भारत से पहले Apple की हो जाएगी 5 Trillion Dollars Economy!

  • जारी रही एपल की यही ग्रोथ तो 2024 तक भारत से पहले होगी Apple की Economy
  • दो सालों में ही Apple ने दोगुनी तेजी के साथ बढ़ाया अपना मार्केट कैप, बनी 2 ट्रिलियन की कंपनी
  • 16 मार्च से अब तक Apple के Share Price में देखने को मिला दोगुना इजाफा

By: Saurabh Sharma

Updated: 20 Aug 2020, 06:39 PM IST

नई दिल्ली। भारत को दुनिया की सबसे तेज भागने वाली इकोनॉमी माना जाता है। भारत के नेता ही नहीं बल्कि दुनिया की तमाम आर्थिक एजेंसियां भी यही कहती हैं। कोरोना काल में जरूर नुकसान देखने को मिला है। जिससे पीएम नरेंद्र मोदी के उस सपने को झटका दिया, जिसे उनहोंने जनवरी 2018 में देखा था और पूरे देश को एक कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा था, देश को 2025 तक 5 ट्रिलिसन डॉलर की इकोनॉमी ( 5 Trillion Dollar Economy ) को बनाने का, जिसके बाद देश के सभी मंत्री इसी का गुणगान करते आ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर दुनिया की एक स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी इंडियन इकोनॉमी की तेजी को पछाड़ते हुए लगातार आगे की ओर बढ़ रही है। अमरीकी कंपनी एपल 2 ट्रिलियन डॉलर की कंपनी ( Apple 2 Trillion Dollar Company ) बन चुकी है। खास बात तो ये है कि जब पीएम मोदी ने 5 ट्रिलिसन इकोनॉमी की बात की थी तब एपल एक ट्रिलियन डॉलर की भी इकोनॉमी नहीं थी। आज भारत 3 ट्रिलियन तक भी नहीं पहुंच पाया है और एपल दो ट्रिलियन के मुकाम तक पहुंच गई है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो एपल भारत से पहले 5 ट्रिलियन की इकोनॉमी बन जाएगी।

दो सालों में दोगुना हुआ कंपनी का मार्केट कैप
शुरुआत जनवरी 2018 से पीएम मोदी के उस बयान से करते हैं, जब उन्होंने 2025 तक देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने की बात कही थी। उस वक्त एपल का मार्केट एक ट्रिलियन डॉलर भी नहीं पहुंचा था। macrotrends.net मुताबिक जनवरी 2018 में एपल का मार्केट कैप 806 बिलियन डॉलर डॉलर था। जो अगस्त 2018 में बढ़कर एक ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच गया। उसके बाद अगस्त 2019 में कंपनी का मार्केट कैप एक ट्रिलियन से नीचे आते हुए 930 बीलियन डॉलर पर आ गई। लेकिन 2020 में कंपनी ने कमबैक किया और सभी को पीछे छोड़ते हुए 2 ट्रिलियन डॉलर के मार्क को छू लिया।

photo_2020-08-20_17-56-08.jpg

कंपनी के शेयरों में लगातार इजाफा
कंपनी के मार्केट कैप में इजाफा शेयरों में इजाफे की वजह से देखने को मिला। बीते एक साल साल में ग्रोथ की बात करें तो 120 फीसदी का देखने को मिला है। जबकि 2020 में इसमें 57 फीसदी की तेजी देखने को मिली है। कोरोना टाइम की बात करें तो 16 मार्च को कंपनी शेयर 250 डॉलर से भी नीचे आ गया। उस कंपनी का शेयर 241.13 डॉलर पर आ गया था। आज यानी 19 अगस्त को कंपनी का शेयर 463 डॉलर पर बंद हुआ। यानी कंपनी के शेयरों में करीब 100 फीसदी की तेजी देखने को मिली है।

Share Price

दो सालों में भारत की स्थिति
वहीं बात भारत की इकोनॉमी की बात करें तो बीते दो सालों में कुछ खास देखने को नहीं मिली है। 2018 की जीडीपी 2.71 ट्रलियन डॉलर देखने को मिली थी। जबकि 2019 में भारत की जीडीपी मामूली बढ़त देखने को मिली और आंकड़ा 2.85 ट्रिलियन डॉलर पर आकर रुक गया। वहीं बात भारत की संभावित जीडीपी की बात करें तो 3.20 ट्रिलियन डॉलर आंकी गई है। वैसे यह आंकड़ा दुनिया में कोरोना वायरस आने से पहले आंका गया था। कोरोना वायरस के असर से देश की जीडीपी इससे कम रहने के भी आसार है। कई आर्थिक एजेंसिया देश की जीडीपी को लेकर चिंता जता चुकी हैं। जानकारों की मानें तो भारत की जीडीपी वित्तिय वर्ष 2020 के खत्म होने तक 3 ट्रिलियन तक ना पहुंचे। संभावना इस बात की भी है कि वो 2019 की जीडीपी से भी नीचे चली जाए।

photo_2020-08-20_18-07-39.jpg

तो क्या एपल हो जाएगी 5 ट्रिलियन की इकोनॉमी?
अब सवाल यह है कि क्या एपल 2025 तक एपल का मार्केट 5 ट्रिलियन या उसके आसपास तक भी पहुंच पाएगा? ग्रोथ को देखें तो इसमें कोई शक नहीं कि एपल का मार्केट कैप 4 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच सकता है। जानकारों की मानें तो अगले पांच सालों के बारे में कंपनी के बारे में बता पाना काफी मुश्किल है। इस बात में कोई शक नहीं कि कंपनी लगातार ग्रो कर रही है। वहीं संभावना इस बात की भी है कि 2025 तक कंपनी शेयरों के संभावित दाम 700 डॉलर के आसपास होंगे, लेकिन उस वक्त यूएस डॉलर इंडेक्स पर भी डिपेंड करेगा कि वो किस स्तर पर है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned