फिर दिखा बीएस येदियुरप्पा का ज्योतिष प्रेम, बार-बार नाम बदलने के पीछे रहीं ये 10 वजह

फिर दिखा बीएस येदियुरप्पा का ज्योतिष प्रेम, बार-बार नाम बदलने के पीछे रहीं ये 10 वजह

Soma Roy | Publish: Jul, 26 2019 05:04:41 PM (IST) | Updated: Jul, 26 2019 05:05:39 PM (IST) दस का दम

  • B. S. Yeddyurappa CM oath : कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले बीएस येदियुरप्पा ने बदला अपना नाम
  • येदियुरप्पा बिना ज्योतिष की सलाह के नहीं करते हैं अपना जरूरी काम

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के बीएस येदियुरप्पा एक बार फिर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बनने को तैयार हैं। वो आज शाम छह बजे शपथ लेंगे। मगर पिछली बार मुख्यमंत्री बनने के महज सात दिनों में ही उन्हें अपनी दावेदारी छोड़नी पड़ी थी। ऐसे में रिस्क से बचने के लिए येदियुरप्पा ने फिर एक बार ज्योतिष शास्त्र का सहारा लिया है। उन्होंने अपने नाम के अक्षरों में फेरबदल किया है। इससे पहले भी कई येदियुरप्पा का ज्योतिष प्रेम सामने आ चुका है।

1.बताया जाता है कि बीएस येदियुरप्पा ने अपने नाम की स्पेलिंग में बदलाव किया है। इस बात का खुलासा शपथ से पहले राज्यपाल को उनकी ओर से सौंपे गए पत्र से हुआ है। जिसमें उन्होंने अपने नाम की स्पेलिंग में से एक ‘D’ हटाकर उसकी जगह ‘I’ जोड़ा है।

कर्नाटक: राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा करेंगे येदियुरप्पा

2.येदियुरप्पा ने ये बदलाव अपने ज्योतिष से परामर्श करने के बाद किया है। उनके मुताबिक ऐसा करने से उनका कार्यकाल बेहतर जाएगा।

3.वर्तमान में नाम की स्पेलिंग में किए गए बदलाव के तहत पुराने नाम को दोबारा शामिल किया गया है। बताया जाता है कि येदियुरप्पा पहले हटाए गए अक्षर से ही अपना पूरा नाम लिखते थे। मगर पिछले कुछ साल पहले अंक ज्योतिष शास्त्रीयों की सलाह के मुताबिक उन्होंने अपने नाम के अक्षर बदल लिए थे।

4.बीएस येदियुरप्पा ज्योतिष एवं अंकशास्त्र में काफी यकीन करते हैं। इस बात का अंदाजा उनके बार-बार नाम में होने वाले बदलाव से लगाया जा सकता है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत में B.S. Yediyurappa नाम से ही अपनी पहचान बनाई थी।

5.येदियुरप्पा के मुताबिक अंकशास्त्र के हिसाब से उनके नाम की स्पेलिंग बिल्कुल सही थी। वे अपने नाम की इस स्पेलिंग को लकी मानते थे। तभी उन्होंने साल 1975 में हुए उनके पहले चुनाव से लेकर 2007 में 7 दिनों के लिए मुख्यमंत्री बनने तक के लिए उन्होंने अपना यही नाम रखा था।

bs yeddyurappa

6.बताया जाता है कि बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ज्योतिष शास्त्र में इतना ज्यादा यकीन करते हैं कि वे अपना सारा काम शुभ मुहूर्त देखकर करते हैं। एक बार अपनी पार्टी की लॉचिंग की डेट तक उन्होंने इसी चक्कर में बदली थी। उन्होंने ज्योतिषीय सलाह के तहत पार्टी की लॉचिंग तारीख 10 से बदलकर 9 कर दी थी।

9.येदियुरप्पा का तंत्र शास्त्र पर भी यकीन है। उनके लिए ये आस्था का विषय है। तभी वो अपने पिछले सीएम कार्यकाल के दौरान केरल के कई ऐसे मंदिरों में जाया करते थे, जहां काला जादू होता था।

9.येदियुरप्पा अपने सारे काम अपने ज्योतिष गुरू से पूछकर ही करते हैं। इसलिए वो अहम दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने समेत सभी जरूरी काम शुभ मुहूर्त के अनुसार करते हैं।

10.बताया जाता है कि जब येदियुरप्पा अपनी कर्नाटक जनता पार्टी को लांच करने वाले थे। तब उन्होंने केरल के ऐसे चार मंदिरों के दर्शन किए थे, जिसके देवी देवता बहुत प्रभावशाली थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned