पुलिस इंस्पेक्टर से कैसे बन गए बॉलीवुड के 'जानी', जानें राजकुमार की 10 दिलचस्प बातें जो बहुत कम लोगों को पता हैं

पुलिस इंस्पेक्टर से कैसे बन गए बॉलीवुड के 'जानी', जानें राजकुमार की 10 दिलचस्प बातें जो बहुत कम लोगों को पता हैं
,,

Vivhav Shukla | Updated: 08 Oct 2019, 01:13:04 PM (IST) दस का दम

आज मशहूर अभिनेता राज कुमार की बर्थ एनिवर्सरी है।

नई दिल्ली। आज बॉलीवुड के 'जानी' यानि राजकुमार का जन्मदिन है। राजकुमार जैसे पर्दे पर थे उसी तरह अपने निजी जीवन में भी थे। बिल्कुल बेबाक, निडर। साल 1926 को पाकिस्तान में कश्मीरी पंडित परिवार में जन्मे राजकुमार ने बहुत सी फिल्मों में काम किया लेकिन हमेशा अपनी शर्तों पर। उनको जो चीज नहीं पसंद होती थी वे उसे नहीं करते थे। चाहे क्यों ना फिल्म ही छोड़नी पड़ जाए। आज उनके जयंती पर हम आपको उनके बारें में 10 दिलचस्प बातें  बताने जा रहे हैं जो बहुत कम लोग जानते हैं।

raaj_kumar_birth_day.jpg

1- साल 1940 में राजकुमार मुंबई आए थे। उस वक्त मुंबई, बंबई हुआ करती थी। वे इस शहर में पुलिस में सब इंस्पेक्टर की नौकरी करने लगे। राजकुमार जिस थाने में कार्यरत थे, वहां अक्सर फिल्म उद्योग से जुड़े लोगों का आना-जाना लगा रहता था। एक बार पुलिस स्टेशन में फिल्म निर्माता बलदेव दुबे कुछ जरूरी काम के लिये आये हुये थे।दोेनें में बात हुई और राजकुमार ने तुरंत इस्तीफा देकर हीरो बन गए।

2- एक हवाई सफर के दौरान राजकुमार की मुलाकात जेनिफर से हुई जो एक फ्लाइट अटेंडेंट थी। बाद में राजकुमार ने जेनिफर ने शादी कर ली। शादी के बाद जेनिफर ने अपना नाम बदलकर 'गायत्री' रख लिया।

3- राज कुमार का जंन्म पाकिस्तान में कश्मीरी पंडित के घर हुआ था उनका असली नाम कुलभुषण नाथ पंडित था.

4- राज कुमार ने 1952 की फिल्म रंगीली से अपने अभिनय करियर की शुरुआत की थी.

5- राज कुमार ने 70 से अधिक हिंदी फ़िल्मों में काम किया था। साल 1957 में आई उनकी फिल्म मदर इंडिया ऑस्कर-नामांकित थी।

6- राज कुमार ने चार दशकों तक फिल्में में काम किया और बहुत सी हिट फिल्में दी।

raaj_kumar_birth_.jpg

7- फिल्म 'दिल एक मंदिर' में राज कुमार ने एक कैंसर रोगी का रोल निभाया था। इस रोल के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता की श्रेणी में फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिला था।

8- राज कुमार और दिलीप कुमार की आपस में बनती नहीं थी। लेकिन 30 साल बाद फिल्म 'सौदागर' में दोनों ने साथ काम किया था। हालांकि फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्होंने अपने दृश्यों को छोड़कर कभी भी एक-दूसरे से बात नहीं की.

9- साल 1972 फिल्म पाकीज़ा के लिए वह पहली पसंद नहीं थे. राजेंद्र कुमार सुनील दत्त और धर्मेंद्र को पहले इस फिल्म के लिए साइन किया गया था। लेकिन उन लोगों ने मना कर दिया।

10- 3 जुलाई 1996 को 69 वर्ष की उम्र में गले के कैंसर से उनकी मृत्यु हो गई।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned