सीबीआर्इ घूसकांडः पीएम के निर्देश पर वर्मा आैर अस्थाना के आॅफिस सील

अंतरिम निदेशक के नेतृत्व में नर्इ टीम ने सीबीआर्इ बिल्डिंग के 10वें आैर 11वें फ्लोर पर छापेमारी की आैर दोनों को सील कर दिया गया है।

By: Saurabh Sharma

Published: 24 Oct 2018, 10:51 AM IST

नर्इ दिल्ली। सीबीआर्इ में घूसकांड सामने आने के बाद सीबीआर्इ में बवाल बढ़ता जा रहा है। मंगलवार देर रात सीबीआर्इ के अधिकारियों की रेड सुबह तक जारी रही आैर पीएम नरेंद्र मोदी के निर्देश पर अलोक वर्मा आैर राकेश अस्थाना के आॅफिसों को सील कर दिया गया है। जानकारों के अनुसार इस पूरे कलह में अभी आैर नाटक होने बाकी है। इससे पहले दोनों सीबीआर्इ अधिकारियों से कामकाज वापस लेकर छुट्टी पर भेज दिया गया है। फिलहाल सरकार ने नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक नियुक्त किया है।

अंतरिम निदेशक ने की छापेमारी
नागेश्वर राव अभी तक सीबीआई में संयुक्त निदेशक का पद संभाल रहे थे। रातोंरात उन्हें सीबीआर्इ निदेशक जिम्मेदारी दी गर्इ। जिसके बाद अंतरिम निदेशक के नेतृत्व में नर्इ टीम ने सीबीआर्इ बिल्डिंग के 10वें आैर 11वें फ्लोर पर छापेमारी की आैर दोनों को सील कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि सीलिंग की सह कार्रवार्इ पीएम के कहने पर की गर्इ है। वहीं दूसरी आेर सीबीआई ने अपने 2 बड़े अधिकारियों पर भी कार्रवाई करते हुए संयुक्त निदेशक मनीष सिन्हा और एके शर्मा को भी उनके पद से हटा दिया है।

ये लगे हैं आरोप
बता दें कि सरकार ने यह कार्रवाई आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना के बीच चल रहे आरोप-प्रत्यारोपों के चलते की है। राकेश अस्थाना के खिलाफ एक कारोबारी ने 5 करोड़ रुपए रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी है। इसी मामले में सीबीआई के डीएसपी देवेंद्र कुमार को सोमवार को सीबीआई ने गिरफ्तार भी किया था। जिन्हें मंगलवार को 7 दिन की सीबीआई कस्टडी में भेज दिया गया है। वहीं राकेश अस्थाना पर भी गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी, जिसके चलते उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया। जहां से उन्हें राहत मिल गई है और कोर्ट ने फिलहाल अस्थाना की गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए सीबीआई को यथास्थिति बरकरार रखने का निर्देश दिया है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned