जूता बदल सकता है आपकी किस्मत, इन बातों का हमेशा रखें ख्याल

Vinay Saxena

Publish: Jun, 27 2018 12:12:51 PM (IST)

दस का दम
1/9

ज्योतिषीय ग्रंथ जातक पारिजात के कालपुरूष सिद्धांत में कहा गया है जातक की कुंडली का आठवां भाव पैरों के तलवों और आयु से है। इसी वजह से जूते भी आठवें भाव को संबोधित करते हैं। कहा जाता है कि कुंडली का आठवां भाव कमजोर स्थिति में हो तो मनुष्य को मृत्यु जैसा कष्ट झेलना पड़ता है। इसलिए जूतों का भी इंसान के भाग्य पर गहरा प्रभाव पड़ता है। जूतों पर मूलत: शनि का आधिपत्य होता है, इसलिए पैरों में जिस भी तरह के जूते पहने जाएं, ध्यान रखें कि वह शनि देव को नकारात्मक रूप से प्रभावित न कर रहे हों। अाइए जानते हैं जूतों से जुड़ी कौन सी बातें ध्यान रखना चाहिए।

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned