारिश होती है तो फिर पानी की मात्रा में और भी बढ़ोतरी की संभावना बन सकती है

जिले के जलाशयों में भी जलभराव
इधर जिले में भी पखवाड़ेभर से अच्छी बारिश हो रही है। इससे जिले को पानी सप्लाई करने वाले बालोद के जलाशयों की स्थिति में भी सुधार हुआ है। 22 अगस्त की सुबह तांदुला में 45.48 फीसदी पानी हो चुका था, रविवार की सुबह तक इसके 50 फीसदी पहुंचने का अनुमान है। वहीं शनिवार की सुबह तक खरखरा 81.12 फीसदी जलभराव हो गया था।

शिवनाथ में कहां से कितना पानी
मोंगरा बैराज- 20 हजार क्यूसेक पानी
सूखा नाला -35 सौ क्यूसेक पानी
घूमरिया बैराज -25 सौ क्यूसेक पानी
खातू टोला बैराज - 25 सौ क्यूसेक पानी

जोखिम न उठाए लोग
तांदुला जल संसाधन संभाग दुर्ग ईई बीजी तिवारी ने बताया कि राजनांदगांव से शिवनाथ में 30 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इससे खास चिंता की बात नहीं है, लेकिन महमरा सहित सभी एनीकट उफनने लगेंगे। इसे देखते हुए नदी व एनीकटों के आसपास सावधानी के निर्देश जारी किए गए हैं ताकि एनीकट से नदी पार करने का जोखिम कोई न उठाए।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned