'जिंदगी का तम्बू तीन बम्बू पे खड़ा है'- ये हैं अमिताभ बच्चन के 10 दमदार डायलॉग्स

'जिंदगी का तम्बू तीन बम्बू पे खड़ा है'- ये हैं अमिताभ बच्चन  के 10 दमदार डायलॉग्स

Vivhav Shukla | Updated: 11 Oct 2019, 02:13:20 PM (IST) दस का दम

अमिताभ बच्चन के दस दमदार डॉयलाग

नई दिल्ली। 11 अक्टूबर 2019 को बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन 77 साल के हो चुके हैं। अमिताभ करीब 50 सालों से हिंदी फिल्मों में काम कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कई बेहतरीन फ़िल्में दी। अमिताभ ऐसे इकलौते हीरो हैं जिनके उम्र को देखकर फिल्में लिखी जाती हैं। देश का बच्चा-बच्चा उनकी आवाज से ही उनको पहचान लेता है । लेकिन एक वक्त था जब वे अपनी आवाज के कारण ही रिजेक्ट हो गए थे। दरअसल, अमिताभ बच्चन को ऑल इंडिया रेडियो में एक ऑडिशन के बाद मना कर दिया गया था। उनसे कहा गया था आपकी आवाज अच्छी नहीं है। एक वो दिन था एक आज का दिन है। अमिताभ बच्चन के जन्म दिन के मौके पर हम आपको उनके दस सबसे दमदार डायलॉग्स के बारे में बता रहे हैं।

amitabh.jpeg

1- जाओ पहले उस आदमी का साइन लेकर आओ, जिसने मेरे बाप को चोर कहा था। जाओ, पहले उस आदमी का साइन लेकर आओ जिसने मेरी मां को गाली देकर नौकरी से निकाल दिया था। पहले उस आदमी का साइन लेकर आओ जिसने मेरे हाथ पर ये लिख दिया। उसके बाद… मेरे भाई तुम जहां कहोगे वहां साइन कर दूंगा। (दीवार)

2- दैट आई कैन अंग्रेज लीव बिहाइंड, आई कैन टॉक इंग्लिश, आई कैन वॉक इंग्लिश, आई कैन लॉफ इंग्लिश, बिकोज इंग्लिश इज ए वैरी फन्नी लैंग्वेज - (नमक हलाल)

3- कभी-कभी मेरे दिल में ख़याल आता है, कि जिंदगी तेरी जुल्फों की नर्म छाँव में गुजरने पाती तो शादाब हो भी सकती थी - (कभी कभी)

4- जब तक बैठने का ना कहा जाए शराफत से खड़े रहो, ये पुलिस स्टेशन है, तुम्हारे बाप का घर नहीं, इसीलिए सीधी तरह खड़े रहो - (जंजीर)

5- पूरा नाम, विजय दीनानाथ चौहान, बाप का नाम दीनानाथ चौहान, मां का नाम, सुहासिनी चौहान, गांव मांडवा, उम्र छत्‍तीस साल- (अग्निपथ)

amitabh bachchan

6- तुम लोग मुझे ढूंढ रहे हो और मैं तुम्हारा यहां इंतजार कर रहा हूं.. इसे अपनी जेब में रख ले पीटर, अब ये ताला मैं तेरी जेब से चाबी निकाल कर ही खोलूंगा - (दीवार)

7- आज आपके पास आपकी सारी दौलत सही, सब कुछ सही लेकिन मैंने आप से ज्यादा गरीब आज तक नहीं देखा। गुड बाय मिस्टर आरके गुप्ता। - (त्रिशूल)

8- डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है- (डॉन)

9- मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता - (दीवार)

10- जिंदगी का तम्बू तीन बम्बू पे खड़ा है- (शराबी)

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned