गणेश स्थापना के समय ध्यान रखें ये 10 बातें, पूरी होगी हर ख्वाहिश

गणेश स्थापना के समय ध्यान रखें ये 10 बातें, पूरी होगी हर ख्वाहिश

Soma Roy | Publish: Sep, 08 2018 08:55:26 AM (IST) | Updated: Sep, 08 2018 08:55:27 AM (IST) दस का दम

गणपति की प्रतिमा स्थापित करते समय दूर्वा के साथ चढ़ाएं ये चीजें, मिलेगा पुण्य

नई दिल्ली। गणेश चतुर्थी इस बार 13 सितंबर को पड़ रही है। इस दिन गणपति पूजन से व्यक्ति की सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। तो क्या है पूजा का सही नियम और कैसे करें गणेश प्रतिमा की स्थापना आइए जानते हैं।

1.गणपति के पूजन के लिए उनकी प्रतिमा का होना आवश्यक है। इसलिए नई प्रमिता लाए। मूर्ति में गणेश जी की सूंढ़ दाईं ओर वाला ले, ये शुभ फलदायी माना जाता है। इन्हें घर लाने से समृद्धि आती है।

2.अगर आप किसी कारणवश गणेश जी की मूर्ति नहीं ला सकते हैं तो एक साबुत सुपारी को भी उनकी जगह स्थापित कर सकते हैं। क्योंकि सुपारी को भगवान गणेश का प्रतीक स्वरूप माना जाता है। इसलिए गणेश पूजन में सुपारी अवश्य अर्पित की जाती है।

3.गणेश जी के घर आगमन पर शंख बजाएं एवं घर में गंगाजल छिड़के। इसके बाद भगवान को विराजमान करने के लिए एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं। अब दूर्वा व पान के पत्ते को गंगाजल में डूबोकर गणपति का स्नान कराएं।

4.अब उन्हें पीले वस्त्र पहनाएं। आप चाहे तो पीले रंग की मौली भी बांध सकते हैं। इसके बाद अक्षत और कुमकुम का तिलक लगाएं और ओम गं गणपतये नम: मंत्र का 21 बार जाप करें।

5.गणपति पूजन के समय प्रतिमा के सामने तांबे या चांदी का एक कलश रखें। इसमें जल भरकर रखें। साथ ही कलश पर लाल रंग की मौली लपेटे। कलश के नीचे थोड़ा चावल रखें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होंगी और घर में समृद्धि आएगी। कलश को हमेशा मूर्ति के दाईं ओर रखें।

6.स्थापना के बाद अब शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं। दीये को गणेश जी की मूर्ति के दाईं तरफ रखें। इसे शुद्ध करने के लिए हाथ में गंगाजल लेकर दीपक के चारों ओर तीन बार घुमाएं।

7.अब अपने सीधे हाथ में जल लेकर इस बात का संकल्प लें कि आप गणपति को अपने घर में कितने दिनों के लिए विराजमान कर रहे हैं। अमूमन गणेश जी को 3, 5, 7, 9 एवं 11 दिनों के लिए रखना शुभ माना जाता है।

8.अब भगवान का ध्यान करते हुए उनका आवाहन करें और उनसे प्रार्थना करें कि वो उन पर अपनी कृपा हमेशा बनाएं रखें। ध्यान करते समय हाथों में पीले पुष्प रखें। प्रार्थना के बाद फूल को गणपति जी को अर्पित कर दें।

9.इसके बाद गजानन को 5 व 21 गांठों की दूर्वा चढ़ाएं। इससे गणपति प्रसन्न होते हैं। इस दौरान आप गजानन की चरणों में पांच इलायची और कमलगट्टा भी भेंट करें। दूर्वा को प्रतिदिन बदल दें। जबकि बाकी चीजों को वैसे ही रहने दें। गणपति पूजन के आखिरी दिन इलायची को खुद एवं अपने परिवार के सदस्यों के साथ प्रसाद के तौर पर ग्रहण करें।

10.वहीं घर में धन के आगमन के लिए गणपति को अर्पित किए गए कमलगट्टों को एक लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें। इससे खूब पैसा आएगा। आप चाहे तो इसे पूजा के स्थान पर भी रख सकते हैं।

Ad Block is Banned