30 साल में भारतीय लोगों ने 34 लाख करोड़ रुपये का कालाधन विदेश भेजा, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

30 साल में भारतीय लोगों ने 34 लाख करोड़ रुपये का कालाधन विदेश  भेजा, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

Shivani Sharma | Updated: 24 Jun 2019, 06:58:53 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • लोकसभा में पेश किया गया काला धन पर रिपोर्ट।
  • बीते 30 साल में करीब 34 लाख करोड़ रुपये का कालाधन देश के बाहर भेजा गया।
  • तीन प्रमुख संस्थानों ने लगाया रिपोर्ट पर मुहर।

नई दिल्ली। साल 1980 से लेकर 2010 यानी बीते 30 साल में भारतीय लोगों ने 246.48 अरब डाॅलर (करीब 17,25,300) से लेकर 490 अरब डाॅलर (करीब 34,30,000) के बीच काला धन ( black money ) विदेशों में जमा किया है। इसपर एक-दो नहीं बल्कि तीन अलग-अलग दिग्गज संस्थानों ने अपनी मुहर लगाई है। इन संस्थानों का नाम NIPFM, NSAER और NIFM है, जिन्होंने अपने-अपने अध्ययन में यह जानकारी दी है।

इन क्षेत्रों से भेजे गया सबसे अधिक काला धन

इस संबंध में सोमवार को लोकसभा में फाइनेंस स्टैंडिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इन तीनों संस्थानों ने पाया कि सबसे अधिक कालाधन रियल एस्टेट, माइनिंग, फार्मास्युटिकल्स, पान मसाला, गुटखा, तंबाकू, बुलियन, कमोडिट, फिल्म और एजुकेशन सेक्टर से खपाया गया है। कमेटी ने 'स्टेटस ऑफ अनअकाउंटेड इनकम/वेल्थ बोथ इनसाइड एंड आउटसाइड द कंट्री-ए क्रिटिकल एनालिसिस' नामक रिपोर्ट में कहा है कि कालाधन पैदा होने और जमा होने को लेकर विश्वसनीय अनुमान नहीं है। कमेटी ने साथ में यह भी कहा कि इस तरह का अनुमान लगाने के लिए कोई सर्वमान्य तरीका नहीं है।


यह भी पढ़ें: BSNL ने कहा- जून माह में कर्मचारियों को वेतन देने के लिए नहीं है पैसे, सरकार से मांगी मदद

इन तीनों संस्थानों ने लगाई मुहर

रिपोर्ट में नेशनल काउंसिल ऑफ अप्लाइड इकोनाॅमिक रिसर्च ने अपने रिसर्च में पाया कि साल 1980 से 2010 के बीच में 26,88,000 रुपये से लेकर 34,30,000 करोड़ रुपये का कालाधन विदेश भेजा गया है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फाइनेंस मैनेजमेंट ने भी कहा है कि 1990-2010 के दौरान कुल 15,15,300 करोड़ रुपये का कालाधन विदेशों में भेजा गया है। जबकि, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ पब्लिक एंड फाइनेंस ने भी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 1997-2009 के दौरान देश के जीडीपी का 0.2 फीसदी से लेकर 7.4 फीसदी तक काला धन विदेश भेजा गया है।


28 मार्च को सुमित्रा महाजन ने पेश की थी रिपोर्ट

आपको बता दें कि इससे पहले 28 मार्च को सुमित्रा महाजन ( Sumitra Mahajan ) इसकी प्रारंभिक रिपोर्ट पेश कर चुकी हैं। फिलहाल अब इसकी फाइनल रिपोर्ट पेश की जाएगी और पेश करने के बाद इसकी कॉपी को लोकसभा की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा।


यह भी पढ़ें: RBI डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने 6 महीने पहले दिया अपने पद से इस्तीफा, ये है बड़ी वजह


कांग्रेस ( Congress ) के शासन काल में हुआ करोड़ों का नुकसान

सुमित्रा महाजन की प्रारंभिक रिपोर्ट में साल 1990 से लेकर 2008 के बीच में हुए कालेधन की धोखाधड़ी के मामले दर्ज हुए हैं। बता दें कि कांग्रेस के शासनकाल में करीब 9,41,837 करोड़ रुपए का काला धन बाहर भेजा गया हैं। पीएम मोदी ( pm modi ) अपने कार्यकाल में कालेधन को वापस लाने की कोशिश में लगी हुई है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned