इस दिवाली चाहते हैं मां लक्ष्मी की कृपा तो इन 10 जगह जला दें दीये, बन जाएंगे सब काम

  • दीयों का दीवाली के दिन काफी महत्व होता है

By: Prakash Chand Joshi

Published: 26 Oct 2019, 09:10 AM IST

नई दिल्ली: दीवाली को यूं ही दीपों का त्यौहार नहीं कहा जाता। इस दिन हर तरफ दीयों की रोशनी होती है। घरों से लेकर दफ्तरों तक, गलियों से लेकर चौराहों तक हर जगह दीप जलते हैं। इस दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए दीप जलाए जाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि किस जगह पर दीये जलाने से फायदा होता है और मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है। चलिए हम आपको इसके बारे में बताते हैं।

de1.png

- शास्त्रों के अनुसार, दीवाली की रात को मां लक्ष्मी भ्रमण पर निकलती हैं। माना जाता है कि जिन घरों में दीवाली की रात जिन घरों में दीपक जलते हैं। मां लक्ष्मी उनके घर में आती है।

 - दीवाली की रात को घर के मेन गेट के दोनों तरफ दीये जलाने चाहिए। ये दीये सरसों के तेल के होने चाहिए।

de2.png

- इस दिन अपने घर की छत पर एक दीया जरूर जलाएं। माना जाता है ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और घर में कृपा बरसती है।

 - पीपल के पेड पर देवी-देवताओं का वास माना जाता है। ऐसे में दीवाली की शाम को पीपल के पेड़ के नीचे दीपक का दिया जलाना चाहिए।

 - दीवाली वाले दिन अपने घर के पास किसी मंदिर में दीया जलाना चाहिए। कहा जाता है कि ऐसा करने से घरों में समृद्धि आती है।

- दीवाली की रात को किसी सुनसान चौराहे पर अगर हो सके तो एक दीया जलाना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से घर में बुरी आत्माओं का साया नहीं आता।

de3.png

- दीवाली के दिन अपनी तिजोरी के पास भी एक दीया जलाकर रखना चाहिए। कहा जाता है कि मां लक्ष्मी तिजोरी की ओर भी जाती है।

- दीवाली की रात को किसी पेड़ के नीचे जिस पर कोई पक्षी बैठते हों, वहां भी दीपक जलाना चाहिए। अगर उस पेड़ पर उल्लू बैठता है तो ये तो और भी काफी फायदा देता है क्योंकि उल्लू मां लक्ष्मी की सवारी है।

- अगर आप अपने घर में रोली बनाते हैं, तो उसके ऊपर भी दीवाली वाले दिन दीया जलाना चाहिए।

- घर के आंगन में भी दीवाली वाले दिन दीया जलाना चाहिए। माना जाता है कि मां लक्ष्मी घर के आंगन से ही घर में प्रवेश करती है।

Prakash Chand Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned