जब पाक सेना ने किया था कत्लेआम, 30 लाख लोगों की गर्इ थी जान

siddharth tripathi

Updated: 02 Dec 2015, 05:35:00 PM (IST)

दस का दम

पूर्वी पाकिस्तान के अंदर पाक फौज कर रही थी कत्लेआम

1/10

फाइल फोटो- 1971 में पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) में वहां के नागरिकों को मारते पाकिस्तानी फौज के सैनिक।

1971 तक भारत के पूरब और पश्चिम दोनों में ही पाकिस्तान था। पूर्वी पाकिस्तान में बांग्ला बोलने वाले लोग थे जबकि पश्चिमी पाकिस्तान में उर्दू जबान बोली जाती थी। पूर्वी-पश्चिमी पाकिस्तान में दो हजार किलोमीटर का फासला था, लेकिन ये एक ही मुल्क के दो हिस्से थे। फौज, और सरकारी नौकरियों में पश्चिमी पाकिस्तान के लोगों का दबदबा था। जिसके चलते पूर्वी पाकिस्तान के लोगों ने बगावत कर दी। इस बगावत को दबाने के लिए पाकिस्तान की सेना ने मोर्चा संभाला।

25 मार्च 1971 को पाकिस्तानी सेना ने अपने ही मुल्क के बंगाली भाषी लोगों पर जुल्म ढाहना शुरू किया। इस कार्रवाई को पाकिस्तानी सेना ने आपरेशन सर्च लाइट का नाम दिया। बांग्लादेश की सरकार के आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना के दमन में मारे जाने वालों की तादाद 30 लाख थी। इतना ही नहीं फौज ने दो लाख महिलाओं से बलात्कार किया था। पाक की फौज ने लाखों बच्चों को भी मौत के घाट उतार दिया था। 1971 के युद्ध में करीब 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि 9,851 घायल हो गए थे।

आगे की स्लाइड में जानिए 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध की कैसे हुई शुरुआत

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned