जगजीत सिंह की वो 10 ग़ज़लें, जिन्हें सुन आपकी तबियत मस्त हो जाएगी

जगजीत सिंह की वो 10 ग़ज़लें, जिन्हें सुन आपकी तबियत मस्त हो जाएगी
,,

Vivhav Shukla | Updated: 10 Oct 2019, 02:14:15 PM (IST) दस का दम

मशहूर गजल गायक जगजीत सिंह की आज पुण्यतिथि है

नई दिल्ली। 10 अक्टूबर 2011 को ग़ज़ल गायक जगजीत सिंह ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। लेकिन उनके गाए गाने आज भी हमारे दिल और दिमाग में जिंदा है। आठ साल पहले आज क् दिन जगजीत सिंह का ब्रेन हेमरेज की वजह से निधन हो गया था। आज उनकी पुण्यतिथि है। इस मौके पर हम आपको उनकी दस शानदार ग़ज़लों के बारें में बताने रहे हैं जिन्हें सुनकर आपकी तबियत खुश हो जाएगी। तो चलिए जानते हैं उनकी दस खास ग़ज़लों के बारे में।

ये भी पढ़ें- ससुराल में कदम रखते ही सास ने रेखा की थी चप्पलों से पिटाई और फिर..

ये भी पढ़ें- पुलिस इंस्पेक्टर से कैसे बन गए बॉलीवुड के 'जानी', जानें राजकुमार की 10 दिलचस्प बातें

jagjit_singh_.jpg

1- होंठों से छू लो तुम मेरा गीत अमर कर दो, होंठों से छू लो तुम मेरा गीत अमर कर दो (प्रेम गीत)

2- तुम को देखा तो ये ख़याल आया,ज़िंदगी धूप तुम घना साया, तुम को...(साथ-साथ)

3- झुकी झुकी सी नज़र बेक़रार है कि नहीं,दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं (अर्थ )

4- चाँद भी देखा, फूल भी देखा, बादल, बिजली, तितली, जुगनू, कोई नहीं है ऐसा, तेरा हुसन है जैसा (तरकीब)

5- ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो, भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी, मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन, वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी (आज)

जगजीत सिंह को IAS बनाना चाहते थे उनके पिता, सिंगर बनने के लिए भागकर पहुंच गए मुंबई

6- कोई फरियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे, कोई फरियाद तेरे दिल में दबी हो जैसे, तूने आँखों से कोई बात कही हो जैसे जागते जागते एक उम्र कटी हो जैसे, जागते जागते एक उम्र कटी हो जैसे (तुम बिन)

7- चिट्ठी ना कोई सन्देश हो, चिट्ठी ना कोई सन्देश, जाने वो कौन सा देश, जहाँ तुम चले गएल चिट्ठी ना कोई सन्देश, जाने वो कौन सा देश, जहाँ तुम चले गए ( दुश्मन )

8- प्यार मुझसे जो किया तुमने तो क्या पाओगी, मेरे हालत की आंधी में बिखर जओगी,प्यार मुझसे जो किया तुमने तो क्या पाओगी (साथ-साथ)

9- तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो,क्या ग़म है जिसको छुपा रहे हो,तुम इतना..(अर्थ)

10- होश वालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज़ है,इश्क़ कीजे फिर समझिए ज़िंदगी क्या चीज़ है,होश वालों को (सरफरोश)

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned