Budget 2021: अर्थव्यवस्था बढ़ाने के लिए करने जरूरी हैं ये काम

  • कोरोना वायरस महामारी के बाद बदल गए हैं वित्तीय हालात।
  • अगले वर्ष को लेकर सरकार को बजट में करने चाहिए प्रावधान।
  • इंडिया रेटिंग्स ने एक रिपोर्ट में सरकार को दिए जरूरी सुझाव।

नई दिल्ली। इंडिया रेटिंग्स द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आम बजट (Union Budget 2021) की घोषणा में केंद्र सरकार को मांग की तरफ मुख्य ध्यान देना चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक जब से कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप शुरू हुआ, अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए आपूर्ति से जुड़ी परेशानियों का समाधान किया जा रहा है। रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि अगर मांग पर ध्यान नहीं दिया गया तो सरकार और रिजर्व बैंक की नीतियों के चलते आपूर्ति कितनी भी बेहतर हो जाए, कुछ ही वक्त में माल और सेवाओं की पर्याप्त मांग में कमी के चलते जूझने लगेगी।

बजट 2021 से पहले लोगों-उद्योगों की बढ़ रही हैं उम्मीदें, क्या इनकी राह आसान करेंगी Madam FM

कुछ हाई फ्रीक्वेंसी इंडिकेटर्स से यह संकेत मिले हैं कि उत्पादन स्तर कोरोना से पहले के समय के बराबर पहुंच चुका था। इसके साथ ही त्योहारी मांग के चलते अर्थव्यवस्था भी बेहतर स्थिति में पहुंच गई थी। हालांकि दो माह तक बेहतरीन नतीजों के बाद नवंबर 2020 में फैक्ट्री आउटपुट में कमी आई। इंडिया रेटिंग्स के सुनील कुमार सिन्हा ने बताया मांग पक्ष को सपोर्ट देना बहुत जरूरी है।

उन्होंने कहा कि नीतियों में बदलाव का यह सही वक्त है। सरकार को आपूर्त के साथ-साथ मांग से जुड़ी परेशानियां भी दूर करनी चाहिए। भले ही इससे रिकवरी प्रक्रिया ही धीमी क्यों ना हो जाए। आपूर्ति से जुड़ी दिक्कतों को दूर करने की कोशिश में गलत कुछ भी नहीं है और इसकी वजह बाधित हुई आपूर्ति श्रृंखला को वापस पाने के लिए यह आवश्यक था। इतनी ही नहीं मांग में कमी के कारण रिकवरी भी प्रभावित हो सकती है।

budget 2021: बजट में कला व कलाकारें के लिए मिले विशेष पैकेज

इन सुझावों को मानें सरकारः

  • ऐसे इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट पर खर्च बढ़ाया जाए जो रोजगार बढ़ाने वाले और कम अवधि के हों।
  • ICICI, IDBI और IFCI की तरह के विकासोन्मुख वित्तीय संस्थानों की स्थापना की जाए।
  • गरीब परिवारों की आर्थिक मदद को जारी रखा जाए।
  • MNREGA के लिए ज्यादा से ज्यादा बजट आवंटित किया जाए। इससे ना केवल ग्रामीणों बल्कि कोरोना महामारी के कारण वापस गांव लौटे मजदूरों को भी रोजगार उपलब्ध होगा।
  • रीयल इस्टेट को ज्यादा मदद दी जाए और विशेष रूप से सस्ते आवासीय क्षेत्र को ज्यादा मदद की आवश्यकता है।
  • एमएसएमई को वित्त हासिल करने में परेशानी आ रही है और बेहतर प्रदर्शन के लिए इन्हें सरकारी मदद की जरूरत होगी।
  • सरकार बजट में अपने राजस्व और पूंजी व्यय की प्राथमिकता फिर से तय करे। व्यापक स्तर पर टीकाकरण/सार्वजनिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता दी जाए।
  • उच्च कर राजस्व के जरिये व्यय की रकम की आवश्यकताओं को पूरा किया जाए।
  • राज्यों को पर्याप्त राशि दी जाए और आवश्यकता पड़ने पर केंद्रीय मदद सुनिश्चित की जाए।
Budget 2021
Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned